आचरण

 

  • “आचरण से अन्तस मिले, हो भी सकता है, नहीं भी। पर अन्तस से आचरण बदलेगा ही बदलेगा, सौ प्रतिशत। कोई संभावना ही ऐसी नहीं है कि ज्ञान हुआ, बोध उठा, पर कर्म नहीं बदला। हो ही नहीं सकता।”
Advertisements