पहचान

  • डिब्बा हीरे को कब पहचान पाया है? डिब्बा में इतनी ही समझ होती तो वो डिब्बा थोड़े ही रहता।”

 

  • एक योगी तो संसारी को पहचान जाता है, पर एक संसारी योगी को नहीं पहचान सकता | तुम्हारे सामने से कृष्ण निकल जाएं, तुम पहचान नहीं पाओगे |” 

    ——————————————————

    उपरोक्त सूक्तियाँ श्री प्रशांत के लेखों और वार्ताओं से उद्धृत हैं

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s