स्वभाव

 

  • “प्रभावों से इन्कार ही स्वभाव का स्वीकार है।”

 

  • “हमारा स्वभाव है, मुक्त रहना, स्वतंत्र रहना।”

 

  • “जैसे सत्य का स्वभाव है फैलना, वैसे माया का स्वभाव भी फैलना है। वो भी फैलती है, और खूब फैलती है।”

 

  • “स्वभाव के विरूद्ध ये भावना होती है, ये वृत्ति होती है, कि स्वभाव के विरुद्ध रहा जासकता है।”

 

  • “न चिंता न चाहत, स्वभाव तुम्हारा है बादशाहत|”

——————————————————

उपरोक्त सूक्तियाँ आचार्य प्रशांत के लेखों और वार्ताओं से उद्धृत हैं