अपने बंधन तुम खुद हो

श्रोता: सर, कहते हैं कि अस्वतन्त्रता को जानना, स्वतन्त्रता की तरफ पहला कदम होता है। लेकिन स्वतन्त्र तो हम हो ही नहीं पा रहे। तो उस अस्वतन्त्रता को जानने का फायदा क्या हुआ? बल्कि उससे तो पहले ही हम बढ़िया जी रहे थे। जानने के बाद हमारे मन में और हमारे जीवन में हलचल हुई, हमें गुस्सा आया कि हम ये कैसी जिंदगी जी रहे हैं। हमने दस बार हाथ पैर मारे कि हम अपनी जिंदगी से कुछ सीखेंगे, लेकिन हम कर ही नहीं पाये। उससे बढ़िया तो अस्वतन्त्रता में ही जीना हुआ क्योंकि उसमें हम शांत थे, सामान्य जी रहे थे। हम थोड़ा असामान्य भी हो जाएँगे तो इसमें कुछ जानने का फ़ायदा क्या हुआ? उस वक़्त इस कदम का फ़ायदा क्या हुआ?


वक्ता:
 तुम इसमें एक चीज़ मानकर चल रहे हो कि तुम जो हो, वो बदल नहीं रहा है। तुम कह रहे हो कि हम पहले नहीं जानते थे कि हम बंधन में हैं, फिर हम जान गए कि हम बंधन में हैं। और तुम कह रहे हो कि जान कर भी अगर परिस्थितियाँ कुछ ऐसी हैं कि बंधन से मुक्त नहीं हो सकते तो जानने का फायदा क्या? उससे तो सिर्फ तनाव आता है, गुस्सा आता है, पता और चल जाता है कि मैं बंधन में हूँ। इसमें तुमने एक बड़ी कल्पना कर ली है। एक बात मान रहे हो- वो ये है कि तुम कुछ हो। अपने शब्दों पर ध्यान दो कि ‘हम बंधन में हैं’। ‘हमने कुछ जान लिया, पर मुक्त नहीं हुए तो क्या हो गया?’ ये जो ‘हम’ हैं, ये क्या है? जब  तुम कहते हो कि ‘मैं बंधन में हूँ’, ये जो ‘मैं’ है, ये क्या है? जब तुम कहते हो कि ‘मैं बंधन में हूँ’, तो ये कौन है जो बंधन में है?

श्रोता: सर, इस बात को मैं अपनी ज़िन्दगी से जोड़ना चाहूँगा।

 वक्ता: आगे मत भागो। रूको! जो बात कही जा रही है उसको समझो, कहानियों का कोई अंत नहीं है। जो उसका मूल मुद्दा है उसको समझो। ये कौन है जिसको तुम कहते हो कि बंधन में हैं? जिसको स्वतन्त्रता नहीं है, ये कौन है?

श्रोता: सर, हम हैं।

वक्ता: ‘हम’ माने क्या ?

श्रोता: सर, अब अपने नाम को तो अपने नाम से ही तो सम्बोधित करेंगे।

 वक्ता: कौन है वो? क्या तुम्हारा शरीर बंधन में है? क्या किसी ने बेड़ियाँ डाल रखी हैं?

श्रोता: सर, शरीर तो बंधन में है ही नहीं।

 वक्ता: तो क्या सोच है जो बंधन में है? और तुम क्या हो, ये भी तुम्हारी अपनी एक सोच ही है, उसके अलावा और तो कुछ नहीं है। तुम क्या हो, ये भी तुम्हारी अपनी एक सोच ही है। ये कोई एक चीज़ नहीं है, जो  स्थाई है, जो बदल नहीं रही है। जब तुम जान जाते हो कि ‘मेरी ये हालत है’, तुमने कहा कि तुम खुद भी अपनी एक सोच ही हो’। तुम क्या हो इस बारे में तुम सोचते ही हो,वो भी एक विचार ही है । जब तुम जान जाते हो कि अभी मेरी हालत खराब है, तो क्या तुम्हारी सोच वही रह गयी जो पहले थी, या बदल गयी? एक बार तुम जान गए कि स्थिति ऐसी-ऐसी है और ये सब चल रहा है, तो तुम अब वही हो जो जानने से पहले थे या अब बदल गए?

श्रोता: बदल गए।

वक्ता: बदल गए ना क्योंकि तुम ख्याल ही तो हो न! । बदलाव आ गया। ठीक है। बंधन में हो, ये तुम सोच रहे थे और बदलाव आ गया। सोच बदल गयी, तो क्या अब बंधन बचा है? तुम सोचते थे कि मैं ये हूँ और जो तुम अपने बारे में सोचते थे, बंधन वही था। तुमने एक बार जान लिया कि यही बंधन है, सोच बदल गयी, अपने बंधन तुम खुद होतो बंधन अब बचा कहाँ। तुमने सवाल पूछा कि मैंने जान भी लिया कि मैं बंधन में हूँ, तो उससे फर्क क्या पड़ता है? बंधन तो अपनी जगह कायम है और मैंने कहा कि तुम एक कल्पना कर रहे हो कि तुम हो और बंधन तुमसे अलग है। और ये बड़ी जबरदस्त कल्पना है। तुम जो कहते हो कि ‘मैं हूँ’ जो बंधन में है। तुम नहीं बंधन में हो, तुम ही बंधन हो। तुम्हारी अपने बारे में जो सोच है, वही बंधी हुई है और उसी का नाम बंधन है। अगर वो सोच बदल गयी,तो अब बंधन बचा कहाँ? अब बंधन नहीं बचा। तो जानना ही अपने आप में काफी है और पूरा बदलाव है। पर तुम्हारा ही नहीं, हम सबका दावा यही रहता है कि जान तो लिया पर कुछ हो नहीं रहा। हमने जाना ही नहीं है। तुमने जाना ही नहीं है और तुम जान इसी कारण नहीं पाये हो क्योंकि तुम्हारा पूरा ध्यान ‘होने’ पर है। तुम्हारा पूरा ध्यान इस बात पर है कि ‘कुछ हो’। और क्या हो? ध्यान देना कि तुम क्या चाहते हो, कि क्या हो? तुम कहते हो कि वो हो जो मुझे अच्छा लगे, जो मुझे मुक्त कर दे। तुम क्या हो? तुम खुद बंधे हुए हो अपनी सोच से और तुम कह रहे हो कि मुझे कुछ ऐसा मिल जाए जो मुक्ति है। बंधन मुक्ति चाह रहा है। बंधन कभी मुक्ति चाह सकता है? बंधन को अगर मुक्ति मिल जाए, तो बंधन को मरना पड़ेगा। तुम जो हो, वो रहते हुए तुम्हें कभी मुक्ति नहीं मिल सकती क्योंकि तुम खुद ही बंधन हो। तुम अपने बारे में जो कुछ सोचते हो, तुम खुद ही तो बंधन हो। बंधन तुम पर कोई बाहरी चीज़ नहीं है जो डाल दिया गया है। तुम्हारी खुद के बारे में धारणा ‘सेल्फ-कॉंन्सेप्ट’ ही तुम्हारा बंधन है। पर तुम कहते हो कि ये ऐसी ही बनी रहे। मैं वही रहूँ जो मैं हूँ और मुक्ति भी मिल जाए। ये वैसी ही बात है कि  अंधेरा कायम रहे और रोशनी भी हो जाये। ये वैसी ही बात है कि एक कमरे में  अंधेरा हो और वो इच्छा कर रहा है कि मैं तो बचा रहूँ और साथ में रोशनी भी हो जाए। वैसे ही तुम्हारी भी इच्छा रहती है कि सर मुझे मुक्ति क्यों नहीं मिल रही है। तुम खुद बंधन हो। तुम्हें मुक्ति कैसे मिल सकती है? तुम क्या हो? तुम अपने बारे में अपना विचार हो। वो बदल गया, मुक्ति मिल गयी और कुछ नहीं बदलना है। पर वो तुम्हें मिलेगी नहीं क्योंकि तुमने ठान रखा है कि मैं  सत्रों (अद्वैत बोध सत्र)  में न आऊँ, मैं कहीं भी जाऊँ, मैं कुछ भी करूँ, कैसा भी हो जाए, मैं पा तो लूँ, पर मैं बदलूँ नहीं। मुझे कुछ मिल जाये, संग्रह हो जाये, पर मैं बदलूँ नहीं। ये वैसी सी ही बात है कि कैंसर का एक मरीज डॉक्टर के पास जाए और कहे कि आपको मुझे जो देना है दे दो, बस मुझसे कैंसर मत छीनना। आप मुझे सारी दवाइयाँ दे दो पर मुझसे कैंसर मत छीनना। ऐसी तुम्हारी हालत है। तुम कहते हो कि मैं नहीं बदलूँगा बाकी मुझे बहुत सारा ज्ञान दे दो, बहुत सारी बातें समझा दो पर मैं बदलूँगा नहीं।

तुम कहते हो कि मुझे मुक्ति दे दो, पर मैं बदलूँगा नहीं। तुम क्या हो? तुम बंधन हो। तो तुम्हें मुक्ति मिल सकती है, पर तुम्हारी इच्छा ऐसी ही है कि कोई मुझे मुक्ति दे दो, पर मैं बदलूँ नहीं। ये तो तुमने बड़ी असम्भव मांग रखी हुई है। ये तुम्हारे काम नहीं आयगी। जब तुम्हारे काम नहीं आएगी, तो तब तुम ये नहीं कहोगे कि मैं ये सब अपनी नासमझी के कारण भुगत रहा हूँ, तब तुम कहोगे मैंने इतने दिनों तक ये सब बातें सुनी, इन सब  सत्रों में बैठा पर मुझे कुछ नहीं मिला। तुम कहोगे कि तीन साल हो गए पर मुझे कुछ मिला नहीं। तुम्हें कुछ कैसे मिल सकता है जब तक तुम कायम हो। तो तुम्हें फ़ायदा कैसे हो सकता है? बात समझ आ रही है? क्योंकि ये जो ‘मैं’ है, यही तुम्हारी बीमारी है। जिसको तुम ‘मैं’ कहते हो, यही तो तुम्हारी बीमारी है। तुमने चाह भी कैसे लिया कि मुझे मुक्ति मिल जाये। इस ‘मुझे’ को तो कभी मुक्ति मिल ही नहीं सकती। क्योंकि ये जो ‘मैं’ है, ये जो ‘मुझे’ है, ये खुद ही बंधनों की पूरी गाँठ है। तुम इसको तो बदलना ही नहीं चाहते क्योंकि इसको बदलने से तुम्हें डर लगता है। इसी के साथ तुमने अपनी पूरी पहचान कर रखी है। ये बदले तो तुम्हें बड़ा गहरा डर लगता है। तुम्हें ऐसा डर लगता है जैसे तुम मर ही जायोगे, गायब ही हो जायोगे। और ये लाजमी है क्योंकि इस ‘मैं’ से ही तो तुमने अपना सब कुछ जोड़ रखा है। तुम कहते हो यही तो ‘मैं हूं’, ये बदल गया तो ‘मैं’ बचा कहाँ। तुम इस बात को ठीक से नहीं देख पा रहे कि ये जो ‘मैं’ है, ये जो तुमने अपने बारे में पूरा ख्याल बना रखा है, इसी का नाम तो बंधन है, इसी का नाम तो बीमारी है, यही तो तुम्हारे ऊपर बोझ की तरह है।

एक आदमी ने बहुत सारा बोझ उठा रखा है और वो आए और कहे कि मुझे कुछ ऐसा दे दो  कि ये बोझ कम हो जाये। वो क्या करेगा? वो अपना बोझ कम कर रहा है, या और बढ़ा रहा है? वही तुम्हारी हालत है। तुम मेरे पास आते हो, कहते हो कि मुझे कुछ और दे दो कि ये बोझ कम हो जाये। अभी भी मुझसे से बात कर रहे हो, तुममें से ज़्यादातर लोग कुछ ले कर जायेंगे। यही तुमने सीखा है कि सबसे कुछ लेना होता है। पर जो भी तुम लोगे उससे तुम्हारा बोझ बढ़ेगा ही। तुमसे अगर दो साल से मिल रहा हूँ तो लगातार यही कह रहा हूँ कि कुछ लो मत, पहले जो उठा रखा है उसको छोड़ दो। सारी प्रक्रिया कुछ और पाने की नहीं है। जो बोझ पहले ही बैठा है उससे मुक्त हो जाने की है। पर तुम्हारी कोशिश ये है कि ये बोझ तो ऐसे ही बना रहे जैसा ये है, तुम कुछ और दे दो। नतीजा यह है दिन पर दिन तुम हल्के होने की जगह और भारी होते जा रहे हो। और फिर तुम्हें चिढ़ उठती है। तुम कहते हो कि फ़ायदा क्या हुआ? हम हल्के होने की जगह और भारी होते जा रहे हैं। पर तुम अपनी करतूत तो देखो कि तुम कर क्या रहे हो। तुम कहते हो कि इस बोझ के साथ तो मैं गहराई से जुड़ा हुआ हूँ, इसको मैं हल्का कैसे करूँगा। तुम पक्का करके आते हो कि ‘मैं’ जो हूँ, ‘मैं’ बदलूंगा नहीं, कुछ और मुझे दे दो। जो भी तुम्हें मिलता जा रहा है, तुम उसे अपने बोझ में जोड़ते जा रहे हो और बोझ लगातार बढ़ता ही चला जा रहा है। तुम जा कर कोई और सत्र अटेंड करो, इलेक्ट्रिकल का,फिजिक्स का, वहाँ पर तुम कुछ  इकट्ठा कर सकते हो। पता चलेगा कि जब तुम कमरे में घुसे थे और जब बाहर निकले,इस दौरान तुमने कुछ इकट्ठा कर लिया। वो बात वहाँ चलेगी। यहाँ पर तुम इकट्ठा करोगे तो बड़ी नासमझी कर रहे हो। यहाँ तुम्हें इकट्ठा नहीं करना है, यहाँ तुमने जो कुछ इकट्ठा कर रखा है, उसको छोड़ना है। तुम बड़ी नाजायज़ मांग करते रहते हो। तुम कहते हो कि बोझ छोड़ना नहीं है, हल्का नहीं करना है। बेड़ियाँ तोड़नी नहीं है फिर भी मुक्त होना है। और जब मांग पूरी नहीं होती,तब भी इतनी ईमानदारी नहीं कि अपनी ओर देखो और कहो कि ‘कुछ भी होगा कैसे? बोझ को तो मैंने खुद दोनों  हाथों से जकड़ रखा है, मैं हल्का हो कैसे जाऊँगा’।

मैं किस बोझ की बात कर रहा हूँ? ये क्या बोझ है जो तुमने पकड़ रखा है, जिसको तुम बंधन कहते हो? ये कौन सा बोझ है? ये क्या है? क्या है तुम्हारा बंधन? जो तुमने अपने आप को बोल रखा है कि – ये सब ‘मैं’ हूँ। तुमने अपने आप को बोल रखा है कि मुझे ये जिम्मेदारी निभानी ही निभानी है। और तुमने पक्का कर रखा है कि इस चीज़ को तो नहीं छोडूंगा। बोझ है वो सब कुछ जो तुमने दुनिया के बारे में मान ही रखा है। अभी मैं तुमसे कहूँ कि क्या ‘करियर’ शब्द को जानते हो? तुम कहोगे कि हाँ! बिल्कुल पता है। मैं कहूँ कि ‘पैसे’ शब्द का अर्थ जानते हो? तुम कहोगे बिल्कुल पता है। ‘पैसे कमाने’ का अर्थ जानते हो? पता है। प्रेम? बिल्कुल पता है। शादी? बिल्कुल पता है। ईश्वर? बिल्कुल पता है। परिवार? बिल्कुल पता है।

यही बोझ  है – जो तुम्हें कुछ पता नहीं है पर तुमने अपने आप को सौ बातें बोल रखी हैं कि मुझे पता है। उनसे तुम भरे हुए हो,उनसे तुम पूरे तरीके से भरे हुए  हो – वही बंधन है। उसको तुम छोड़ना नहीं चाहते। ये ऐसी  ही बात है कि तुमने पहले से ही तय कर रखा है कि मुझे करना क्या है। घर परिवार ने तुमको बता रखा ह ; टी.वी., मीडिया, अखबार ने तुमको बता रखा है  ; इन सब ने तुम्हें बता रखा है कि नाक की सीध में चलते चले जाओ। अब तुम तय करके आये हो कि ये तो मानना ही मानना है, इस चीज से पीछे नहीं हटूँगा। अब कोई आता है और ये कहता है कि नाक की सीध में कुछ नहीं है,बस तुम्हारी बर्बादी है। तुम कहते हो कि नाक की सीध में तो जाना है पर कुछ ऐसा बताइये कि बर्बादी भी ना हो। तुमसे कहा जा रहा है कि सिर्फ एक तरीका है कि नाक की सीध में जाना बंद करो, थोड़ा सर घुमाओ, पूरी दुनिया को देखो; तुम कहते हो कि ये तो नहीं कर सकते। तुम कहते हो ये तो पक्का है कि चलना हमें सीधा ही है। क्योंकि ये हमें हमारे इतिहास ने बता रखा है कि यही करो,तो वो तो हम करेंगे ही करेंगे। आप कुछ और भी बता दो जिससे हमारा फ़ायदा हो जाए।

तुम्हारा फ़ायदा कैसे हो जाये? तुमने जब पहले से ही एक मान्यता बाँध ही रखी है और तुम उस पर अडिग हो कि सीधे तो मुझे चलते ही जाना है, वो नहीं बदलेगा, वही ‘मैं’ हूँ, वही तुम्हारा ‘मैं’ है। तुम्हारा बंधन यही है कि सीधे तो मुझे चलते ही जाना है, उसके अलावा कुछ और दे दो। अरे जब तुम्हें सीधे चलते ही जाना है तो फिर तुम्हें और दे कर तुम्हारा कुछ और भी फ़ायदा हो सकता है क्या? तुम चाहते क्या हो? तुम चाह रहे हो कि सीधे हम जा रहे हैं एक गति से, तो हमें कुछ ऐसा दे दो कि हमारी गति भी दुगनी हो जाये। और तुम बहुत खुश होते हो जब हम तुम्हें कुछ ऐसी चीज दे दें। तुम जा रहे हो आत्महत्या के रास्ते पर, और तुम कह रहे हो कि हमें कुछ ऐसा दे दो कि रास्ता साफ़ हो जाये। जूते अच्छे मिल जायें ताकि गति बढ़ जाए। हम तुम्हारे दुश्मन हैं क्या कि हम तुम्हें कुछ ऐसा दे दें। पर मांग तुम्हारी पूरी यही है। हमें कुछ ऐसा दे दो कि हम जो चाहते हैं वो जल्दी से हो सके। तुम चाहते हो आत्महत्या, वही तुम्हारा बंधन है। उसको छोड़ने को तैयार तो हो। जिस बात से तुम भरे हुए हो, उस बात से पहले खाली तो हो। तुमसे कहा जाए कि तुम क्यों सीधे लगातार जाना चाहते हो? तुम जानते हो कि तुम क्या उत्तर देते हो । तुम कहते हो ‘मैं’ वो हूँ जो सीधे चलता है। ये तुम्हारी अपनी परिभाषा है। तुम कहते हो कि अगर मैंने सीधे चलना छोड़ दिया, तो ‘मैं’ ‘मैं’ ही नहीं रहूँगा। क्योंकि ‘मैं’ हूँ कौन? वो जो सीधे चलता है। तो ये तो मैं नहीं बदलने दूँगा । कुछ और बता दो। कैंसर मैं ठीक नहीं होने दूँगा, कुछ और बता दो। तुम्हें बहुत अच्छा लगे वैसे-वैसे ही बात है कि तुम आओ कि कैंसर का इलाज कराना है, और मैं तुमसे कहूँ कि तुम एक काम करो, सारे बाल साफ़ कर लो। तुम कहोगे बहुत बढ़िया, ये अच्छी चीज पता चली। मैं कहूँ कि जाओ और दो किलोमीटर दौड़ लगाकर कर आ जाओ। अरे बहुत अच्छा मिला। सब कुछ कर लो; हमसे नचवा लो, गवा लो, दौड़ लगवालो, गंजा कर दो, बस एक काम मत करना कि कैंसर छोड़ो। वो हम नहीं छोड़ सकते क्योंकि ‘मैं कौन हूँ’ कि मेरी अपनी परिभाषा क्या है? मैं कौन? जिसे कैंसर है। वो मैं नहीं छोड़ सकता। इस ‘मैं’ को मैं नहीं त्याग सकता बाकी मुझसे जो कराना है करा लो। हर नाच नाचने को  तैयार पर कैंसर नहीं छोडूंगा। बात कुछ समझ में आ रही है?

तुम यहाँ कुछ पाने नहीं आ सकते। तुम ये नहीं कह सकते कि मैं तो वही रहूँगा जो मैं हूँ पर यहाँ से जब निकलूंगा तो कुछ पा कर निकलूंगा। तुम यहाँ सिर्फ छोड़ने आ सकते हो, पाने नहीं। इसी छोड़ने का नाम मुक्ति है, इसी छोड़ने का नाम स्वतन्त्रता है। जो छोड़ने को तैयार नहीं है, उसको यहाँ क्या लाभ हो जाना है ?

 छोड़ने में डर लगेगा क्योंकि छोड़ने में असुरक्षा है। छोड़ने में आदत टूटती है, तो डर लगता है। छोड़ने का अर्थ है कि अभी तक जैसा मैं रहा हूँ, जिस तरीके से जीता रहा हूँ उस ढर्रे को छोड़ दूँ। वो करने में तो डर लगता ही है। पर अगर उस डर का सामना नहीं कर रहे, उस डर को अगर समझ नहीं रहे, तो वैसे भी तुम्हें क्या लाभ हो जाना है?

श्रोता: लेकिन छोड़ने में नुकसान कितना है?

वक्ता: कैंसर को कैंसर छोड़ने में क्या दिखेगा? उसे तो नुकसान ही दिखेगा क्योंकि कैंसर का अगर कैंसर छूट गया, तो कैंसर मर गया। चोर का जो मन है जो पूरी तरह से  संस्कारित है चोरी के लिए, उसे चोरी छोड़ने में क्या दिखेगा, फ़ायदा या नुकसान? तो तुम्हें तो नुकसान ही दिखेगा। पर वो नुकसान भी तो देख लो जो लगातार तुम्हें हो ही रहा है। तुम्हें ये तो कल्पना आती है कि छोड़ दिया तो नुकसान होगा , जो काल्पनिक बात है । होगा कि नहीं होगा, पता नहीं और अगर होगा, तो उसे नुकसान कहा जा सकता है या सच में फ़ायदा है, ये भी पता नहीं है। पर अभी जो तुम्हें हो रहा है, वो तुम्हें अभी नहीं दिखता ।

अभी तुम्हारी जिंदगी कैसी है, ये तुम्हें दिखाई नहीं पड़ती। तुमसे सीधा बैठा नहीं जाता, तुमसे दो मिनट  को बात सुनी नहीं जाती, ध्यान तुम्हारा लगातार इधर-उधर होता रहता है, इतनी उम्र में आकर भी परिपक्वता तुम्हें छू तक नहीं गयी है, जवान हो पर मन विकसित नहीं हो पाया है। बच्चे जैसा ही रह गए  सिकुड़ के, सहम के। ये नुकसान तुमको नहीं दिख रहा है  कि इस रास्ते पर चल कर मैंने कितना नुकसान अपना कर लिया है। जो नुकसान सामने है, प्रत्यक्ष है, वो नहीं दिख रहा। ? तुम किसी और नुकसान की कल्पना करोगे कि कोई और नुकसान हो जायेगा। इतना भयानक नुकसान हो रहा है, जीवन ही खराब हो रहा है, वो नहीं दिखता? आँख खोलो और देखो कि जिस तरीके से चल रहे हो उसमें लगातार नुकसान कितना कर रहे हो अपना । दिन पर दिन कितना नुकसान करते जा रहे हो। किसी काल्पनिक नुकसान की सोच में मत पड़े रहो। थोड़ा सा आँख खोल कर के ध्यान से देख लिया करो कि सुबह- शाम  क्या कर रहे हो। इसे देख लिया करो और पूछा करो अपने आप से कि क्या जिंदगी ऐसी ही होनी चाहिए? ऐसी ही हो सकती है? कुछ और नहीं हो सकती थी? क्या मैं वास्तव में वही हूँ जिसने अपनी पूरी  संभावना को पा लिया है? पूरी भी छोड़ो, जिसने थोड़ा भी अपने आप को खेलने दिया है? फिर आग लगेगी, फिर पता चलेगा कि कितने नुकसान में जी रहे हो। अभी तो तुम देखते भी नहीं हो कि इन रास्तों में कितनी बर्बादी है। तुम कहते हो कि सब चल रहे हैं इसी पर, मुझे भी चलने दो। सब बर्बाद हो रहे हैं, तो बर्बाद होना सामान्य है। जब सामान्य काम ही यही है कि सब बर्बाद हो रहे हैं, तो मुझे भी हो जाने दो। क्या फर्क पड़ गया? घर-द्वार, दोस्त-यार, सब ऐसे ही तो रह रहे हैं। तो मैं भी अगर वैसा हो जाता हूँ तो क्या बुराई हो गयी? वो एक पीड़ा तुमको उठती ही नहीं कि मेरा एक जीवन है और इसके साथ मैं ये क्या कर रहा हूँ? मैं इसको त्याग कर क्या पा सकता हूँ? जब जीवन एक ही है, तो उसकी आहुति चढ़ा कर मुझे बदले में क्या मिल सकता है? और अगर मैं ये सौदा करता हूँ कि अपने को दे दिया, अपनी स्वतन्त्रता को दे दिया तो बदले में मुझे जो भी मिलेगा वो नुकसान का ही सौदा होना है। जैसे आप एक हीरा दे कर दो-चार रुपया ले लो किसी से, वही तुम कर रहे हो। अपने आप को बेच कर कुछ छोटी मोटी सुख सुविधायें ले लेते हो, कि कोई हमें थोड़े बहुत पैसे दे दे, कि कोई हमें रहने को घर दे दे,हमें थोड़ी सहूलियत मिल जाए, हमारी थोड़ी बहुत इज्जत बची रहे।

इन बातों के लिए तुमने उस चीज़ को बेच रखा है जो असली है। ये नुकसान तुम्हें नहीं दिख रहा, ये अरबों का नुकसान है, कोई कीमत ही नहीं रखी, इतना बड़ा नुकसान है ये। और तुम कल्पना करते हो कि आगे नुकसान हो जायेगा। जैसे कोई भिखारी कल्पना करे कि मेरा कुछ लुट न जाये। कोई भिखारी तुम्हें मिले और बड़ा परेशान है, इधर-उधर भाग रहा है। पूछो कि क्या हुआ? बोल रहा है कि मुझे डर है कि मेरा सब कुछ लुट जायेगा। अरे तेरे पास है क्या? तेरे पास बचा क्या है लुटने के लिए? कल्पनायें है बस भिखारी के पास कि  मेरे पास सब कुछ है। तेरे पास क्या है?  आंखे खोल और देख कि जो कुछ था वो तो तूने पहले ही छोड़ दिया,वो तो तू पहले ही बेच चुका है। अब तेरे पास बचा क्या है जो लुटेगा? पर इस डर में रह कर भिखारी को बड़ा आनंद आता है। भिखारी खूब डरेगा कि कहीं मैं लुट ना जाऊँ, कि मेरा कोई नुकसान ना हो जाए। इससे उसको ये लगने लगता है कि शायद मेरे पास कुछ है ही। डर-डर कर वो अपने को एहसास दिलाता है कि मेरे पास कुछ होगा जरूर वरना मुझे डर क्यों लगता ।

एक बाप था। उसने अपने बेटे को बोल रखा था कि वहाँ तिजोरी में तीन सोने की ईंटे रखी हैं। बड़ी ठोस ईंटें हैं और बड़ी कीमती हैं। तिजोरी को ताला मार कर रखा हुआ था। बच्चा जबसे छोटा था तब से उसे यही घुट्टी पिलायी जा रही है कि वहाँ बड़ी कीमती चीजें रखी हैं। बच्चा कहे, ‘बढ़िया पिताजी’ और रात भर दोनों बाप-बेटे जगें और तिजोरी की हिफाजत करें कि इसमें सोने की ईंटें रखी हुई हैं। इस जागने के कारण दोनों में आपस में बड़ा आकर्षण रहे क्योंकि दोनों को एक साझा दुश्मन मिल गया था, कि कोई चोर आकर चोरी ना कर पाये। जब दो लोगों को एक समान दुश्मन मिल जाता है, तो बड़ी दोस्ती हो जाती है। वो तेरा भी दुश्मन है और मेरा भी दुश्मन है, तो हम दोनों दोस्त । बाप-बेटे का बंधन इसी बात पर आधारित था कि तू भी डरा हुआ है और मैं भी डरा हुआ हूँ। दोनों डरे हुए हैं कि कहीं इस सोने की चोरी ना हो जाये और दोनों बहुत खुश हैं। बेटा भी बड़ा खुश है कि मैं तो बड़ा अमीर हूँ। तीस साल तक यही चलता रहा और एक दिन बाप मर गया। जब बाप मरा, तो तिजोरी खोली गयी। उसमें से निकली तीन पत्थर वाली ईंटें। बेटा बड़ा परेशान हुआ, माँ के पास गया। बोला कि बाप ने जिंदगी भर धोखा दिया। बोला कि हमारे पास कोई कीमती चीज़ है। हमारे पास कोई कीमती चीज़ है ही नहीं, और माँ मुझे और तुम्हें दोनों को धोखा दिया। माँ बोली कि मुझे कोई धोखा नहीं दिया, मैं जानती थी। बोला कि माँ बताया क्यों नहीं? माँ बोली कि तीस साल अमीरी में कटे या नहीं कटे? तीस साल तू ये सोचता रहा कि मैं कितना अमीर हूँ। तो और क्या चाहिए? ख्याल काफी है। कल्पना ही तो करनी है कि बहुत कुछ है। कल्पना होती रही और फिर इसी बहाने तू अपने बाप की कितनी इज्जत करता था कि मेरा बाप बड़ा अमीर है। बाप बता देता कि कुछ नहीं है, तो तू इज्जत करता क्या? बल्कि बाप बेटे का रिश्ता ही टूट जाता कि ये नकली है, खाली है। माँ ने कहा कि तुझे आगे के लिए एक सीख देती हूँ, तेरा भी बेटा हो गया है। ये तिजोरी बंद कर दे, कभी खोलना मत। और उसको बता दे कि तीन सोने की ईंटे रखी हुई हैं। माँ बोली कि ये सोने की ईंटें आज की नहीं हैं, ये परम्परा से चली आ रही हैं। और भूल कर भी कभी ये राज़ खोल मत देना कि ये  ईंटें नकली हैं, नहीं तो सारे रिश्ते टूट जायेंगे।

 ऐसे ही हमारे रिश्ते। इन्हीं बातों पर आधारित हैं। जिस तिजोरी को मान कर बैठे हो कि इसमें बहुत कुछ है, कभी उसको खोलकर भी तो देखो। जिन बातों की तुम कल्पना करके बैठे हो, जिन बातों की तरफ तुम्हें लगातार धकेला जा रहा है, कभी जाकर जाँच परख कर भी तो देखो कि सच क्या है। तुम्हें लगातार बोला जा रहा है कि ऐसा-ऐसा भविष्य बना लो। इस तरह की नौकरी कर लो, फिर ऐसे शादी कर लो। अरे,जरा इन बातों के करीब जाओ और फिर देखो कि उनमें कितना सच है और कितना झूठ है। अपने आसपास जिन लोगों को देखते हो, जिन रिश्तों को देखते हो, उन रिश्तों को भी ध्यान से देखो कि इनमें कितना सच है और कितना झूठ है। और अगर ये झूठे हैं, तो मुझे क्यों दिन रात प्रेरित किया जा रहा है कि तुम भी ऐसे रिश्ते बनाओ? पर झूठी ईंटों की परम्परा बड़ी जबरदस्त है। बाप-बेटे को लगातार बोलता रहा कि बेटा सो मत जाना, वरना वर्ना बड़ा नुकसान हो जायेगा, जैसे तुम पूछ रहे हो कि अगर नुकसान हो गया तो! अरे, है क्या तुम्हारे पास खोने के लिए? बंधन ही है। खो दो उनको, अच्छा है तुम्हारे लिए।

– ‘संवाद’ पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

संवाद देखें: अपने बंधन तुम खुद हो

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १ : ज़िम्मेदारी का भ्रम

लेख २ : अपने दुश्मन आप

लेख ३ : मेरा असली स्वभाव क्या है?

2 टिप्पणियाँ

    • प्रिय हिमांशु जी,

      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन की ओर से हार्दिक अभिनन्दन! यह चैनल प्रशांत अद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उनकी ओर से आ रहा है | बहुत ख़ुशी की बात है कि आप आचार्य जी के अमूल्य वचनों से लाभान्वित हो रहें हैं| फाउंडेशन बड़े हर्ष के साथ आपको सूचित करना चाहता है कि निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:

      1. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार: यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है। इस विलक्षण अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      2: अद्वैत बोध शिविर: प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अलौकिक अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित ३५+ बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।

      इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु समर्पित बोध-शिविर का आयोजन करते हैं। इन शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      3. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण: आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं। सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

      4. जागृति माह: फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित आधारभूत विषयों पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा, चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं। सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      आशा है कि आप उपरोक्त माध्यमों के द्वारा आचार्य जी से बेहतर रूप से जुड़कर उनके आशीर्वचनों से कृतार्थ हो पाएंगे।
      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s