विचार तीन प्रकार के

प्रश्न: सर, आपने कहा कि समझ आ जाए, तो जीवन में सोचने-विचारने की आवश्यकता कम हो जाती है| पर क्या समझ विकसित करने के लिए सोचने-विचारने की आवश्यकता नहीं है? क्या सोचने-विचारने का जीवन में महत्व है?

वक्ता: सोचने का जीवन में महत्व है, पर यह महत्व तभी तक है, जब वह अपने आप को ख़त्म कर दे|

देखो मन की गतिविधियाँ तीन स्तरों पर होती हैं| सबसे निचला जो स्तर होता है, उसको कहते हैं, सोचने की असमर्थता, उसको कहा जाता है अविचार| इस स्तर पर तुम क़रीब-क़रीब पत्थर जैसे हो, जिसके पास विचारणा की शक्ति ही नहीं है, वह मन की सबसे निचली अवस्था होती है|

उसके ऊपर आती है अवस्था जिसको हम निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स) कहते हैं| हममें से ज़्यादातर लोग उसी में जीते हैं जहाँ पर सोच निरुद्देश्य है, बस सोचे चले जा रहे हैं| तुम बैठे हो, कुछ सोच रहे हो, और बस सोच रहे हो| इसको फ्रायड ने नाम दिया था- निरुद्देश्य विचारणा का सिद्धांत (प्रिंसिपल ऑफ़ रैंडम असोसिएशन)|

तुम ने काला रंग देखा और उसे देखकर तुमको सड़क का काला रंग याद आ गया| सड़क को देखकर तुम्हें अपना घर याद आ गया क्योंकि तुम सड़क से होकर जाते हो| घर याद आया तो घर के लोग याद आ गये, उनको देखा तो कुछ और याद आ गया| एक निरुद्देश्य चक्र जिसका कोई तर्क नहीं, कोई ठिकाना नहीं, ये बस चल रहा है| तो ये मन की दूसरी अवस्था होती है, ये है निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स)| और पहली कौन-सी होती है?

श्रोता १: सोचने-विचारने की असमर्थता|

वक्ता: ठीक है, उसको कहते हैं, अविचार| दूसरी है, निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स)| तीसरी होती है, शुद्ध विचारणा|

निरुद्देश्य विचार से ऊपर आता है, सचेत विचार, जागृत विचार, शुद्ध विचारणा| शुद्ध विचारणा वह होती है, जैसे कि तुम्हारे सामने एक कठिन सवाल हो तो उसे हल करने के लिए तुम्हें शुरुआत में सोचना पड़ता है| अगर तुम ध्यान दो, तो तुम देखोगे कि तुम गहराई से उसमें डूब गए हो और उसे हल करते ही जा रहे हो| सवाल हल करने की प्रक्रिया में एक क्षण ऐसा आता है जब तुम सवाल हल तो कर रहे होते हो, पर तुम सोच नहीं रहे होते|

शुरुआत तो होती है सोचने से, विचारणा से, और वह विचारणा धीरे-धीरे समझ में बदल जाती है| तो ये तीन तरीके के विचार हुए, और उनसे ऊपर जो चौथा होता है, उसे समझ कहते हैं|

सोच वही अच्छी है जो अंततः समझ में परिवर्तित हो जाए| ऐसी सोच बहुत बढ़िया है जो समझ में परिवर्तित हो जाए| दिन भर हम किस सोच में रहते हैं?

सभी श्रोतागण(एक स्वर में): निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स) में|

वक्ता: वह समझ में नहीं परिवर्तित होती, वह बस चलती रहती है, चलती रहती है| तुम ऐसे समझ लो कि निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स) का मतलब है, इस कमरे के भीतर बस घूमते रहना और जीवन भर बस इसी में घूमते रहना|

शुद्ध विचारणा का मतलब है, चला तो कमरे के भीतर ही पर कुछ ऐसा चला कि कमरे के दरवाज़े तक पहुँच गया और बाहर चला गया| दरवाज़े के बाहर क्या है? समझ| निरुद्देश्य विचारणा (रैंडम थॉट्स) कमरे के भीतर-भीतर ही घूमती रहती है, इसी कमरे से शुरू होती है और दरवाज़े तक पहुँच कर ख़त्म हो जाती है| वह किस में बदल जाती है?

सभी श्रोतागण(एक स्वर में): समझ में|

वक्ता: विचारों का स्थान है जीवन में अगर वह ऐसे हों कि समझ में बदल जाएं| समझ तभी होगी, जब सोच-विचार ख़त्म हो जाए| तब विचार का कोई स्थान नहीं|

-‘संवाद’ पर आधारित| स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं|

संवाद देखें: https://www.youtube.com/watch?v=7bU0ja_vnj0

3 टिप्पणियाँ

  1. A very common question, which popped in my mind as well many times,
    ” does wisdom literature tells you to have a mind without thoughts?”
    And this a misconception with meditation also that it makes one’s mind
    empty, without thoughts.

    Thoughts are property of mind, how can a mind survive without them.
    But yes one kind of thoughts will lead mind to understanding, and another
    will push it into maze of more and more thoughts.

    To make a distinction that which kind of thoughts my mind contain? this blog
    will help in a big way.

    I would recommend this blog to every body who wants to understand mind

    पसंद करें

  2. प्रिय मीतु जी और प्रिय जी ,

    प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन की ओर से हार्दिक अभिनन्दन! यह चैनल प्रशांत अद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उनकी ओर से आ रहा है | बहुत ख़ुशी की बात है कि आप आचार्य जी के अमूल्य वचनों से लाभान्वित हो रहें हैं| फाउंडेशन बड़े हर्ष के साथ आपको सूचित करना चाहता है कि निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:

    1. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार: यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है। इस विलक्षण अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

    2: अद्वैत बोध शिविर: प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अलौकिक अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित ३५+ बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।

    इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु समर्पित बोध-शिविर का आयोजन करते हैं। इन शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

    3. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण: आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं। सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

    4. जागृति माह: फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित आधारभूत विषयों पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा, चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं। सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

    आशा है कि आप उपरोक्त माध्यमों के द्वारा आचार्य जी से बेहतर रूप से जुड़कर उनके आशीर्वचनों से कृतार्थ हो पाएंगे।
    सप्रेम,
    प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s