मेरे लिए कौन सी दिशा सही है?

प्रश्न: कई आवाज़ें उठे मन में, तो कैसे पता चले कि कौन-सी आवाज़ असली है?

वक्ता: जहाँ जो आवाज़ बता रही हो कि – “मेरा पालन करो तो तुम्हें ये मिलेगा और ये मिलेगा, और मेरा पालन नहीं करोगे तो ये नुकसान हो जाएगा और वो नुकसान हो जाएगा,” तो बस उस आवाज़ को मना कर दो। और जो आवाज़ कुछ करने को कह रही हो बिना किसी कारण के, वहाँ पर सम्भावना यही है कि मामला ठीक है। समझ रहे हो क्या कहा?

भीतर से कई आवाज़ें आ रही हैं। एक आवाज़ कह रही है – “इधर जाओ,” एक आवाज़ कह रही है, “इधर जाओ,” और एक कह रही है, “इधर जाओ,” जो आवाज़ डरा रही हो, या लालच दे रही हो, उनको नकार दो। और जो आवाज़ बिना लालच या डर के, किसी ओर भेज रही हो, उसका पालन कर लो। मन विपरीत करेगा। मन को जो आवाज़ डराएगी, या लालच देगी, मन उसका पालन करना चाहेगा। समझ गए?

श्रोता १: सर, लेकिन जो आवाज़ मना करेगी, द्वंद देगी, वो भी तो मन ही है मेरा।

वक्ता: बात मना करने की, या ‘हाँ’ करने की नहीं है। मना करने के पीछे क्या ये कारण दे रही है आवाज़ कि कुछ नुकसान हो जाएगा? जो भी आवाज़ तुम्हें नुकसान की चेतावनी दे रही हो, उस आवाज़ की मत सुनना। और जो भी आवाज़ तुम्हें फायदे का लालच दे रही हो उस, आवाज़ को भी मत सुनना। जो आवाज़ तुमको बिना किसी वजह के ही किसी ओर को धकेल रही हो, उसकी सुन लेना। समझ रहे हो ना ?

श्रोता २: सर, लेकिन अगर इन दोनों के सिवा कोई आवाज़ ही नहीं है? यही है जो है, तब फ़िर क्या करें?

श्रोता ३: सर, अगर इनके अलावा कोई आवाज़ है ही नहीं, मतलब समझ में नहीं आ रहा कि वो आवाज़ डर और लालच के अलावा कहीं है भी, और अगर है भी तो बहुत ही सूक्ष्म है कि सुनाई ही नहीं दे रही, तो ऐसी स्थिति में क्या करें?

वक्ता: जब इनको सुनना बंद करोगे, तो वो सुनाई देगी – सूक्ष्म वाली। मन में यही भरी हुई हैं। कहते हैं न कि नक्कारखाने में तूती की आवाज़ नहीं सुनाई देती। तो मन नक्कारखाना बना हुआ है, धड़- धड़-धड़, तो वो सूक्ष्म आवाज़ नहीं सुनाई देती। इनको आवाज़ों को ज़रा एक तरफ़ करो, तो फिर वो वाली सुनाई दे – सूक्ष्म वाली।

श्रोता ३: सर, मन की प्रकृति होती है कि वो चलता जाए, बस चलता जाए। तो ‘एक तरफ़’ करने का तात्पर्य क्या है?

वक्ता: इन आवाज़ों को ताकत किसने दी?

श्रोता ३: मैंने।

वक्ता:- जितना ज़्यादा तुम इनको सुनते हो, उतनी ज़्यादा इनको ताकत मिलती है। ‘एक तरफ़’ करने का तात्पर्य यही है कि इनको महत्त्व देना…।

सभी श्रोतागण: बंद करो।

वक्ता: जैसे-जैसे इनका महत्त्व कम होता जाएगा, वैसे-वैसे इनका ज़ोर कम होता जाएगा। ये जितनी ज़ोर से चिल्ला रही हैं न, वो ज़ोर कम होता जाएगा। जैसे-जैसे ज़ोर कम होता जाएगा, वैसे-वैसे तुम्हारे लिए और आसान होता जाएगा इनको न सुनना। अभी जो ये इतनी ज़ोर की हो गयी हैं, उसकी वजह यही है कि तुमने इनको हमेशा कीमत दी है। जब भी इस आवाज़ ने तुमसे कुछ कहा है, तुमने इसका पालन कर लिया है। पालन कर-कर के तुमने इनको सिर चढ़ा लिया है।

श्रोता ४: सर, अभी एक और सवाल उठा कि अगर अभी मन नकारा ही है, तो उसे सबसे ज़्यादा डर लगेगा अपनी तरफ देखने में, और उस समय अगर आपका ये फार्मूला लागू करेंगे, तो सबसे ज़्यादा विरोध करेगा एच.आई.डी.पी में आने में, या अद्वैत आने में।

वक्ता: मैंने कहा कि, बात ये नहीं है कि आने को बोल रहा है या जाने को, मैंने कहा कि क्या कारण बता रहा है, क्या नुकसान बता रहा है। अगर वो बता पा रहा है कि क्या नुकसान है, तो तुरंत उस आवाज़ को…?

सभी श्रोतागण: नकार दो।

वक्ता: अगर वो बता पा रहा है कि क्या फ़ायदा है, तो तुरंत उस आवाज़ को…?

सभी श्रोतागण: नकार दो।

वक्ता: बहुत सीधा सूत्र है ये।

श्रोता ४: तो बस ध्यान से देखना है अपने मन को।

वक्ता: “वहाँ चला जा,” “यहाँ मत जा। क्यों? वहाँ जाने में ये फ़ायदा है।” जैसे ही मन फ़ायदा बताए, तुरंत उस आवाज़ को नकार दो। क्योंकि तुम्हें काबू में रखने का और कोई तरीका है नहीं। या तो फ़ायदा गिनाया जाए, या नुकसान दिखाया जाए।समझ रहे हो?

श्रोता ५: नहीं सर।

वक्ता: तुम कुछ भी क्यों करते हो?

श्रोता ५: फ़ायदे या नुकसान के लिए।

वक्ता: जब भी भीतर से कोई प्रेरणा उठे कि – “ये कर लो, इसमें फायदा है”- बस वही काम मत करना।

श्रोता ५: जिसमें नुकसान दिखाई दे, वो भी नहीं करना है?

वक्ता: और जिसमें ये दिखाई दे कि उसमें नुकसान है, वो भी मत करना।

श्रोता ५: सर, करना क्या है ?

(सभी श्रोतागण हँसते हैं)

वक्ता: वही तो उसने पूछा था अभी।

श्रोता ६: सर, अगर ये पता है कि नुकसान होगा, तो फिर भी चले जाएँ?

वक्ता: हाँ, तो चले जाओ। देखो मन का जो पूरा प्रशिक्षण है, वो ये है कि दो दिशाओं में जाओ – या तो फ़ायदे की, और या नुकसान के विपरीत। मन का पूरा प्रशिक्षण ही यही है। और इन्हीं तरीकों से तुम्हें नियंत्रित किया जाता है। तुम कहीं को चलोगे, मन कहेगा, “वहाँ मत जाना, वहाँ…”?

सभी श्रोतागण: नुकसान है।

वक्ता: कहीं और को चलोगे तो मन कहेगा, “वहाँ ज़रूर जाओ, वहाँ…?

सभी श्रोतागण: फ़ायदा है।

वक्ता: मैं तुमसे कह रहा हूँ कि इन दोनों बातों को अस्वीकार कर दो। इन दोनों ही बातों को अस्वीकार कर दो। हाँ, कोई तीसरी आवाज़ सुनाई दे, जो तुमसे कहती हो, “जाओ,” लेकिन ये न बता पाती हो कि क्यों जाओ, क्या फ़ायदा या क्या नुकसान है, तो उस आवाज़ के साथ हो लो। उस आवाज़ का समर्थन करो। समझ में आ रही है बात?

श्रोता ७: सर, कोई उदाहरण।

श्रोता ८: सर, क्या हमें जानकारी होनी चाहिए कि हम कहाँ जा रहे हैं?

वक्ता:- जितनी जानकारी है, उतने के आधार पर ही तो आवाज़ उठती है न। तो जानकारी कुछ तो होगी ही। नहीं है तो और ले लो। सवाल ये नहीं है कि कितनी जानकारी है, सवाल ये है कि उस जानकारी का उपयोग क्या हो रहा है। क्या तुम्हें डराने के लिए या लालच देने के लिए हो रहा है?

श्रोता ७: सर, इसका कोई उदाहरण।

वक्ता: उदाहरण अपने निजी होते हैं, अब इसमें कोई सार्वजनिक उदाहरण नहीं हो सकता।

श्रोता ९: सर, जैसे सत्र में आने की बात है। अगर कोई बहुत समय तक सत्र में न आए, तो फिर एक विचार आता है कि कहीं कुछ गड़बड़ हो जाएगी। ये भी विचार आता है कि नुकसान हो जाएगा। तो मन इसे भी नकारने की कोशिश करेगा।

वक्ता: क्या हो जाएगा? क्या नुकसान हो जाएगा? ये बहुत अस्पष्ट बात है न कि – “नुकसान हो जाएगा।” तुम पूछ लो, “अच्छा बताओ कि क्या नुकसान हो जाएगा?” क्या नुकसान जाएगा? मान लो ये वो आवाज़ है जो तुमसे कह रही है, “जाओ सत्र में, जाओ नॉएडा(अद्वैत बोध स्थल)। ये आई – “जा, नहीं तो नुकसान हो जाएगा।” पूछो, “क्या नुकसान हो जाएगा?”

श्रोता ९: क्या नुकसान हो जाएगा?

वक्ता: वो ठीक-ठीक बता नहीं पाएगा, क्योंकि कोई भी नुकसान बताने के लिए भौतिक नुकसान होना चाहिए, ऑब्जेक्टिव नुकसान होना चाहिए। वो बता ही नहीं सकता, क्योंकि यहाँ न आकर तुम्हारा कोई भौतिक नुकसान नहीं होना है। तो तुम उसको हरा दोगे। उसने क्या कहा? “जाओ, नहीं तो नुकसान हो जाएगा।” तुम उससे सवाल-जवाब करोगे, तुम्हें पता चल जाएगा कि कोई नुकसान होना नहीं है। तुमने उसको सिद्ध कर दिया कि कोई नुकसान नहीं होना है। अब तुम उससे पूछो, “जाऊँ या नहीं जाऊँ?” वो तब भी बोलेगा, “जाओ।” पूछो, “क्यों जाऊँ?”

श्रोता ९: अब भी नहीं बता पाएगा।

वक्ता: तो उसके पास कोई कारण नहीं होगा। जैसे ही तुम पाओ कि तुम्हें कुछ करने की प्रेरणा उठ रही है – अकारण, तुरंत कर डालो। रुकना नहीं, तुरंत कर डालना। और जैसे ही पाओ कि वो बता पा रहा है ठीक-ठीक, मान लो जिस दिन भी वो बोल दे, “वहाँ जाने से दस हज़ार रुपए मिल जाएँगे,” कहना, “बिल्कुल नहीं जाऊँगा।” क्योंकि अब जाने का…?

प्रेरणा

श्रोता १०: प्रयोजन है, वजह है।

वक्ता: वजह है। और वो वजह क्या है? लालच। असल में कोई भी वजह या तो लालच होती है, या डर होता है। और तो कोई वजह होती ही नहीं है न।

श्रोता ११: कुछ भी टैंन्जिबल(ठोस) अगर हमें लग रहा है कि मिल जाएगा, मान-सम्मान कुछ भी हो सकता है, तो वो कारण है।

वक्ता: कुछ भी। कुछ भी जो वस्तुनिष्ठ हो, जो शब्दों में पकड़ा जा सकता है।

श्रोता ११: जो भी मन के दायरे में आ जाए।

वक्ता: हाँ, जो भी मन के दायरे में आ जाए।

उसको अस्वीकार कर दो।

‘शब्द-योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: Prashant Tripathi: मेरे लिए कौन सी दिशा सही है?

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

१) जो महत्वपूर्ण है वो टलता रहा, व्यर्थ से जीवन भरता रहा

२) फ़ायदे का फ़ायदा क्या?

३) मन प्रशिक्षण के अनुरूप ही विषय चुनेगा

2 टिप्पणियाँ

    • प्रिय अनुपमा जी,

      यह वेबसाइट प्रशान्त अद्वैत फाउन्डेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित है एवं यह उत्तर भी उन्हीं से आ रहा है।

      बहुत ख़ुशी की बात है कि आप आचार्य जी के अमूल्य वचनों से लाभान्वित हो रही हैं और जीवन में डर से निजात पाना चाहती हैं।

      फाउंडेशन बड़े हर्ष के साथ आपको सूचित करना चाहता है कि निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से, लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:

      1. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
      यह एक अभूतपूर्व अवसर है, आचार्य जी के सम्मुख होकर, उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
      इस अद्भुत अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें:
      सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      2: अद्वैत बोध शिविर:
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर, आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। निःसंदेह यह शिविर खुद को जानने का सुनहरा अवसर है।

      ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित 31 बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
      इन शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें:
      श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      3. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण:
      आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
      सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें:
      श्री अपार: +91-9818591240

      4. जागृति माह:
      फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा, चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।

      सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें:
      सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      आशा है कि आप उपरोक्त माध्यमों के द्वारा आचार्य जी से बेहतर रूप से जुड़कर उनके आशीर्वचनों से कृतार्थ हो पाएंगी।

      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s