प्रेमियों का प्रेम अक्सर हिंसामात्र है

प्रश्न: हमारा स्वभाव इतना हिंसक क्यों है? हम कुछ भी देखते हैं तो ज़्यादा सोचते नहीं, सीधे उग्र हो जाते हैं। जैसे रास्ते में पत्थर पड़ा है तो उसे लात मारनी है, यह बड़ी आम बात है। ऐसा क्यों?

वक्ता: पत्थर को लात मारने की सम्भावना कब ज़्यादा है?

श्रोता: जब हम गुस्सा हों।

वक्ता: जब गुस्सा हों तो सम्भावना बढ़ जाती है कि एक पत्थर ही पड़ा हुआ है तो उसे लात मार दोगे। तो क्या पता चलता है इससे कि हिंसा का क्रोध से सम्बन्ध है। पत्थर को लात इसीलिए मारी क्योंकि क्रोधित थे। क्रोधित क्यों थे? तो कोई दूसरा था जिससे कोई उम्मीद थी ,वो उम्मीद पूरी नहीं हुई तो क्रोध आया। या अपने आप से भी कोई उम्मीद थी तो वो दूसरों के सन्दर्भ में थी।

तो कुछ दूसरा है जिससे सम्बंधित कुछ हासिल करना है। तो प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से दूसरों से कुछ चाहिए था। नहीं मिला तो, गुस्सा। फिर वही गुस्सा प्रकट्य या अप्रकट्य हिंसा के रूप में उबलता है, विस्फोट होता है। होता है न? जितना ज़्यादा ये भाव होगा कि किसी से कुछ चाहिए, या अपने आप से ही, उतना ज़्यादा उस सम्बन्ध में हिंसा रहेगी।

दुनिया अब और ऐसी होती जा रही है जिसमें भोगने पर ज़ोर है। जिंदगी से और ज़्यादा वसूल लेने पर ज़ोर है, है न? ‘जितना ज़्यादा ज़िन्दगी से नोच खसोट सकते हो नोच खसोट लो।’ तुम्हें लगातार यही शिक्षा दी जा रही है। ‘भोग लो, चूस लो, एक बूँद भी छूट ना जाए।’ है न?

और वो हो नहीं पाता क्योंकि जितना तुम्हें चाहिए उतना तुम्हारी क्षमता के बाहर का है और जितना तुम्हें चाहिए उतना औरों को भी चाहिए। जितना तुम्हें चाहिए वो असीमित है, इसलिए कभी तुम्हारी इच्छा पूरी हो पाए यह हो नहीं सकता। लगातार कहा तुमसे यही जा रहा है कि इच्छाएं और रखो, और बढाओ; नतीजा हिंसा है।

तुम प्रमाण रूप यह देख लो कि तुम सबसे ज़्यादा हिंसक उनके प्रति होते हो जिनसे तुम्हारा कभी ना कभी सम्बन्ध मोह का रहा होता है। उस मोह को कभी-कभार तुम प्रेम का नाम दे देते हो, प्रेम होता नहीं है। पर जो प्रेम वाले रिश्ते होते हैं उनमें जब हिंसा का विस्फोट होता है, तो बड़ा भयानक होता है, क्योंकि चाहते बहुत कुछ थे न। जो दूर के हैं उनसे तो फिर भी कम चाहते हो, जो तुम्हारे करीबी हैं उनसे तो तुम सभी कुछ चाहते हो। और जो चाहते हो वो हो नहीं पायेगा, नतीजा हिंसा है। हो सकता है उस हिंसा का एक बार में विस्फोट ना हो। अगर एक बार में नहीं होगा तो फिर वो एक पुराने घाव की तरह टीस देता रहेगा। एक सतह के नीचे चलने वाली निरंतर हिंसा लगातार बनी रहेगी। तुम अगर संवेदनशील नहीं हो तो तुम्हें लगेगा हिंसा नहीं है, पर सतह के नीचे हिंसा लगातार है। जितना तुम्हारी पा लेने की इच्छा, जितना तुम्हारी भोगने की अभीप्सा, जितना तुम्हारा हीनता का भाव, जितना तुम्हारा लालच, उतना ही तुम्हारा क्रोध और तुम्हारी हिंसा। समझ में आ रही है बात?

दूसरों से दो ही तरह के सम्बन्ध हो सकते हैं, या तो प्रेम के या फिर कामना के। कामना के सम्बन्ध तुम्हारे जिससे भी हैं, सावधान हो जाना, हिंसा मौजूद है, हो सकता है तुम्हें दिख ना रही हो। हिंसा मौजूद है, उसका फल भी भुगत रहे हो, कष्ट भी पा रहे हो।

प्रेम का सम्बन्ध बिलकल दूसरी बात होती है।

प्रेम के सम्बन्ध में बुनियादी चीज़ होती है अपनी आतंरिक परिपूर्णता।

मैं तुमसे इसलिए नहीं जुड़ा हूँ कि मुझे तुमसे कुछ चाहिए। मैं तुम्हें तुमको भोगने के लिए नहीं जुड़ा हूँ। मैं तुमसे इसलिए नहीं सम्बंधित हुआ हूँ कि मैं तुमको भोग लूँ, तुमसे कुछ पा लूँ; यह प्रेम है। बड़ी सीधी सी बात है न?

प्रेम माने जब किसी से यूँही बिना वजह, अकारण, निःस्वार्थ, जुड़ गए हो।

वजह कुछ नहीं, सम्बन्ध फिर भी है।

अगर वैसा कुछ भी है तुम्हारी ज़िन्दगी में तो वो प्रेम है।

वजह कुछ नहीं, नाता फिर भी है, तो यह नाता प्रेम का हुआ। और जहाँ कहीं भी नाते के पीछे वजह है, वहाँ तुम चाह रहे हो। जहाँ तुम्हारा चाहना है वहीँ पर नफरत, घृणा, हिंसा, ये सब आएँगे। आएँगे नहीं, आएँगे से तो हमें ज़रा आश्वस्ति मिल जाती है, थोड़ी सुविधा हो जाती है कि आएँगे, माने भविष्य में आएँगे। आएँगे नहीं आये हुए हैं। विस्फोट हो सकता है भविष्य में हो पर जितनी बीमारियाँ हैं, जितने पैथोजन (रोगज़नक़) हैं उनकी मौजूदगी अभी है। हिंसा बढ़ेगी, और बढ़ेगी, क्योंकि ये जो तुम्हारा पूरा समाज है, पूरी दुनिया है, ये और ज़्यादा भोगवादी होती जा रही है। और ज़्यादा पदार्थवादी होती जा रही है।

इसे सबकुछ भोग लेना है। इसे इंसानों को भोग लेना है, इसे अपनी देह को भोग लेना है, इसे दुनिया, ज़मीन, आसमान, तारे, नदी, पक्षी, सब भोग लेना है। इसके भीतर ये भाव गहराई तक बैठा दिया गया है कि जीवन का अर्थ ही है भोग; बहुत मूर्खतापूर्ण बात है। पहले तुम्हें यह एहसास दिलाया जाता है कि तुम कमज़ोर हो, अधूरे हो, हीन हो। फिर तुमसे कहा जाता है कि चूंकि तुम हीन हो इसलिए भोगो। और भोगने से तुम्हारी हीनता शायद थोड़ी कम हो जाए। कैसा बेवकूफी का तर्क है।

जिस रिश्ते की बुनियाद भोग और हीनता हो उसमें प्रेम थोड़े ही होगा, उसमें तो हिंसा ही होगी। और वो रिश्ता व्यक्ति और व्यक्ति का हो यह ज़रूरी नहीं है। तुमने बिलकुल ठीक कहा, वो रिश्ता व्यक्ति और पत्थर का भी हो सकता है, वो रिश्ता व्यक्ति और वातावरण का भी हो सकता है, व्यक्ति और पर्यावरण का भी हो सकता है, व्यक्ति और उसके पेड़ पर बैठी एक चिड़िया का भी हो सकता है। और मूलभूत रूप से उस व्यक्ति का सम्बन्ध होता है अपने आप से। तुम्हारा अपने आप से क्या सम्बन्ध है, तुम अपने आप को किस दृष्टि से देखते हो, तुम अपने आप को क्या समझते हो, क्या जानते हो।

तुम्हारी यदि परिभाषा ही यही है कि मैं वो जो भूखा है, नंगा है, दरिद्र है, तो तुम पूरी दुनिया को सिर्फ़ कंज़म्पशन (उपभोग) की निगाह से देखोगे। मैं कौन? मैं भिखारी। तो पूरी दुनिया क्या? मेरी मालिक जिससे मैं कुछ ले लूँ और ना मिले तो नोच-खसोट लूँ। जिनकी भी आँखों में भूख देखो, समझ लेना बड़े हिंसक लोग हैं। त्रासदी यह है कि इस भूख को बड़ी उपलब्धि घोषित कर दिया गया है। आज तुमसे कह दिया गया है कि एम्बिशन (महत्वाकांक्षा) बहुत बड़ी बात है; महत्वाकांक्षा। और कोई नहीं है जो तुम्हें यह बता सके कि तुम जितने महत्वाकांक्षी हो तुम उतने ही हिंसक होगे।

तुम्हारे गणमान्य लोग आते हैं और तुम्हें ऐसी बातें बोल के चले जाते हैं कि देखो तुम्हारे भीतर महत्वाकांक्षा तो होनी ही चाहिए। मैं तुमसे साफ़-साफ़ कह रहा हूँ सत्यम (श्रोता को संबोधित करते हुए), ये तुम्हारे दुश्मन हैं। और ऐसी बातों पर ज़रा भी कान मत धरना। जो भी तुम्हें ये बताये कि तुम कमज़ोर हो, तुम नाकाबिल हो, तुम्हारे जीवन में कमियाँ हैं, और इन-इन रास्तों पर चलके तुम उन कमियों को पूरा कर सकते हो, उनकी बातों की ज़रा परवाह मत करना। ये वो लोग हैं जो खुद तड़प रहे हैं, बेचैन हैं, ये दूसरों को सिर्फ़ बेचैनी ही दे सकते हैं।

इनका तो तुमसे कहना ही एक प्रकार की हिंसा है। क्योंकि जो आदमी शांत हो, उसे अशांत कर देना बड़ी हिंसा है। तुम आज के नौजवान हो और लोग परिपक्व होने का दंभ भर के अनुभव को अपना अस्त्र बना के तुम्हारे सामने आते हैं। ये तुमसे कहते हैं कि, “हमारी सुनो हमने दुनिया देखी है। हम अनुभवी हैं।” और फिर ये तुम्हारे मन में ज़हर भरते हैं। ये तुमसे कहते हैं कि इस रास्ते चलो तो इतना पाओगे, उस रास्ते चलोगे तो उतना पाओगे, और तुम्हारे मन में ये कामना के बीज डाल देते हैं।

और याद रखना ये जिस भी रास्ते पर तुम्हें चला रहे हैं, उस रास्ते पर ये खड़े खुद होंगे। जैसे कि कोई उचक्का तुम्हें गलत रास्ते भेजे और फिर उस रास्ते खुद ही तुम्हें लूट ले, ये ऐसे लोग हैं। ऐसा खूब होता है। पहले तो बहुत होता था कि राहगीर जा रहे हैं, उनको गलत रास्ते भेज दो और जब वो गलत रास्ते चल दें तो उनको लूट लो। ये यही काम कर रहे हैं।

समझ रहे हो बात को?

एक काम ये और बखूबी करते हैं। इन्होंने हिंसा के प्रदर्शन को वर्जित कर दिया है। इन्होंने यह भी एक शर्त रख दी है कि ऊपर-ऊपर से यही दिखाना है कि हम बड़े खुश हैं। सतह खूब चिकनी होनी चाहिए। खाल खूब चमकती होनी चाहिए। भले भीतर तुम्हारा दिल, गुर्दा सब खराब हो गया हो। तो ये कहते हैं कि दुनिया को दिखाओ यही कि हम खुश हैं। ये कहते हैं हँसो। पिछले सौ सालों में हँसने पर जितना ज़ोर दिया गया है, उतना मानवता के इतिहास में कभी नहीं दिया गया है।

तुम अपने देवी-देवताओं की मूर्तियाँ देखना, तुम्हें कोई हँसती हुई नहीं दिखाई देंगी। तुम बुद्ध का चेहरा देखो, तुम्हें उसपर सिर्फ़ एक झीनी सी स्मिता दिखाई देगी बस। ठहाका मारते नहीं दिखाई देंगे। यहाँ तक की, तुम अपने स्वतंत्रता सेनानियों के भी चित्र देख लो, तो सहज, शांत, मौन, गंभीर खड़े होंगे। वो तुमको कान से कान मुस्कुराते नहीं दिखाई देंगे।

पर आज के तुम इन तथाकथित सफल लोगों को देखो, जो ये सी.ई.ओ. हैं, जो ये उपलब्धियों पर बैठे लोग हैं, जो सफल लोग हैं, मजाल है कि तुम्हें इनकी कोई शांत फोटो दिख जाए। ये तुम्हें हमेशा कैसे दिखाई देते हैं? हँसते हुए। इनका ये हँसना सिर्फ़ यही प्रदर्शित कर रहा है कि ये कितना रो रहे हैं। जो व्यक्ति रो नहीं रहा उसे इतना हँसने की ज़रुरत नहीं पड़ेगी। कहानियाँ भी हैं, कहते हैं जीसस कभी हँसे ही नहीं। महावीर के बारे में भी यही कहा जाता है, कभी हँसे नहीं। हँसे नहीं क्योंकि उनहोंने रोना बहुत पीछे छोड़ दिया था।

जिसका रोना पीछे छूट गया अब वो हँसेगा क्यों? और जो खूब हँस रहा है, यही समझ लो कि रोना उसके साथ लगा हुआ है। और खूब ज़ोर दिया जाता है न इसपर कि तुम हँसो। और ये जितने हँसने वाले हैं उनके हँसने का कारण सिर्फ़ एक होता है- भोग, पा लेना, उपलब्धि। इनसे बचना! ये हँस के सिर्फ़ हिंसा छुपा रहे हैं। ये हँस के सिर्फ़ अपने आँसू, अपनी कुण्ठा, अपना दुःख छिपा रहे हैं।

और ये हँसने वाली जमात अलग दिखाई देती है। तुम दूर से ही देख के समझ जाओगे। असल में ऐसा समझ लो कि दो ही तरह के धर्म हैं – एक हँसने वालों का और एक शांत रहने वालों का। और जो हँसने वालों का धर्म है ये तुम्हें दिख जायेगा कि ये हँसने वालों की जमात है। वहाँ से तुमको खूब शोर-शराबे की, नकली चेहरों की, व्यर्थ की बातों की खूब गूँज आ रही होगी, खूब महक आ रही होगी। उनके बीच में यदि तुम शांत और मौन हो जाओ तो वे असहज हो जाते हैं। उनके बीच जाने की शर्त ही यही है कि तुम भी हँसो। ये हँसना सिर्फ़ इसीलिए है, मैं दोहरा रहा हूँ, ताकि तुम छिपा सको कि तुम कितने बेचैन और हिंसक हो।

इन हँसने वालों से बचना। मैं यह भी नहीं कह रहा हूँ कि रोने वालों की ओर चले जाना।ये हँसने वाले और रोने वाले एक ही हैं। जो सब के सामने हँस रहा है वो एकांत में रो रहा है। यह एक ही जमात है।

हँसने और रोने के आगे भी कुछ लोग हैं। अगर सौभाग्य है तुम्हारा कि ऐसों से परिचय हो तो उन्हें उम्र भर मत छोड़ना। नहीं तो दुनिया की सारी आबादी का धर्म अब बस यही है – हँसना, रोना, हिंसा। यही मिलेंगे तुम्हें।

बात आ रही है समझ में?

श्रोता: अपनी ज़िन्दगी से दूसरे को हटाएँगे कैसे?

वक्ता: अच्छा सवाल है। देखो, अभी मैं तुम्हारे सामने बैठा हूँ, बैठा हूँ? ऐसे समझ लो कि मैं तुमसे जुड़ा ही इसलिए हूँ क्योंकि मैं सबसे पहले अपने साथ हूँ। असल में मुझे तुमसे बार-बार बोलना पड़ रहा है कि दूसरों को ज़िन्दगी से हटाओ, पर दूसरों को जिंदगी से हटाने का असली अर्थ होता है दूसरों के साथ प्रेमपूर्ण सम्बन्ध बनाना; ये दोनों एक ही बात हैं। सुनने में बड़ी विरोधाभासी लगेंगी, पर इन्हें समझो ध्यान से।

जब तक तुमने दूसरे का प्रभाव अपने ऊपर से हटाया नहीं, तब तक तुम्हारा दूसरे से प्रेमपूर्ण सम्बन्ध नहीं हो सकता।

rt.jpg

अभी थोड़ी देर पहले मैंने कहा था न कि जिस सम्बन्ध में निर्भरता होती है उस सम्बन्ध में प्रेम नहीं हो सकता। तो यदि प्रेम हो तो इसके लिए ज़रूरी क्या है? दूसरे से प्रेम हो इसके लिए ज़रूरी है दूसरे से मुक्ति; यह बात बड़ी विचित्र है, पर समझना। दूसरे से प्रेम हो सके इसके लिए तुम्हें दूसरे से मुक्त होना पड़ेगा। तो मैं तुम्हारे सामने बैठा हूँ, मैं तुमसे जुड़ा तो हुआ हूँ, पर मैं तुमसे मुक्त हूँ। इस वक्त मैं तुमसे पूरे प्रेम से जुड़ा हुआ हूँ, तुम परम सत्ता हो अभी मेरे लिए, लेकिन मैं तुमसे मुक्त हूँ। समझ रहे हो बात को?

अपने में जो पूरा है सिर्फ़ वही स्वस्थ तरीके से दूसरे से जुड़ सकता है।

अपने में पूरे रहो, फिर तुम्हारे सारे सम्बन्ध स्वस्थ होंगे, उनमें प्रेम होगा।

फिर वो निर्भरता के और शोषण के सम्बन्ध नहीं होंगे।

समझ में आ रही है बात?

मैं तुम्हारे साथ हूँ, पर मैं तुम पर निर्भर तो नहीं हूँ न।

इसलिए अभी जो घटना घट रही है वो बड़ी सुन्दर घटना है- साथ हैं, पर साथ होते हुए भी हम मुक्त हैं।

अगर मैं ये करने लग जाऊँ कि तुम निर्भर हो गए मुझपर, तो तुम पाओगे कि शोषण शुरू हो गया है। और अगर मैं निर्भर हो गया तुमपर तो तुम पाओगे कि सत्य छुप गया है, मैं जो बोल रहा हूँ उस बात में उतना दम नहीं रह जायेगा।


~ ‘शब्द योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: Prashant Tripathi: प्रेमियों का प्रेम अक्सर हिंसामात्र है (Violence often looks deceptively like love)

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १: इश्क है बेपरवाही

लेख २: प्रेम बेहोशी का सम्बन्ध नहीं

लेख ३: प्रेम – आत्मा की पुकार

2 टिप्पणियाँ

    • प्रिय रजत जी,

      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन की ओर से हार्दिक अभिनन्दन! यह चैनल प्रशांत अद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उनकी ओर से आ रहा है | बहुत ख़ुशी की बात है कि आप आचार्य जी के अमूल्य वचनों से लाभान्वित हो रहें हैं| फाउंडेशन बड़े हर्ष के साथ आपको सूचित करना चाहता है कि निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:

      1. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार: यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है। इस विलक्षण अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      2: अद्वैत बोध शिविर: प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अलौकिक अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित ३५+ बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।

      इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु समर्पित बोध-शिविर का आयोजन करते हैं। इन शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      3. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण: आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं। सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

      4. जागृति माह: फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित आधारभूत विषयों पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा, चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं। सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      आशा है कि आप उपरोक्त माध्यमों के द्वारा आचार्य जी से बेहतर रूप से जुड़कर उनके आशीर्वचनों से कृतार्थ हो पाएंगे।
      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s