न दृष्टा न सृष्टा न स्वास्थ्य न व्याधि, समाधि की इच्छा का लोप ही है समाधि

fgd

प्रश्न: सर, ध्यान में एक चीज़ होती है मेरे साथ कि जब लगता है सब छूट गया तब दृष्टा को छोड़ता हूँ तो निद्रा पकड़ती है, बेहोशी छाने लगती है। दृष्टा को रखूँ या दृष्टा को जानें दूँ? या साक्षित्व तो पता नहीं क्या है। कृपया प्रकाश डालें।

वक्ता: न बात दृष्टा को रखने की है, न बात साक्षी को रखने की है। इन सब के पीछे जो तुम बैठे हो, दृष्टा, साक्षी, ये तो तुम्हारे हाथ के खिलौने हैं। खिलौने बदल भी लोगे तो क्या फ़र्क पड़ेगा, खेलने वाले तो तुम ही हुए। आज दृष्टा कह रहे हो, साक्षी कह रहे हो, कल तुम कोई विधि, कोई और यंत्र ले आओगे फिर उसकी बात करोगे, क्या फ़र्क पड़ता है। तुम्हीं लेके आये हो, तुम्हीं छोड़ भी सकते हो।

अपने किये की सीमा जानना, बस ये है। अभी जब तुम सवाल कर रहे हो, तुम्हारे सवाल में बड़ी अकड़ है। पूछ तो ज़रूर ये रहे हो कि क्या करूँ, जैसे नहीं पता, लेकिन भावना ये है कि तुम्हारे करे कुछ हो जाएगा। भावना ये है कि न सोऊं तो शायद कुछ हो जाये; दृष्टा को पकड़ लूं तो शायद कुछ हो जाये; साक्षी को पा लूँ तो शायद कुछ हो जाए। भावना लगातार यही है कि मेरे करे होगा।

तुम्हें जो करना है करो। मन के हज़ार रंग, तुम्हें जिस रंग से खेलना है खेलो! पर ये बात छोड़ दो कि कोई भी रंग सत्य का रंग है। तुम्हें जिस दिशा जाना है जाओ। तंत्र, मंत्र, यंत्र – तुम्हें जो इस्तिमाल करना है करो, और नहीं करना तो मत करो। बस ये मान्यता छोड़ दो कि तुम्हारे कुछ करने से, या ना करने से कुछ आना-जाना है। ना तुम्हारे करने से कुछ होना है, ना तुम्हारे ना करने से कुछ होना है।

तुम्हारा दुःख भी बार-बार इसी बात को वैद्यता देता है कि कुछ होना चाहिए था जो हुआ नहीं। जान लो साफ़-साफ़ कि कुछ नहीं है जिसकी ज़िम्मेदारी है होना; कुछ नहीं है जो विशेषतया प्राप्य है तुम्हारे लिये।

ना सत्य की ज़िम्मेदारी है किसी विशेष रूप में आना तुम्हारे समक्ष, और ना तुम्हारी ज़िम्मेदारी है सत्य को प्राप्त करना। कुछ भी होने के लिए जब शेष बचा ही नहीं है तो कौन सी ज़िम्मेदारी किसकी? ज़िम्मेदारी का प्रश्न तो तब उठता है जब अभी कुछ अपूर्ति हो। कुछ करने को बचा हो, तब कहोगे न मेरी ज़िम्मेदारी है उसे कर डालना। कुछ होने को बचा नहीं है, तुम्हारी कुछ करने की ज़िम्मेदारी नहीं है, अतः तुम क्यों दुखी हो रहे हो कि तुम अपने प्रति, अपने कर्त्तव्य का निर्वाह नहीं कर पा रहे?

तुम्हारा कोई कर्त्तव्य है नहीं! जो जैसा है, जहाँ जो चल रहा है, चलने दो। और जब मैं कह रहा हूँ ‘चलने दो’ तो उसमें ये भी शामिल है कि तुम्हारे मन में यदि उठे लहर कि जाएँगे और खेतों में खेल आएँगे, तो उसे भी होने दो। और उठे ये लहर कि आज दुकान पर बैठ कर के पूरे दिन बिक्री बढ़ाएंगे, तो उसे भी होने दो। बस जब बिक्री ना बढ़े तो ये जान लेना कि अस्तित्व की कोई ज़िम्मेदारी नहीं थी बिक्री बढाने की। और ना तुम्हारी ज़िम्मेदारी थी अपने प्रति कि आज तो बिक्री बढ़ानी ही थी। बढ़ गयी तो ठीक है, नहीं बढ़ी तो भी ठीक है, क्योंकि बिक्री बढ़ने से पहले ही बिक्री पूरी थी।

अधिक से अधिक जो मुनाफ़ा तुम्हें हो सकता था तुम उसके ऊपर बैठे ही हुए हो, अब और बिक्री बढ़ा के क्या कर लोगे? हाँ मुनाफा जब इतना हो जाता है तो उसके बाद ज़रा खेलने का मन करता है। देखा है न जिनके पास बड़ी विपुल राशियाँ आ जाती हैं वो फिर सिक्के उछालते हैं। तो जियो ऐसे कि सिक्के उछाल रहे हो। जियो ऐसे कि सिक्के उछाल रहे हो, अपने को बाटें-बाटें जियो।

और ये सब छोड़ो — साक्षी, ध्यान, दृष्टा, ये किन चक्करों में फँस रहे हो। कोई फँसा हुआ है कि शेयर बाजार, चार नयी इमारत और बनवा लें, एक किला और फ़तेह कर लें। कोई फँसा हुआ है कि बस अब साढ़े-तीन हो गए हैं अब चौथा मिल जाए तो तुरिया हो जाएगा। कोई कह रहा बस अब सविकल्प लग गयी है, एक धक्का और दो तो निर्विकल्प भी लग ही जाएगी। क्या झंझटों में फस रहे हो, ये सब धक्के-बाज़ी छोड़ो!

चारों तरफ़ प्रकृति का फैलाव है, संसार का फैलाव है, देह है, मस्त जियो। देह से बाहर कोई समाधि नहीं होती, आत्मा नहीं जाती समाधि में, देह ही जाती है, मन ही जाता है; देह, मन एक हैं। या आत्मा घुसेगी समाधि में? ना हों शास्त्र तो क्या नहीं होगी समाधि? ना हों पूज्य गुरु-जन तो क्या नहीं होगी समाधि?

जो तुम्हारी सहज अवस्था है उसको सहज ही रखो; उसका इतना दुष्कर मत बना दो। जो दुष्कर है, वो दुष्प्राप्य भी हो जाएगा। जो करने में कठिन, वो पाने में तो महा-कठिन हो जाएगा। और तुम सारे काम ही वही बोलते हो जो करने में बहुत कठिन हों — साक्षी! यहाँ आक्छी तो ठीक से हो नहीं पाता! देख रहे हो न कितने लोग हैं जो बेताब हैं छींकने के लिये; कोई इधर से छुपा रहा है, कोई उधर से छुपा रहा है। यहाँ आक्छी वाले तो ठीक से हैं नहीं और तुम साक्षी की बात कर रहे हो!

जब छींक आये तो छींको, यही साक्षित्व है। छींक को रोको मत कि नाक दबा रहे हैं और गला दबा रहें हैं; यही है साक्षित्व।शरीर छींकना चाहता है, फेफड़े उद्धत हो रहे हैं, उन्हें छीकने दो, तुम क्यों बीच में घुसे जाते हो? यही साक्षित्व है — गैर हस्तक्षेप! हमें कोई लेना-देना नहीं, शरीर का काम है, ठीक है। हम यूँ ही मस्त हैं।

ये पूरी प्रकृति सहज समाधिस्त है।

यहाँ किसी को समाधि की तलाश नहीं है। तुम उससे पिंड छुड़ाओ जो समाधि मांग रहा है।

समाधि की इच्छा से पीछा छुड़ा लेना ही समाधि है।

कोई यहाँ नहीं जो समाधि मांग रहा हो। हम भांति-भांति तरीकों से समाधि मांगते हैं – खाने में समाधि मिल जाए, सोने में समाधि मिल जाए, बैंक में समाधि मिल जाए, दफ्तर में मिल जाए, बिस्तर में मिल जाए, प्रेम में मिल जाए, प्रोन्नति में मिल जाए, कहीं तो मिल जाये समाधि! और जब कहीं न मिले तो आध्यात्मिकता में मिल जाए। जिस दिन ये सब मांगे छोड़ दिया उसी क्षण समाधि है।

तीन तरह के लोग होते हैं — पहले, जो ब्रह्म को अनेक-अनेक नामों से बुलाते हैं, मांगते हैं। कोई बोलता हैं ब्रह्म को साड़ी, कोई बोलता है दुकान, कोई बोलता है बेटा-बेटी, कोई बोलता है प्रतिष्ठा, कोई बोलता है प्रेम, चाहिए! ये सब चाहिए! कोई बोलता है ज्ञान, कोई बोलता है विविध तरह के सुखदायी अनुभव। ये सब लोग ब्रह्म ही मांग रहे हैं पर बिखरे हुए नामों से।

फिर एक दूसरा होता है जो कहता है न, वो सारे नाम छलावा हैं, उन सारे नामों से ही मुक्त होना हैं। “अब ना साड़ी चाहिए, ना बीवी चाहिए, ना नौकरी चाहिए, ना गाड़ी चाहिए, ना दुनिया चाहिए, न देश चाहिए, न ज्ञान चाहिए, न अनुभव चाहिए, हमें तो ब्रह्म चाहिए!” अब ये सारे नामों का परित्याग करके, एक नाम पकड़ता है ब्रह्म। इसकी सारी इच्छाएँ गयीं, एक इच्छा बची — ब्रह्म-इच्छा।

फ़िर एक तीसरा होता है जिसे ब्रह्म भी नहीं चाहिए, वो ब्रह्म होता है! समझ रहे हो बात को? निन्यानवे प्रतिशत लोगों को दुनिया चाहिए, उनके लिए दुनिया ब्रह्म है। एक प्रतिशत को ब्रह्म चाहिए। और फिर है ब्रह्म, जिसे कुछ नहीं चाहिए, जिसे ब्रह्म भी नहीं चाहिए।


~ ‘शब्द योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: Prashant Tripathi: न दृष्टा न सृष्टा न स्वास्थ्य न व्याधि, समाधि की इच्छा का लोप ही है समाधि

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १: मेरा असली स्वभाव क्या है?

लेख २: उचित विचार कौन सा?

लेख ३: सत्य के साथ हुआ जाता है, फिर जो छूटता हो, छूटे

Advertisements

2 टिप्पणियाँ

    • प्रिय केदारनाथ जी,

      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन की ओर से हार्दिक अभिनन्दन! यह चैनल प्रशांत अद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उनकी ओर से आ रहा है | बहुत ख़ुशी की बात है कि आप आचार्य जी के अमूल्य वचनों से लाभान्वित हो रहें हैं| फाउंडेशन बड़े हर्ष के साथ आपको सूचित करना चाहता है कि निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:

      1. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार: यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है। इस विलक्षण अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      2: अद्वैत बोध शिविर: प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अलौकिक अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित ३५+ बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।

      इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु समर्पित बोध-शिविर का आयोजन करते हैं। इन शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      3. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण: आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं। सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

      4. जागृति माह: फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित आधारभूत विषयों पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा, चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं। सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      आशा है कि आप उपरोक्त माध्यमों के द्वारा आचार्य जी से बेहतर रूप से जुड़कर उनके आशीर्वचनों से कृतार्थ हो पाएंगे।
      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s