कर्मफल मिलता नहीं, ग्रहण किया जाता है

new-microsoft-office-powerpoint-presentation-2प्रश्न: ‘सब कुछ असत्य परोक्ष रूप से असली है और वास्तविक सीधे वास्तविक है।चोरी इत्यादी कार्य कष्ट देते हैं जब तक हम इस कष्ट का एहसास नहीं करते|’

एहसास किसका? क्या ऐसा है कि यह भी परोक्ष रूप से असली हैं या कष्ट का एहसास हैं?

 श्रोता: इसी से सम्बंधित महर्षि रमण से एक भक्त ने प्रश्न पूछा था, ‘’क्या कर्म का फ़ल मिलना आवश्यक है?’’ तो उन्होंने जवाब दिया, ‘नहीं’| फिर उसने पूछा क्यूँ? तो उन्होंने कहा, एक स्थिति ऐसी आती है जब आदमी का अहंकार ही समर्पित हो जाता है| तो वर्चुअली  जो आत्म के ऊपर आवरण पड़ा हुआ है वो समाप्त हो जाता है और वो आत्म ही हो जाता है| आत्मा होने के बाद अच्छे या बुरे किसी भी संस्कार के फल न मिलने को मुक्ति कहते हैं| उसी तरह से यह जो फ़ल की बात कही जा रही है, तो उस स्थिति में, जिसका रमण वर्णन करते हैं, वो कहते हैं कि ऐसी स्थिति भी आ जाती है जब किसी भी कर्म का, अच्छे या बुरे किसी का फ़ल नहीं मिलता|

वक्ता : फ़ल मिलने के लिए कोई होना चाहिए, जिसे फ़ल मिले| फ़ल मिला, किसको? जब शंकर कहते हैं कि बोध से तीनों प्रकार के कर्मों का विघलन हो जाता है| तो क्या कहते हैं? यही कहते हैं न कि जिसको सज़ा मिल सकती थी, वही नहीं रहा| जिसको फ़ल मिलता, वही नहीं रहा| आपने पूछा था न अभी कि लोग अपने कर्म फ़ल भुगत रहे हैं| कौन भुगत रहा है कर्म फ़ल? हमने क्या कहा था? वो जो उन कर्मों को अपना कर्म समझता है, उन कर्मों का फिर फ़ल भी भुगतेगा| जो उस कर्म के साथ बद्ध है ही नहीं, वो फिर उस फ़ल के साथ भी कहाँ से बद्ध हो जाएगा|

 श्रोता: मेरा कर्ता कहाँ से आएगा?

 वक्ता: ठीक है, कल कुछ हुआ था| जो कल समय में था, मुझे उससे कुछ आसक्ति है नहीं| तो उसके किए हुए से मुझे कहाँ से आसक्ति हो जाएगी? एक बात कह रहा हूँ, उसको थोड़ा सा समझेंगे–

”कर्म फ़ल मिलता नहीं है, ग्रहण किया जाता है”|

 ग्रहता समाप्त हो गई, कर्म फ़ल समाप्त हो जाएगा| कर्म फ़ल कभी मिलता नहीं है| बात को थोड़ा आगे बढ़ाएँ तो यूँ भी कह सकते हैं कि कर्म फ़ल माँगा जाता है|

 श्रोता: कर्म फ़ल खुद ही उत्पादित किया जाता है |

 वक्ता: कर्म फ़ल ग्रहण किया जाता है| मैं हूँ इस फ़ल का वारिस, मुझे दो|

 श्रोता: ग्रहण करने में आपको लगता है कि दूसरा कोई दे रहा है|

 वक्ता: हाँ, दूसरा ही कोई दे रहा है|

श्रोता: दूसरा कौन ?

 वक्ता: स्थितियाँ हैं| आप माँग रहे हो उनसे| मेरे पिता की संपत्ति है, मुझे दो| आप ग्रहण ना करो तो वो फ़ल आपको नहीं मिलेगा| ग्रहण करने वाला मन मौजूद है इसीलिए कर्म का फ़ल मिलता है| आप मत करो ग्रहण, कोई फल नहीं मिलेगा| हम तैयार बैठे हैं| हमें कर्म से आसक्ति है और कर्म हमारे लिए है क्या? सिर्फ फ़ल पैदा करने का तरीका| मैं पूछ रहा हूँ, हमारे लिए कर्म क्या है? हम किसी भी कर्म में क्यूँ उतरते हैं?

 श्रोता: फ़ल के लिए उतरते हैं|

 वक्ता: ताकि फ़ल मिले! ताकि फ़ल मिले उसका और फ़ल निश्चित रूप से वही, जो हमें प्रिय हो| तो हमें जैसे कर्म से आसक्ति है, वैसे ही हमें कर्म फ़ल से आसक्ति है क्यूँकी हमारे लिए कर्म है ही कर्म फ़ल की खातिर| आप कर्म फ़ल के ग्राहक बनना छोड़ो, वो आपको मिलेगा नहीं, बिलकुल नहीं मिलेगा|

 श्रोता: इसके साथ परेशानी यह है न कि वो वाला अनुभव आती है कि कोई हिसाब लिख रहा है और आपका हिसाब किया जा रहा है फिर आपको बाद में दिया जाएगा| उस तरह की एक छवि बन रही है|

 वक्ता: छवि बिलकुल ठीक है| प्रकृति में फ़ल लगातार है और जो तुमने शब्द इस्तेमाल किया कि हिसाब लिखा जा रहा है, हिसाब भी लिखा जा रहा है| इसमें कोई शक़ नहीं है| एक-एक जो मैं खा रहा हूँ, दशमलव के पाँचवे अंक तक इसकी कैलोरी  गिनी जा रही है| अभी मैं बिस्कुट खा रहा हूँ और दशमलव के पचासवें अंक तक शरीर इसकी कैलोरी गिन रहा है| फ़ल मिल के रहेगा, तो हिसाब बिलकुल लिखा जा रहा है| प्रकृति तो है ही कार्य-कारण का लेखा-जोखा, हिसाब-किताब| वहाँ पर तो तुम्हारे एक-एक क्षण का हिसाब लिखा जाता है| चित्रगुप्त कौन है? प्रकृति स्वयं चित्रगुप्त है| तुम ज़रा सा ईंधन जलाते हो, फॉसिल फ्यूल , उतने से भी वातावरण में कार्बन-डाई-ऑक्साइड  की एक निश्चित मात्रा बढ़ रही है| इतने से भी! इतना सा भी छोड़ा नहीं जा रहा| जैसे कहते हैं न, “चित्रगुप्त इतना सा भी नहीं छोड़ता”| छोटे से छोटे, छुपे से छुपे कर्म को भी वो पकड़ कर लिख लेता है, ठीक वो हो ही रहा है| अस्तित्व क्या है? अस्तित्व चित्रगुप्त है| कार्य-कारण की श्रृंखला है लम्बी| किया तो फल आएगा| तुम जब तक प्रकृति के ही हिस्से हो, उसी से तादात्मय है तुम्हारा, तब तक जो हुआ है वो भुगतोगे क्यूँकी भुगतने वाला मौजूद है|

 प्रकृति ही करती है और प्रकृति ही भोगती है| जब तुम वहाँ हो जाओगे, जहाँ न करना है और न भोगना है, तब तुम ग्रहण करने से मुक्त हो गए|

 तब कर्म लगातार चल रहे हैं और कर्मों को जो ग्रहण करते हैं वो कर रहे हैं| तुमने वो आसक्ति छोड़ दी| हम नहीं करते ग्रहण, हम नहीं करते| बहुत दूर की कौड़ी है लेकिन, उसके लिए तुम्हें कहना पड़ेगा, बिस्कुट खा रहा है शरीर, ग्रहण कर रहा है शरीर| फूलेगा कौन? शरीर| हम नहीं फूलते पर तुम्हें वहाँ पर स्थित होना पड़ेगा, जहाँ पर शरीर फूलता है तुम नहीं फूलते| वो फिर अमरता है, वो मौत के पार जाने वाली बात है क्यूँकी यदि शरीर फूलता है और तुम नहीं फूलते तो जब शरीर जलेगा भी, तब तुम जलते नहीं| वो अमरता है|


‘शब्द-योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: आचार्य प्रशांत: कर्मफल मिलता नहीं, ग्रहण किया जाता है(You get, what you ask for)

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १: क्या कर्मफल से मुक्ति सम्भव है?

लेख २:कर्ताभाव भ्रम है 

लेख ३: कर्त्तव्य सज़ा है नासमझी की


सम्पादकीय टिप्पणी:

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़न http://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट https://goo.gl/fS0zHf

Advertisements

2 टिप्पणियाँ

    • कृपया इस उत्तर को ध्यान से पढ़ें | आचार्य जी से जुड़ने के निम्नलिखित माध्यम हैं:

      १: आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
      यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से रूबरू होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
      इस अद्भुत अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      २: अद्वैत बोध शिविर:
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर हैं। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग अपने जीवन से चार दिन निकालकर प्रकृति की गोद में शास्त्रों का अध्ययन करते हैं, मुक्त होकर घूमते हैं, खेलते हैं, और आचार्य जी से प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिकता अपने जीवन में देखते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, रानीखेत, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नयनाभिराम स्थानों पर आयोजित पचासों बोध शिविरों में हज़ारों लोग कृतार्थ हुए हैं।
      इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु एक अभिभावक-बालक बोध शिविर का आयोजन भी करते हैं।
      शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      ३. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण:
      आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
      सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

      ४. जागृति माह:
      फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
      सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      ५.पार से उपहार:
      प्रशांत-अद्वैत फाउंडेशन की ओर से आयोजित किया जाने वाला यह मासिक कार्यक्रम जन सामान्य को एक अनोखा अवसर देता है, गुरु की जीवनशैली को देख लाभान्वित होने का। चंद सौभाग्यशालियों को आचार्य जी के साथ शनिवार और इतवार का पूरा दिन बिताने का मौका मिलता है। न सिर्फ़ ग्रंथों का अध्ययन, अपितु विषय-चर्चा, भ्रमण, गायन, व ध्यान के अनूठे तरीकों से जीवन में शान्ति व सहजता लाने का अनुपम अवसर ।
      स्थान: अद्वैत बोधस्थल, ग्रेटर नॉएडा
      भागीदारी हेतु ई-मेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनु बत्रा: +91-9555554772

      ६. त्रियोग:
      त्रियोग तीन योग विधियों का एक अनूठा संगम है | रोज़ सुबह दो घंटे तीन योगों का लाभ: हठ योग, भक्ति योग एवं ज्ञान योग | आचार्य जी द्वारा प्रेरित तीन विधियों का यह मेल पूरे दिन को, और फिर पूरे जीवन को निर्मल निश्चिन्त रखता है |
      आवेदन हेतु ईमेल करे: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री कुंदन सिंह: +91-9999102998
      स्थान: अद्वैत बोधस्थल, ग्रेटर नोएडा

      यह चैनल प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उन्हीं से आ रहा है |

      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s