संत कौन?

कौन है ‘संत’?

‘संत’ वही है, जिसको देख कर परमात्मा की याद आए।

कौन है ‘महात्मा’?

वही जो जब सामने आए तो ये विश्वास-सा होने लगे कि परमात्मा होता होगा।

इसका होना इस बात का प्रमाण है कि परमात्मा होता होगा।

अगर परमात्मा ना होता, तो यह नहीं हो सकता था – बस वही महात्मा है, वही संत है।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s