जो मुक्त है वही बंध सकता है

new-microsoft-office-powerpoint-presentation-2वक्ता: अपनी मर्ज़ी से पकड़े गये, अपनी मर्ज़ी से बंधे, चल क्या रहा है? आप बताइये, बात सीधी सी ही है। बहुत दिमाग लगाने की ज़रूरत ही नहीं है।

श्रोता: ये दिखाने की कोशिश है कि वो अगर एक सम्बन्ध में भी हैं, एक सम्बन्ध में, एक सामाजिक सम्बन्ध में, अगर वो उसमें भी हैं तो वो जान रहे हैं कि अब ये इस समय की, इस घड़ी की आवश्यकता है। उससे अधिक कृष्ण के लिए उसका कोई महत्व नहीं है।

वक्ता: बढ़िया, बढ़िया। उधर को ही जा रहे हैं हम। क्या हो रहा है ये?

श्रोता: हम अपनी मर्ज़ी से ही बंधते है, और अगर हमारी मर्ज़ी ना हो तो कोई हमें बाँध नहीं सकता।

वक्ता: हाँ ठीक है, पर, इसको ऐसे ही देखना है या कुछ और कहना है? एक बच्चा है जो भाग रहा है, माँ पकड़ने की कोशिश कर रही है, बच्चे को पता है कि पकड़ा भी गया तो हो सकता है एक-आध, पड़ भी जाए। फिर देखता है थक गई, पकड़ तो पाएगी नहीं तो रुक जाता है। माँ पकड़ के बैठा देती है, बोलती है “बहुत तू है… तुझे बाँध दूंगी, कहीं जा ही नहीं पाएगा इधर-उधर”। अब वो बाँध भी नहीं पा रही है। कहता है अच्छा चलो ठीक है, बाँध लो। फिर बंध जाता है।

श्रोता: कृष्ण के लिए बंधना, ना बंधना, डांट, ख़ुशी ये सारा खेल चल रहा है। वो अब सब नियंत्रित कर रहा है कि मैं कबी बंध जाऊं, कब ना बंधू, तो वो एक खेल खेल रहा है, साफ़ सी बात है।

श्रोता: प्यार का खेल है…

श्रोता: कृष्ण के लिए वो वाली बात है, वो शेर नहीं है, ‘दुनिया है बाज़ी, चाहे एत्बाल मेरे आगे…’।

वक्ता: या यशोदा के लिए है? क्या हो रहा है?

श्रोता: ये है कि जो भी हो रहा है, उसमे हिस्सा ले रहे हैं लेकिन आप आसक्त नहीं है और आप खुद मज़े कर रहें हैं।

श्रोता: जहाँ पर प्रेम दिखाई पड़ रहा है, वहां पर समर्पण आ गया है।

वक्ता: क्या हो रहा है ये? क्या हो रहा है? क्या हो रहा है? सय्यद(श्रोता की ओर इशारा करते हुए) क्या हो रहा है?

श्रोता: सर समर्पण, मुझे भी लग रहा है यहाँ पर…

वक्ता: किसी को कभी बाँधा जा नहीं सकता; किसी को कभी बाँधा जा नहीं सकता। शरीर बांधे जा सकते हैं। आप पकड़ लीजिए उसका शरीर बांध देंगे। पर ये तो कोई बंधना हुआ नहीं। ये तो कोई बंधना हुआ ही नहीं, क्योंकि शरीर का क्या है, वो तो स्थितियों का और समय का गुलाम है। वैसे भी कोई भी उसे बाँध सकता है। कोई छोटी बीमारी हो सकती है आपको अचानक से और आपको पता चले बड़ा रूप ले गई, ख़त्म हो गए। बचे ही नहीं। शरीर तो वैसे भी बंधा हुआ है, दस चीजों से बंधा हुआ है। शरीर का बंधना कोई बंधना हुआ नहीं। असली बंधना तो वही है जहाँ पर आदमी खुद कह दे कि हाँ ठीक है, मैं प्रस्तुत हूँ, मैं प्रस्तुत हूँ। फिर वो समर्पण जैसी ही बात है, बिलकुल वही ही है। कि “लो कर दिया, दिया”। कृष्ण वास्तव में बंध रहें हैं क्योंकि वास्तव में मुक्त हैं। हम किसी को बाँध भी लेते हैं तो बाँध नहीं पाते। ऊपर-ऊपर से ऐसा लगता है कि हमने बाँध लिया है। पर आपने जिसको बाँध भी लिया है कि रहो मेरे साथ, उसका मन लगातार आपसे दूर है, आपने क्या बांध लिया? आपने क्या बाँध लिया?

तो ये बड़े मज़े की बात है कि जिसको आप बाँध लेते हो उसको आप कभी बाँध नहीं पाते और जो मुक्त है, वो अपनी मर्ज़ी से पूरी तरह बंध सकता है।

 जिसको आप बाँध लेते हो… “तू घर में रह क्योंकि तू मेरी बीवी है”, उसको आप कभी बाँध ही नहीं पाते। आपको लग सकता है कि बाँध लिया, अरे! क्या बाँध लिया है? वो घर में बैठी है मन उसका कहीं और। “तू ऑफिस में रुक क्योंकि इतने बजे का समय…”, क्या बाँध लिया तुमने? वो रुका हुआ है, उसका मन कहीं और है। वो हो कर भी नहीं है और जो मुक्त है, वो अपनी मुक्ति में ऐसा बंधता है, ऐसा बंधता है, फिर वो पूरी तरह से हो ही जाता है जिसके साथ बंधा, उसका।

हमने पिछली बार एक बात कही थी ‘नेवर सरेंडर योर फ्रीडम, ऑलवेज सरेंडर….’।

सभी श्रोता (एक स्वर में): ‘इन फ्रीडम’.

वक्ता: ‘इन फ्रीडम’। जो मुक्त है सिर्फ वही बंध सकता है। जो मुक्त है सिर्फ वही बंध सकता है। जिसके पास मुक्ति ही नहीं वो समर्पण किसका करेगा?  कोई गुलाम जाकर ये कह सकता है, कि “आज से मैं तुम्हारा हुआ”? आप गुलाम हो, किसी और के हो, आप ये जा के कह सकते हो, “आज से मैं तुम्हारा हुआ”? तुम अपने ही नहीं हो अभी, तुम्हारा मालिक कोई और है, तुम किसी और के कैसे हो जओगे?

जो पूरी तरह अपना हो, जो मुक्त हो, वही आज़ाद होता है कभी-कभी बंध भी जाने के लिए और फिर उसको बंध जाने में कोई तकलीफ़ नहीं होती। हम बंधते हैं तो हमें कितना कष्ट होता है। हम बंधते हैं तो हमें कितना कष्ट होता है। होता है कि नहीं होता है? कृष्ण बंधते है तो कृष्ण की मौज है। हम बंधते है, रो पड़ते हैं। हम बंधते हैं तो हम रो पड़ते हैं।

कृष्ण बंधते हैं तो वो कृष्ण की मौज है क्योंकि कृष्ण में कुछ ऐसा है जो बाँधा जा ही नहीं सकता, जो हमेशा मुक्त है।

ध्यान रखियेगा इस बात को- ‘सिर्फ़ जो मुक्त है, वही बंध सकता है’ और उसके बंधने से उसकी मुक्ति में कोई ख़लल नहीं पड़ता। आपके उपनिषद् कहते हैं, पूर्ण से पूर्ण को निकाल भी दो तो पूर्ण शेष ही रहता है। मुक्त को बाँध भी दो, तो भी वो…

सभी श्रोता (एक स्वर में): मुक्त ही है।

वक्ता: मुक्त ही रहता है और जो मुक्त है उसे बंधने में बड़ा मज़ा आता है। वो बंधने को खेल समझता है। वो कहता है, “आओ बांधो, और तुम नहीं बाँध पा रहे तो मैं प्रस्तुत हो जाऊँगा, लो बाँध लो”। जो मुक्त नहीं है, वहीँ बंधने से बुरी तरह डरता है। जो मुक्त नहीं है वो बंधने से खूब डरेगा, खूब डरेगा, बिलकुल डरेगा। कहीं कुछ हो ना जाए, कहीं पकड़ ही ना लिया जाऊं। कहीं ऐसा ना हो कि एक बार पकड़ा गया तो फँस ही गया। जिसे अपनी मुक्ति पर पूरा विश्वास है वो तो बन्धनों के साथ खेलेगा। “हाँ, आओ बांधो, फिर से बांधो, आओ बांधो”। आपने सर्कस में वो, कलाबाज़ देखे होंगे जो, रस्सियाँ खोलने में बड़े माहिर होते हैं। वो कहते हैं “आओ, जिस भी तरीके से मेरे दोनों हाथो में रस्सी बांधनी है बाँध दो”। फिर वो क्या करते हैं? खोल देते हैं। उनको मज़ा आ रहा है। कोई आकर के आपके दोनों हाथो में ज़ोर से रस्सी बाँध दे और उसमें दस तरीके की गाँठ लगा दे तो आपका क्या हाल होगा? घबरा जाएँगे। उसको मज़ा आ रहा है। उसको क्यों मज़ा आ रहा है? उसे क्यों मज़ा आ रहा है? क्योंकि उसको पता है, “कोई गाँठ मुझे रोक सकती नहीं। अब यह खेल है मेरे लिए; अब ये खेल है मेरे लिए”। संसार बंधन है, इसमें कोई शक नहीं। बुद्ध अगर कह गए हैं कि ‘’संसार दुःख है,’’ तो इसमें कोई शक नहीं। संसार दुःख भी है, संसार बंधन भी है, पर यही बंधन उसके लिए खेल हो गए है…

श्रोता: जो मुक्त है।

वक्ता: जिसने संसार को समझ लिया है। यही बंधन उसके लिए खेल हो जाते हैं, वो इन्हीं में मज़े लूटता है। यही बंधन उस आदमी को सौ तकलीफे देते हैं जिसने दुनिया को समझा नहीं और यही बंधन उसके लिए खेल हो जाते हैं, जिसमें बोध जागृत हो चुका है। समझ रहें हैं? संसार बंधन है, इसमें कोई शक नहीं। कोई शक ही नहीं की संसार में कदम कदम पर बंधन ही है, इधर बंधन, जिधर से बचो, जिधर जाओ, उधर ही सौ बंधन तैयार खड़े हैं पकड़ने के लिए।

एक और दूसरा बच्चा हो सकता था जो रोये, चिल्लाये, कि “यार ये आज कल की माँ बात-बात में बांधने आ जाती हैं, चाइल्ड हेल्पलाइन कहाँ है, कॉल करो”! एक ये बच्चा है जो कह रहा है कि “आओ बाँध लो, आओ बाँध लो”। जिसको मुक्ति नहीं आती, बंधन उसके लिए कष्ट है। जो मुक्ति जानता है, वो बन्धनों से खेलता है। कई बार तो आमंत्रित करता है, “आ माँ आ”, स्वीकार ही नहीं कर रहा, आमंत्रित कर रहा है, “आ, बाँध ले”।

मज़ेदार हैं ना कृष्ण? उसको पता हैं “मेरा कुछ बिगड़ ही नहीं जाएगा बंधने से”। “मेरा कुछ नहीं बिगड़ जाएगा”। “कौन है? मैया ही तो है, बाँध भी लेगी तो क्या हो जाएगा”। पूरा विश्वास, सहज श्रद्धा। “ले बाँध ले”। और बड़ी सुन्दर कहानी है, कि जब तक बच्चे की सहमति नहीं थी माँ बाँध पायी नहीं, इसका ये अर्थ नही है कि शरीर नहीं बाँध पाई।  देखो, शरीर तो बंध जाएगा। छोटा बच्चा है, माँ पकड़ कर के… माँ भी तो ग्वालन है, यादव। तो यशोदा भी हट्टी-कट्टी, पकड़ कर बाँध ही देती। बात इसकी नहीं है कि कृष्ण का शरीर नहीं बाँध पाती, प्रतीक है बात। कुछ था कृष्ण में जो नहीं बंधता जब तक कृष्ण नहीं चाहते। कृष्ण में ही नहीं वो हम सब में भी है। कुछ है हम में जो नहीं बंधेगा, जब तक कि हम ही ना अनुमति दे दें। प्रेम से उसका कुछ सम्बन्ध है? देखिएगा। प्रेम से उसका कुछ सम्बन्ध है कि नहीं।

श्रोता: इसमें वो मजाज़ी और हकीकी, जो वो कर रहा है अपनी माँ के साथ, वो है मजाज़ी और जो कृष्ण को दिख रहा है वो हकीकी दिख रहा है।

वक्ता: बिलकुल दिख रहा है, और हकीकी दिखना इसलिए नहीं है कि कृष्ण ने कोई साधना कर ली है, बहुत पहुँचा हुआ फ़कीर है, अभी भी बच्चा ही है वो।

श्रोता: वो सहजता से साधारण है.

वक्ता: वो सहजता से साधारण है। वो वही है जो हर बच्चे को होना ही चाहिए अगर उसको भ्रष्ट ना कर दिया जाए, हम भी वैसे ही होते हैं। अगर हमारी दुर्गति ना कर दी गई होती तो हम सब भी वैसे हीं हैं। कृष्ण अद्भुत नहीं है, कृष्ण परालौकिक नहीं हैं। कृष्ण पूरी तरीके से इसी मिट्टी के हैं, इसी ज़मीन के हैं। हम थोड़ा सा मिट्टी से भी नीचे गिर गए हैं।

कृष्ण बस वही है, जो हर बच्चा होता है

श्रोता: सर, वो जो मिट्टी खाने वाला है, क्या ये भी किसी बात का संकेत है?

वक्ता: हाँ। मक्खन खाते हैं, मिटटी खाते हैं। उनके लिए आसमान से कोई विशेष फल नहीं टपकते। नदी में नहाते हैं, एक-एक काम वो करते हैं जो आज भी गाँव का कोई बच्चा करता होगा। एक-एक काम कृष्ण का वही है, जो हर बच्चे का है। तो क्यों माने कि चमत्कारी भगवान है या ऐसा कुछ। कृष्ण तो एक साधारण बच्चा है। हमें अपने आप को देखना पड़ेगा, हमने अपने कृष्ण को कहाँ खो दिया? पैदा हम भी कृष्ण ही हुए थे, हमने अपने कृष्ण को कहाँ खो दिया?


शब्द-योग’सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: आचार्य प्रशांत: जो मुक्त है वही बंध सकता है(The one who is free, can only be in bondage)

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १: तुम ही मीरा, तुम ही कृष्ण

लेख २:  मुक्ति का पहला चरण – शरीर का सहज स्वीकार

लेख ३:  गुलाम कौन? जो अधूरी मुक्ति से राज़ी हो


सम्पादकीय टिप्पणी:

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़न :  http://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट https://goo.gl/fS0zHf

Advertisements

2 टिप्पणियाँ

    • कृपया इस उत्तर को ध्यान से पढ़ें | आचार्य जी से जुड़ने के निम्नलिखित माध्यम हैं:

      १: आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
      यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से रूबरू होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
      इस अद्भुत अवसर का लाभ उठाने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91-9818585917

      २: अद्वैत बोध शिविर:
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन द्वारा आयोजित अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर हैं। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग अपने जीवन से चार दिन निकालकर प्रकृति की गोद में शास्त्रों का अध्ययन करते हैं, मुक्त होकर घूमते हैं, खेलते हैं, और आचार्य जी से प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिकता अपने जीवन में देखते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, रानीखेत, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नयनाभिराम स्थानों पर आयोजित पचासों बोध शिविरों में हज़ारों लोग कृतार्थ हुए हैं।
      इसके अतिरिक्त, हम बच्चों और माता-पिता के रिश्तों में प्रगाढ़ता लाने हेतु एक अभिभावक-बालक बोध शिविर का आयोजन भी करते हैं।
      शिविरों का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91-8376055661

      ३. आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण:
      आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
      सत्र का हिस्सा बनने हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री अपार: +91-9818591240

      ४. जागृति माह:
      फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से स्काइप या वेबिनार द्वारा चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
      सम्मिलित होने हेतु ईमेल करें: requests@prashantadvait.com पर या संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन:+91-9818585917

      ५.पार से उपहार:
      प्रशांत-अद्वैत फाउंडेशन की ओर से आयोजित किया जाने वाला यह मासिक कार्यक्रम जन सामान्य को एक अनोखा अवसर देता है, गुरु की जीवनशैली को देख लाभान्वित होने का। चंद सौभाग्यशालियों को आचार्य जी के साथ शनिवार और इतवार का पूरा दिन बिताने का मौका मिलता है। न सिर्फ़ ग्रंथों का अध्ययन, अपितु विषय-चर्चा, भ्रमण, गायन, व ध्यान के अनूठे तरीकों से जीवन में शान्ति व सहजता लाने का अनुपम अवसर ।
      स्थान: अद्वैत बोधस्थल, ग्रेटर नॉएडा
      भागीदारी हेतु ई-मेल करें: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: सुश्री अनु बत्रा: +91-9555554772

      ६. त्रियोग:
      त्रियोग तीन योग विधियों का एक अनूठा संगम है | रोज़ सुबह दो घंटे तीन योगों का लाभ: हठ योग, भक्ति योग एवं ज्ञान योग | आचार्य जी द्वारा प्रेरित तीन विधियों का यह मेल पूरे दिन को, और फिर पूरे जीवन को निर्मल निश्चिन्त रखता है |
      आवेदन हेतु ईमेल करे: requests@prashantadvait.com या संपर्क करें: श्री कुंदन सिंह: +91-9999102998
      स्थान: अद्वैत बोधस्थल, ग्रेटर नोएडा

      यह चैनल प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के स्वयंसेवियों द्वारा संचालित किया जाता है एवं यह उत्तर भी उन्हीं से आ रहा है |

      सप्रेम,
      प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन

      Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s