चलो ज्ञान में, पर स्थित बोध में रहो

new-microsoft-office-powerpoint-presentation-2वक्ता: कोई कहता है कि, ‘नॉलेज एंड विज़डम डू नॉट गो टूगेदर।‘ थोड़ा समझना पड़ेगा। इसका अर्थ ये नहीं है कि  ‘दे आर म्यूचुअली एक्सक्लूसिव,‘ कि  इन दोनों की आपस में कोई दुश्मनी है, कि  जहाँ नॉलेज होगा, वहां विज़डम हो ही नहीं सकती। ऐसी बात नहीं कही जा रही है। जब कहा जाता है कि, ‘’नॉलेज एंड विज़डम डू नॉट गो टूगेदर,’’ तो उसका इतना ही अर्थ है कि ये दोनों अतुलनीय हैं। इन दोनों की आपस में कोई तुलना नहीं हो सकती। असंगत नहीं हैं, अतुलनीय हैं। तो कोई ये ना सोचे, जो वाइज़ आदमी है उसके पास तो नॉलेज तो होता ही नहीं। ये बड़ी भ्रान्ति हो जाएगी। जब आप कहते हैं, ‘’नॉलेज एंड विज़डम डू नॉट गो टूगेदर।‘’ इसका अर्थ ये नहीं है कि जहाँ विज़डम है, वहाँ से नॉलेज उड़ जाएगा। वो असंगत नहीं हैं, फिर कह रहा हूँ अतुलनीय हैं। वो अलग-अलग आयाम हैं। ठीक, वैसे जैसे गंध की और वज़न की तुलना नहीं हो सकती। ठीक वैसे जैसे तापमान की और घनत्व की तुलना नहीं हो सकती। ठीक वैसे जैसे एक्स एक्सिस औए वाई एक्सिस की तुलना  नहीं हो  सकती क्योंकि वो आयाम ही हैं अलग-अलग। ठीक उसी तरीके से विज़डम की और नॉलेज की कोई तुलना नहीं हो सकती, वो अलग-अलग आयाम हैं।

नॉलेज अलग आयाम है रूप का, आकार का, विश्व का, मन का, मानसिक गतिविधि का और विज़डम आयाम है वो, जहाँ से मन स्वयं उदभूत होता है। ये दो अलग-अलग हैं। और दो ऐसे अलग हैं जिसमें एक, दूसरे में समा सकता है। माइंड इज़ फंक्शनिंग इन नॉलेज, ईममर्स्ड इन विज़डम। ये संभव है और यही जीने की कला है क्योंकि जब तक शरीर है, तब तक ज्ञान के लिए पूरा स्थान है। नॉलेज माने ज्ञान। जब तक शरीर है, ज्ञान के लिए पूरा स्थान है, ज्ञान की आवश्यकता है, सब कुछ ज्ञान ही ज्ञान है। मन ज्ञान में रहे, बोध में डूबा हुआ। मन ज्ञान का प्रयोग कर ले परन्तु बोध की स्थिरता में। 

एक इसमें एक और वाक्य है, उसको ले लेंगे। ‘विज़डम कम्स व्हेन देर  इज़ मचुरिटी ऑफ़ सेल्फ लर्निंग।‘ ज्ञान एक प्रक्रिया है, जिसमें कुछ इकट्ठा होता है। आप एक ऐसे क्षेत्र में हैं, जहाँ पर समय के लिए, वृद्धि के लिए, संचय के लिए स्थान है। ये ज्ञान है और ज्ञान के परिमाण भी होते हैं तो इस कारण ज्ञान को नापा भी जा सकता है। इसका इतना  ज्ञान , उसका इतना ज्ञान, मेरा ज्ञान, ज्ञान में वृद्धि हो रही है, ज्ञान संचित हो रहा है। और बोध (विज़डम) किसी एकत्रण का नाम नहीं है। वो एक ऐसे जानने का नाम है, जो जाना ही हुआ है। बहुत मोटे अर्थ में लें तो वो प्रक्रिया जानने की ही है, पर वो जानना कुछ एकत्रित करना नहीं है; वो जानना कुछ उद्घाटित करना है। है सिर्फ़ उसका रेवेलेशन, है पहले से। ये सेल्फ लर्निंग है इसीलिए सेल्फ लर्निंग  में आप जान कर के भी कुछ विशेष जानते नहीं। और जब खूब ही जान लेते हो, तो बिलकुल ही न जानने में आ जाते हो। हम बोध और ज्ञान के सूक्ष्म अंतर को समझने की कोशिश कर रहे हैं। इसको समझिएगा क्योंकि आप जो क्लासरूम  में करने जा रहे हो, आप जो अपने स्टूडेंट साथ करते हो दिन रात वो प्रक्रिया विज़डम की है, वो नॉलेज की नहीं है। वो अलग भी हैं, वो एक भी हैं दोनों। शुरुवात यहाँ से करिए की ये दोनों अलग-अलग आयाम हैं। हम ज्ञान बाँटने नहीं आये हैं पर फिर देखिये और पाइए कि ज्ञान तो देना ही पड़ेगा।

प्रत्येक शब्द ज्ञान है और तब सवाल करिए कि अच्छा शब्द कौन सा है? मैंने चाहा था कि  मैं ज्ञान ना दूँ पर मैं पा रहा हूँ कि  मैं ज्ञान ही बाँट रहा हूँ और मैं किस प्रकार ज्ञान बाँटू कि वो बँट भी जाए और वो ज्ञान ना रह जाए, वो कुछ और हो। ये सवाल है, जो गुरु होने के नाते आपको अपने आप से पूँछना पड़ेगा कि, ‘’ बाँटू तो ज्ञान परन्तु उतर जाए वो  बोध  में। बाँटू तो शब्द  परन्तु  उतर जाए वो मौन में। आँखें तो शरीर ही देखें ,कानो पर तो ध्वनि ही पड़े पर ये सब मात्र बहाने हो। कुछ और हो, इनसे अलग, जो चुप चाप कहीं और हो रहा हो। बिलकुल कहीं और, और बहुत चुप-चाप।

ऊपर-ऊपर तो यही चल रहा हो कि, ‘’तुमने सवाल किया, हमने उत्तर दिया। तुम कुछ कहने आए हमने तुमको टोका।‘‘ इतने समय के लिए ये गतिविधि निर्धारित थी, तुमने वो कर ली। ऊपर -ऊपर  सब चल रहा हो पर भीतर कुछ बिलकुल ही अलग घट रहा हो। जिसका हो सकता है कि  आपके छात्र को इसका कोई विचार भी ना हो, होना भी नहीं चाहिए। वो दबी-छुपी बात है। वो चोरी-चोरी ही होती है। वो बैंड-बाजा बजा के नहीं की जाती। ‘’आओ, समाधी लगाएं। हाँ भाई, भोंपू बजाना।‘’ ऐसे नहीं होता है वो। वो तो कहीं धीरे से जहाँ कोई देखने वाला नहीं, वो घटना वहाँ हो जाती है। जैसे बड़े मेहमान इकट्ठा हों, और वो कर रहे हों बातचीत शोर-शराबा और ये बारात है जो इकट्ठा हुई है। और प्रेमी हैं दो, जो इन सब से छुप कर के कहीं घर के पीछे मिल रहे हैं। असली घटना वहाँ घट रही है, शोर यहाँ मच रहा है। इनको मचाने दो शोर। ये व्यर्थ ही शोर मचा रहे हैं। पर वो शोर मचाना भी ज़रूरी था, नहीं तो इन बेचारों को एकान्त कैसे मिलता।

तो आप जो क्लासरूम  में कराने जाते हो, वो यही है। आप शोर मचाने जाते हो सिर्फ़, वो यही है पर शोर कुछ इस तरह से मचाओ कि शांति आ जाए। आप बाराती हो। दूल्हा -दुल्हन तो अपने हिसाब से मिलेंगे और वो जब मिल रहे हों, तो वहाँ बीच में मत घुस जाना। बरातियों का धर्म ये नहीं  है! कहते हैं ना कबीर कि, ‘दूल्हा -दुल्हन मिल गए, फीकी पड़ी बरात। अब तुम क्या कर रहे हो जाओ, जो प्रयोजन था वो सिद्ध हो गया अब तुम क्यों बैठे हो? जाओ।‘’ तो ज्ञान ठीक, पर आयाम अलग हैं। आप बरातियों के जोश और प्रेमियों के प्रेम की तुलना थोड़े ही करोगे। हाँ, देखने में दोनों में कुछ सम्बन्ध लगता है, और वो सम्बन्ध ठीक भी है, संसार हमारा कुछ ऐसे ही है। कुछ सम्बन्ध होगा। विचित्र लोग हैं हम। मौन में जाने के लिए भी धूम-धड़ाका चाहिए, अव्रती होने के लिए भी व्रत चाहिए, निर्विशेष होने के लिए विशेष प्रयत्न करने पड़ते हैं, हम ऐसे ही हैं। तो ठीक है जब दुनिया ऐसी ही है तो चलाएँगे काम।

ये जो रिश्ता है नॉलेज  का और नोइंग  का, इनफार्मेशन  का और लर्निंग  का, ज्ञान का और बोध का, इसको भूलिएगा नहीं क्योंकि वास्तव में रिश्ता मनुष्य का और परम का है। ज्ञान और बोध में जो सम्बन्ध है, ठीक वही सम्बन्ध आप में और आपके स्त्रोत में है। दो अलग-अलग आयाम हैं, लेकिन फिर भी अंतर्सम्बंधित हैं, एक दूसरे में समाया हुआ है। ये जगत है, जो दिखाई पड़ता है और हर मामले में जब आप इसके स्त्रोत की बात  करते हो,  ब्रह्म की बात करते हो, तो आप उसको जो भी कुछ बोलते हो वो यही है जो इस जगत में नहीं है। यहाँ रूप है, आप उसको बोलते हो अरूप। यहाँ नाम है, आप उसको बोलते हो अनाम। यहाँ चिंतन है आप उसको बोलते हो अचिन्त्य, यहाँ आकार है आप उसको बोलते हो निराकार। तो ये तो बड़ी अजीब बात है। जगत में और उसके स्त्रोत में  अलग-अलग है। इतने अलग हैं?  हाँ, इतने ही अलग हैं और फिर भी एक दूसरे में समाया हुआ है। एक दूसरे से प्रस्फुटित होता है; एक दूसरे से प्रकट होता है। एक ही हैं दोनों। पूरी तरह अलग हैं, फिर भी एक हैं और वही सम्बन्ध ज्ञान और बोध में भी रहे और यही जीने का मंत्र है।

यही जिसने जान लिया वो जीयेगा कि जीयें तो ज्ञान में, पर स्थित बोध में रहें। जीयें तो शब्दों में, पर स्थित मौन में रहें। बाहर-बाहर बजते रहें, बैंड-बाजे, भीतर तो बस एक ही नाद है। यही जीवन है। बाहर-बाहर ज्ञान है, ठीक कोई दिक्कत नहीं, चाहिए ज्ञान। वो सब भूले मत कर दीजिएगा कि मैं तो — जैसे कर्म संन्यास होता है वैसे ही मैं — ज्ञान संन्यास ले चुका हूँ, मैं अनासक्त हूँ, मैं त्यागी हूँ।

श्रोता: तो फिर क्या हमें अपने गुणों को नहीं निकालना? कि हम ज्ञान नहीं बाटेंगे क्यूँकी बताय तो हमें ऐसा ही गया है?

वक्ता: सब निकालिये पर वहीँ बैठ कर के, जहाँ आपका आसन है। स्थित वहीँ रहिये, फिर जो निकलता है, जो बहता है, जो होता है सब बहुत बढ़िया, सब बहुत सुन्दर। पर प्रश्न यह है कि  क्या वहाँ आप स्थित हैं और वहाँ आप स्थित ही रहेंगें? यहाँ कोई षड़यंत्र नहीं कर रहा है, आपको वहाँ से हटा देने के लिए। जब अस्तित्व में सब कुछ वहीँ स्थित है, आपको हटाने कौन आएगा? बिल्ली ,चूहा, कुत्ता, कौआ, सुअर, पत्थर, रेत, बारिश, बादल सब कुछ स्थित है वहीँ पर, जहाँ उसे होना है। आपको ही ये भ्रम है कि आपको कोई हटाने आया है। आप वहीँ स्थित हैं। वहीँ स्थित रह कर करिये जो करना है।

श्रोता: अगर विचार नहीं है तो ये शरीर मुर्दा है। मौन में रह के अगर आ रहा है आसक्ति का विचार तो?

वक्ता: तो रहिये, उस विचार के साथ रहिये, पूछिए ही मत कि इसका क्या करना है। आपको जो कुछ आता है आप उसके साथ क्या करते हो?

श्रोता: एक चीज़ और, विचार जो तुमने लिए, नॉलेज ली, विज़डम  ली.. . . .

वक्ता: विज़डम  ली?

श्रोता: मतलब माइंड को इमरस्ड किया उस विज़डम  में

वक्ता: किसने किया? ये दोनों जो हैं ना, सारा खेल यहीं ख़त्म हो जाता है। मन को डुबोया या ये जाना कि मन तो डूबा हुआ है ही। मेरी एक-एक कोशिश उसको बस अलग करती है, डूबने से। उसके स्त्रोत से उसको दूर करती है, वरना मन तो डूबा हुआ है ही। मेरी एक-एक कोशिश, उसको बस अलग करती है। आपकी कोशिश जो है, कुछ भी करने की, भले वो डूबोने की कोशिश हो, आपकी कोशिशें ही तो बाधा हैं ना?

श्रोता: हाँ, कोशिशें ही तो बाधा है मतलब ‘जो विचार तुम ज़बरदस्ती निर्मित कर रहे हो, तुम उस शान्ति में हो, जो सहजता से आ रहा है..’

वक्ता: कौन सा विचार आप ज़बरदस्ती नहीं करते तब भी आता है? आपने एक भेद करा है कि  कुछ विचार होते हैं, जो ज़बरदस्ती आते हैं और कुछ होते हैं जो शायद आप कहना चाहती हैं कि स्वयमेव आते हैं, ऐसा कुछ नहीं है। विचार की एक ही प्रक्रिया है। वहां कोई भेद नहीं है।

श्रोता: क्या प्रक्रिया है? वो अतीत से आएगा?

वक्ता: उसकी प्रक्रिया ये है कि जब आप वहां नहीं होते, जहाँ आपको होना चाहिए, तो आप विचार में होते हो।

 श्रोता: मेरा सवाल यहाँ पर यह है कि आप केंद्र पर रह रहे हो, विचार तो फिर आएंगे ही ना?

वक्ता: मेरा प्रश्न ये है कि ये सवाल आपके लिए महत्त्वपूर्ण ही क्यों है? जब आपके लिए ये महत्वपूर्ण नहीं है कि केंद्र पर बैठ कर मैं साँस कैसे लूंगी, तो आपके लिए ये महत्त्वपूर्ण क्यों है कि केंद्र पर बैठ कर मैं विचार कैसे करूंगी? अरे, साँस को आना होता है तो आती है, विचार को आना होता है तो आता है। आना होगा तो आएगा, उसकी अपनी जगह है। आने दीजिये, आप क्यों चिंता कर रही हैं ?

श्रोता: अगर सारी कंडीशनिंग, ईगो  ख़त्म हो गयी, स्थिरता में रह रहे हैं पर विचार तो चाहिए, वो विचार कैसे होने चाहिए?

वक्ता: आप यह सवाल क्यों नहीं पूछ रही हैं अपने आपसे कि ये सवाल आपको क्यों उठ रहा है? आपको जो कुछ चाहिए मिल जाएगा। सब कुछ होता है ना? उस सब कुछ के साथ विचार भी शामिल है। जैसा आना होगा आ जाएगा। आप मस्त रहिये। विचार आता है सोचिये, भूख लगती है खाइये। मज़े की बात कि जो हो, मस्ती में हो। क्या हो महत्त्वपूर्ण नहीं है। उस होने का जो माहौल है, क्लाइमेट  है, वो महत्त्वपूर्ण है। आपको अगर सोचना है तो आप जी भर के सोचिए।

श्रोता: नहीं, मुझे सोचना भी नहीं है।

वक्ता: तो मत सोचिए, पर जब नहीं सोच रहे हैं तो मस्ती में मत सोचिए। वो मस्ती ज़रूरी है, वो डूबना ज़रूरी है। आप बैठे कहाँ हो, वो आसन ज़रूरी है। विचार का क्या करना है? आप दौड़ते हो, तो साँस तेज़ हो जाती है। बस तो ऐसे ही विचार भी तेज़ हो जाएगा कभी-कभी। आप शिथिल बैठे हो, तो साँस धीमी हो जाती है, वैसे ही विचार भी शिथिल हो जाएगा कभी। इतन महत्वपूर्ण क्यूँ हो गया वो? उसको जो करना होगा, वो कर लेगा। आप मौज में रहिए। आप कोई विचार नहीं निर्मित करते हो। ये अहंकार का परम भाषण है कि ‘आई थिंक I आप नहीं सोचते हो।

श्रोता: तो फ़्री विल क्या है?

वक्ता: अहंकार ही फ्री विल है। अहंकार की पूरी कोशिश ही यही है कि  फ्री विल जैसा कुछ हो।

श्रोता: तो अब मैं यहाँ पर आई हूँ। अब सत्र ख़त्म होने के बाद मेरे पास बहुत संभावनाएं हैं यहाँ पे बैठे रहना, चले जाना, सो जाना। उन सब संभावना में ‘बैठे रहना’ चुनना क्या है?

 वक्ता: यह सब कार्य-कारण है। ये तो एक कारण आया, कर दिया। शरीर और कर भी क्या सकता है? कारणों के अनुसार काम करेगा। वहाँ पर कोई फ़्री-विल नहीं है। अभी अगर भूकंप आ गया तो भी बैठे रहोगे? सब कारणों पर निर्भर करता है, शरीर तो कारणों का गुलाम है। और ये कारण आपकी मर्ज़ी से नहीं होते हैं। ये एक बहुत विशाल खेल है जो अपने आप को खेल रहा है। उन कारणों का आपको कभी कोई पता नहीं लगेगा। वो आपके नियंत्रण के बाहर की एक अनंत श्रृंखला है कारणों की, सब कुछ एक दुसरे से जुड़ा हुआ है। आपके यहाँ बैठे होने का कोई महत्त्व नहीं है, आप यहाँ कैसे बैठे हो उसका महत्त्व है। आप यहाँ आए हो ये आपके समझ पाने के बाहर की बात है। आपको बिलकुल भी नहीं पता चलेगा कि आप यहाँ क्यूँ आए हो। वो कारण किसी और आयाम का है।

देखिए, ज़िन्दगी में ये मत पूछिये ये क्या हो रहा है और क्यों हो रहा है। जो भी हो रहा है, वो तो होना ही है। सवाल बस ये पूछा जा सकता है कि ये सब कुछ जो हो रहा है, उसमें हम मस्त हैं या हमारी मस्ती पर चोट लग गई। मस्ती पर चोट तब लगेगी जब आप मस्ती के लिए सीमाएं निर्धारित कर दो। जैसे ही आप शर्तें थोपोगे, मस्ती पर चोट लग जाएगी। यही जीवन का तरीका है। जो हो रहा है, वो तो मुझसे बाहर की बात है। हम मस्त हैं। क्या हो रहा है, हमें क्या पता? क्यों हो रहा है? जो कर रहा है, वो जाने।

पूर्ण मुक्ति है जो करना है करो, बैठे वहीँ रहो लेकिन। वहाँ से मत हिलना। देखिये, हम जो देख रहे हैं ना ये ऐसा ही है कि कोई बहुत बड़ी मशीन, बहुत-बहुत बड़ी मशीन का कोई छोटा सा हिस्सा हमको दिख रहा हो। किसी और हिस्से में क्या चल रहा है, आप कभी नहीं समझ सकते। अभी यहाँ चार की जगह तीन बल्ब जल रहे हों, तो पूरा माहौल बदल जाएगा। ऐसा होता है, कार्य-कारण। बड़ा लग रहा हो कि, ‘’ध्यान में बैठे हैं,’’ पेट दो-चार बार गुड़गुड़ा दे, समाधि टूट जाएगी। ऐसा होता है। तो क्या हो रहा है, क्यों हो रहा है, हम नहीं जानते। हम अपने पैदा होने को ही नहीं जानते। संभावनाओं का खेल चल रहा है।

श्रोता: फिर तो सर जो चल रहा है चलने दो, मौज में भी क्यों रहें?

वक्ता: बहुत अच्छी बात है ,मुझे समझना ही नहीं है मैं मौज में क्यों रहूँ। करिये तो, वहाँ तक जाइए तो। वैसे हो जाइये, बहुत अच्छा है। ना पढ़ाया लिखाया जाए मन को, तो वो नहीं बनाता है, लक्ष्य और जब कारणवश बनाना भी पड़ता है तो उनको बहुत महत्त्वपूर्ण नहीं मानता। शारीरिक कारणोंवश अगर उसे लक्ष्य बनाने भी पड़ें, तो ठीक है। ये सारी बातें, ‘’’लक्ष्य हो हीं,’’ ये क्यों आए  हैं? आना सुद्द्देश्य है, ये सब ज्ञान है, ये सब लिखा-पढ़ी का नतीजा है, ये समाज है। इसी से जो इकठ्ठा होता है, उसे अहंकार कहते हैं। आपको बाहर-बाहर जैसे करना है, आप वैसे करिये, कोई इसमें दिक्कत नहीं है अगर आप आसान में बैठे हैं तो। और जो कुछ करा जा रहा है, अगर वो ही ऐसा है जो आपको हिला देता है तो समझिए चूक हो रही है। बार-बार कहा जा रहा है कि  सही क्या है। सही वही है, जो आपको ‘वहीँ’ पर प्रतिष्ठित रखे और चूंकि ‘वहीँ’ पर प्रतिष्ठित होना है, इसीलिए जो सही है, वो बहुत देर चल नहीं सकता।

कोई भी कर्म बहुत देर तक सही रह नहीं सकता।

 एक क्षणांश के लिए वो सही होगा। किसी भी वस्तु के साथ, किसी भी जीव के साथ जब भी कोई ऐसी घटना घटती है जो उसकी प्रकृति से मेल नहीं खाती, वो क्या करता है? पानी जानता है कि उसे ऊंचे से नीचे की और बहना है, हर प्रकार की गैस भी जानती है कि उसे उच्च दबाव से निम्न दबाव की  ओर जाना है। जानवर भी जानता है कि  जो घर रोटी नहीं देता है, उस घर के सामने नहीं जाना है। जगत में जो कुछ है सब जानता है कि उसे क्या करना है। उसकी मस्ती अखंड है। आप ज़रा उस पर दबाव देंगे नहीं कि  वो समझ जाएगा उसे करना क्या है। चिड़िया बैठी है। आप उससे कुछ दूरी पर हैं, वो बैठी रहेगी। आप और करीब जाइए तो क्या होगा?

श्रोता: उड़ जाएगी।

वक्ता: उसे पता है, उसे क्या करना है। सिर्फ़ आदमी है, जो ये सवाल कहता है कि, ‘’ एक दूसरा आदमी है मैं उसके पास जाता हूँ , मौज खराब होती है मैं क्या करूँ?’’ अरे! जहाँ मौज खराब होती है, वहाँ से उड़ जाइए भाई। चिड़िया क्या कभी आपको अनिर्णय में दिखती है। हाँ, आप उसके साथ बदतमीज़ी कर दें, तो अलग बात है। अन्यथा उसको ठीक-ठीक पता है कि उसको क्या करना है। पानी को आपने कभी विचार करते देखा? कि  ढलान तो आ गई है, अब बहूं की ना बहूं? सब जानते हैं कि  अपनी प्रकृति अनुरूप उन्हें क्या करना है। शेर जानता है कि  हिरण सामने आये तो क्या करना है और हिरण जानता है कि  शेर सामने आए तो क्या करना है। हम क्यों नहीं जानते? हिरण हार गया रेस में, ये हो सकता है  पर वो भूल ही गया कि, ‘’मैं कौन हूँ’’ हो सकता है? हमे क्यों नहीं पता होता कि ये स्थिति आ रही है, जिसमें मन तनाव में आ जाता है, मेरा आसन डोलने लगता है, हमें क्यों नहीं पता होता?

श्रोता: हाँ, क्यों नहीं पता होता?

वक्ता: मैं आपसे कह रहा हूँ कि आपको पता है। दुःख को निरंतर कौन बना के रखता है?

श्रोता: प्लेज़र ।

वक्ता: उसको छोड़ दीजिये, सब पता है आपको। सब पता है, पर कुछ तमन्नाएँ हैं ज़िन्दगी में, वो पाँव की बेड़ियाँ बनी हुई हैं। कौन आपको परेशान कर सकता है अगर आप उसको ये ताकत ना दें? और क्यों आप किसी को ये ताकत देंगी आपको परेशान करने की अगर आपको उससे कुछ चाहिए नहीं। आपको पता है,  व्यापार चल रहा है। आप क्यों किसी को हावी होने देंगी आप क्यों किसी को आपको कम्पित करने देंगी अगर आपका उससे कोई स्वार्थ ना जुड़ा हो। जब अभिराम को देखिए, तो उसके साथ जो दर्द छुपा है, उसको भी देखिए। लालच में आप मुनाफ़ा तो देखते हो। मुनाफ़े के साथ-साथ भी ज़रा नुकसान को भी देखो। इतना तो देख लेते हो कि मिल क्या रहा है। ये भी तो देख लो कि कीमत क्या दे रहे हो। जैसे ही दोनों को एक साथ देखोगे, वैसे ही दोनों से एक साथ छूट जाओगे। दूसरों के मुताबिक़ चलने से, जो मुनाफ़ा होता है, वो तो आप गिन रही हो पर उनकी नज़रों में जो समझदार बने रहने की जो कीमत है, वो गिनी कभी? ये जो दूसरा है, उसे जो मिलता है वो तो आप गिनते हो पर वो जो पॉउण्ड ऑफ़ फलेश  लेता है वो आप गिनते हो क्या?

सब सामने होता है। आप नौकरी भी करते हो, तो उसमें आपको जो मिलता है, उसे कंपनसेशन  बोला जाता है। ईमानदारी की बात है कि तुम्हें पैसा तो दे रहे हैं पर ये तुम्हारा नुकसान करके दे रहे हैं। ज़िन्दगी का एक-एक पल जो ये तुमने लाखों खो दिए वो कभी गिनते हो क्या? ये तो गिन  लेते हो कि  ‘ये’ करके ‘ये’ मिल रहा है। ये तो  नहीं देखते कि  क्या खो रहे हो उसको भी ज़रा देख लो ध्यान से? और सामने ही है, कहीं दूर नहीं है।अपने मन से ज़रा ईमानदारी से पूछियेगा, वो कहेगा, ‘’सब दिखता है।‘’ कुछ भी ऐसा नहीं है जो नहीं जानते आप। आपको अच्छे से पता है कि  ये कितना घाटे का सौदा है। जिन तरीकों से हम जीते हैं, वो कितने घाटे के तरीके हैं, वो हमें अच्छे से पता है। उससे आप बात तो करिए दोस्त की तरह कि क्या हाल है बेटा?  फिर वो सब बताएगा। भुगतना तो उसे ही पड़ता है ना, वो सब बताएगा, वो अच्छे से जानता है।


शब्द-योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें: आचार्य प्रशांत: चलो ज्ञान में, पर स्थित बोध में रहो (Move in knowledge, but be centred in wisdom)

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १:  समझ और ज्ञान में अन्तर 

लेख २: भक्ति ज्ञान की माता है 

लेख ३:  आत्मज्ञान जीवंत प्रक्रिया है, बौद्धिक नहीं

 


सम्पादकीय टिप्पणी:

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़नhttp://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट https://goo.gl/fS0zHf

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s