मन के स्रोत से निकटता ही है मन की ताकत

 

New Microsoft Office PowerPoint Presentation (2)श्रोता: सवाल ये है कि हमने पहले कई सत्रों में चर्चा किया है कि इच्छा से परेशानी नहीं होती, आसक्ति से परेशानी होती है। हम इच्छा कर सकते है लेकिन हम दुखी इसीलिए हो जाते हैं क्योंकि हम उससे आसक्त हो जाते हैं। लेकिन यहाँ इच्छा से मुक्त होने की बात की गई है?

वक्ता: ये भाषा फिर से वही भाषा हो जाएगी जो बहुत व्याकुलता पैदा करती है- ‘हम इच्छाएँ कर सकते हैं, लेकिन उनसे आसक्त नहीं हो सकते’। आप तो कह रहे हैं कि बोध सत्र में ये बात हुई थी कि ‘इच्छा नहीं आसक्ति’। इसी बोध सत्र में मैंने कई-कई बार कहा है कि ये ‘हम’ से हट के ‘मैं’ पर आइये, फिर उस ‘मैं’ को देखिये। इच्छा कौन करता है? ये नहीं कहा जा रहा है कि ‘हम इच्छाएँ कर सकते हैं’, क्योंकि ये तो पूरी चीज़ ही घपले वाली हो गई है।  इच्छा कौन करता है? इच्छा किसको होगी?

श्रोता: जो ‘अहंकार’ है, वो तो है ही इच्छा।

वक्ता: अहंकार क्या है? चलिए अहंकार पर आते हैं, अहंकार क्या है?

श्रोता: अहंकार एक गठरी है विचारों और इच्छाओं की।

वक्ता: और गहराई से, असंकार क्या है?

श्रोता2: ‘मैं हूँ’ चेतना।

वक्ता: जब अहंकार बोलता हैं, ”मैं कुछ हूँ” या जब भी ये वाक्य आता है, ‘’मैं कुछ हूँ’’ तो इसी का नाम अहंकार  होता है। अब ‘मैं इच्छा हूँ’, ये ख़ास तरह का अहंकार है। कोई है ज़रूरी थोड़ी कि, ‘मैं हूँ’ के आगे आप इच्छा लगाओ। अहंकार माने ‘मैं’, शाब्दिक अर्थ भी ईगो का यही अर्थ होता है। अब मैं के आगे ये ज़रूरी थोड़े है कि आप यही जोड़ो कि ‘मैं कामना हूँ’। मैं का विषय कुछ और भी तो हो सकता है ना? ये किसने कह दिया कि ईगो जब भी रहेगी, तो उसके साथ में-ये-वो तमाम तरह की बातें रहेंगी। सारा खेल ही इस बात का है कि आपका ‘मैं’ किसके साथ जा कर के जुड़ जाता है।

आखिरी कदम होता है कि जहाँ पर ‘मैं’ किसी के साथ भी नहीं जुड़ा है। वो तो आख़िरी स्थिति होती है कि ‘मैं’ कहीं भी नहीं जुड़ा है। पर जब तक ‘मैं’ जुड़ रहा है, तब तक तो ये देखना ही है कि मैं कहाँ जुड़ा हुआ है। ‘मैं’ कामना के साथ भी जुड़ा हो सकता है और ‘मैं’ में ये गहरी धारणा भी हो सकती है कि मैं ये सब नहीं हूँ, ’मैं ये सब नहीं हूँ’।  वो भी अहंकार ही है ध्यान से देखा जाए तो है तो वो भी अहंकार ही, पर वो मुक्ति की तरफ ले जा रही है। वो मुक्ति की तरफ ले जा रही है। अहंकार अपनेआप में कोई एक चीज थोड़े ही है कि उसको बोल दिया कि ये विचार और इच्छाएँ होता है।

अहंकार ही तो अपना रास्ता खुद है ना। सारा जो आपका बोध का जो चाल है, वो भी तो अहंकार के भीतर-भीतर ही है। एक आदमी बोलता है, बिलकुल उसे गहराई से प्रतीति है कि, ‘’मैं पुत्र हूँ’’ और दूसरा आकर बोलता है कि, ‘’मैं ब्रह्म हूँ’’; इन दोनों के बोलने में अंतर आ चुका है। वक्तव्य तो दोनों के ही अहंकार के हैं क्योंकि दोनों में ही ‘मैं हूँ’, शामिल है पर बहुत अंतर आ चुका है।

तो ये कभी नहीं कहा गया है कि हम इच्छाएँ कर सकते है लेकिन जरूरी नहीं कि हम उससे आसक्त हों। जब आपका मन शुद्ध हो चुका है, तो इच्छाएँ मन में कैसे आएँगी और एक मन के साथ ऐसा कैसे संभव है कि जिसके पास सभी तरह के मलिनतापूर्ण इच्छाएँ हैं, वो आसक्ति से मुक्त हो जाएगा? मैंने ये कभी भी नहीं कहा है कि आप सभी तरह की इच्छाएँ रख सकते हैं और इसके बाद भी आप आसक्ति से मुक्त हो सकते हैं। और कहा भी होगा तो किसी ख़ास सन्दर्भ में कहा होगा।

मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि एक मन जो इतना बिखरा हुआ है, इतना कमज़ोर है कि उसमें दुनिया भर की वासनाएँ उठती हैं, उसमें ये ताकत कहाँ से आ जाएगी कि वासनाएँ तो दुनिया भर की उठें पर वो आसक्त किसी से ना हो जाए। उसमें इतनी ताकत होती ही तो उसमें वासनाएँ ही क्यों उठती?

‘मन की ताकत तो मन की स्त्रोत से समीपता ही है’

मन स्त्रोत से जितना नजदीक होगा, उतना आत्मबल होगा उसमें। वही ताकत है उसकी और मन स्त्रोत के जितना करीब होगा, वासनाएँ उसमें उठेंगी ही क्यों फ़ालतू?

वासना का अर्थ ही होता है कि जो परम इच्छित वस्तु हो सकती है, उससे मैं बहुत दूर हूँ क्योंकि मैं बहुत दूर हूँ इसीलिए मुझे ये छोटी-छोटी, टुच्ची चीजें बड़ी आकर्शित करती हैं। जो परम सम्पदा है उससे मैं इतना दूर हूँ कि फिर मुझे ये दो रुपये और चार रुपये भी आकर्षित करने लग जाते हैं। मैं ऐसा भिखारी हूँ कि अठन्नी भी मेरे लिए बहुत बड़ी बात हो जाती है। तभी तो मन में हज़ार तरह की वासनाएँ उठती हैं ना।

तो इसीलिए मैंने आपसे पूछा कि पूछिये कि कौन है जिसकी इतनी वासनाएँ उठ रही हैं। जिसकी इतनी वासनाएँ उठ रही है, वो निश्चित रूप से बड़ा अशुद्ध मन है, बड़ा विकृत मन है, एकदम भटका हुआ है। वो स्त्रोत से बहुत ही दूर है, तभी तो उसमें ये वासनाएँ उठ रही हैं

खेल इस बात का नहीं होता है कि वासना उठी और उससे आसक्त हुए कि नहीं हुए। खेल इस बात का है कि मन ऐसा हो जाए कि मन में ऐसी उलटी-पुलटी बात आये ही ना।

जीत आपकी इसमें नहीं है कि आपने मन को काबू कर लिया, जीत इसमें नहीं है कि आप डर पर विजय प्राप्त कर रहे हैं, जीत इसमें नहीं है कि लालच उठ रहा है, और आप लालच को जीते जा रहे हैं क्योंकि ये बड़ी संघर्ष की स्थिति है कि लालच उठ रहा है, और आप लालच से लड़ रहे हैं। इसमें कोई खास मज़ा नहीं है। मज़ा तो तब है, जब लालच उठा ही नहीं।

यहाँ पर अभी रख दी जाएँ मिठाइयाँ। और आप सब बड़े संयमी लोग हैं, आप बड़ी कोशिश कर रहे हैं, कोशिश कर रहे हैं, कोशिश कर रहे हैं कि हाथ नहीं बढ़ाएँगे मिठाई की ओर, नहीं बढ़ाएँगे मिठाई की ओर; ये आपके लिए बड़ी आनंद की स्थिति है? आपके दो फाड़ हो चुके हैं, इसमें क्या मज़ा आ रहा है आपको? बात तो तब है, जब रखी हो और आप ऐसे बैठे हो, जैसे रखी ही नहीं है, कि हमारे अब कुछ उलटा-पुलटा उठता ही नहीं है, तो नियंत्रित करने का सवाल ही नहीं उठता।

ये तो जो आपने बात कही, ये तो बड़ी मन के लिए सुविधाजनक बात है कि आप सभी तरह की इच्छाएँ कर सकते हैं, पर आप आसक्त नहीं होंगे। मन जब ऐसा है अभी कि जिसमें ज़रा-ज़रा सी चीजों के लिए कामना उठ जाती है, वो मन आसक्तिरहित हो कैसे जायेगा? ये बताइए?

श्रोता: जब आखिरी बार डिस्कस हो रहा था, वो बिंदु जो हमारी मन वाली एक्टिविटी  में है ना कि ‘मन इच्छा है’, तो आपने बोला था कि ऐसे ही चलेगा ये। मतलब कि हमें ए, बी, सी, डी किसी से भी आसक्त नहीं होना है।

वक्ता:- क्या ए, बी, सी, डी ?

श्रोता: ए कोई इच्छा है, फिर मुझे बी चाहिए, फिर सी, इसी तरह एक से दूसरे में स्थानांतरित होता जाएगा।

वक्ता: ए, बी, सी, डी जब बदलते हैं, तो वो बदलना एक ही तल पर नहीं होता। अभी-अभी मैंने आपसे कहा था कि एक कह रहा है कि, ‘मैं भ्रम हूँ’ और एक कह रहा है कि, ‘मैं ब्रह्म हूँ’, ‘ए’ से ‘बी’ में कुछ बदला? मैं ‘ए’ हूँ और मैं ‘बी’ हूँ, अरे! अंतर है भाई, अंतर कैसे नहीं है? वो एक ही तल पर बदलाव थोड़े ही हुआ है। आप समझ रही हैं बात को? एक आदमी जा कर के कहता है कि मुझे काम चाहिये और एक जाकर के कहता है कि मुझे मोक्ष चाहिये; दोनों एक ही चीज़ थोड़ी मांग रहे हैं। अभी आप कह रहे हैं कि मुझे ‘ए’ चाहिए और ए है सेक्स और साल भर बाद आप कह रहे हैं मुझे मुक्ति चाहिये; ‘बी’ मुक्ति है।

आपको क्या लगता है कि अभी आप उसी वर्चुअल में घूम रहे हैं। बहुत कुछ बदल गया है। तो ठीक कहा गया है उसमें ए से बी, बी से सी, सी से डी चलता रहेगा पर ए, बी, सी, डी एक ही तल में रहेंगे। ये थोड़ी कहा गया है; कि आज आपको मिठाई चाहिये, कल समोसा चाहिये होगा, परसों पकौड़े चाहिए होंगे, ये थोड़ी कहा गया है। ये बात उठने की है। उसको आपने बड़ा गलत समझ लिया कि ए, बी, सी, डी मानो एक ही प्रकार की चीजें हों ।  मैं एक ही प्रकार की चीजों की बात नहीं कर रहा हूँ । ए, बी, सी, डी अलग-अलग आयाम हो सकते हैं। वो भ्रम से ब्रह्म तक की यात्रा है।

श्रोता: सर, लेकिन ये भी तो है कि विचार आते रहेंगे हमेशा।

वक्ता: नहीं तुम्हें कैसे पता कि आते ही रहेंगे; कैसे पता कि आते रहेंगे? तुम अपना ही उदाहरण ले लो। तुम्हारा अपना अनुभव क्या कहता है? तुम्हें सदा एक ही गति से विचार आते रहते हैं? तो जब तुम्हें ही बहुत ज़्यादा आते हैं और कभी बहुत कम आते हैं, तो तुम आश्वस्त कैसे हो सकते हो कि आते ही रहेंगे।

श्रोता: बात तो यही होती है ना ‘मन विचार है’, सर ये भी तो है कि विचार तो उठते ही हैं ……..

वक्ता: मैं तुमसे पूछ रहा हूँ कि तुम्हारे साथ कभी ऐसा नहीं हुआ कि विचार रुक गए हों?

श्रोता: हाँ, होता है।

वक्ता: फिर?

श्रोता: लेकिन आमतौर पर नहीं होता है।

वक्ता:- अरे! जो घटना दो क्षण को घटती है, वो क्या लम्बे समय के लिए नहीं घट सकती है? तो फिर क्यों कह रहे हो कि विचार तो आते ही रहेंगे? ऐसी क्या अनिवार्यता है कि आते ही रहेंगे?

श्रोता: लेकिन सर, ये बात तो हो चुकी है कि अविचार्य कोई चीज़ होती ही नहीं।

वक्ता:- अरे! जब हुई थी तब हुई थी, कुछ सन्दर्भ रहा होगा। तब किसी ने उठ कर के कुछ बोला होगा तो ये बात कही गई होगी। पर उसके बाद से देखो कितनी नई पत्तियां आ गई हैं अपने गमले में।

श्रोता 3:- सर, ‘शून्य विचार’ जैसा कुछ होता है ?

वक्ता:- इसी तरह किसी ने कुछ बोला होगा तो मैंने कहा होगा कि नहीं होता है। फिर तुम वो कहोगे तो फिर हमें कहना होगा कि नहीं होता है क्योंकि ये भी एक विचार है। पर मैं ये इसीलिए थोड़ी कहता हूँ कि तुम इस बात को अपना सहारा बना लो की विचार तो हमेशा आते ही रहेंगे। देख रहे हो दोनों ने एक ही काम करा है। इन्होंने अपनी सहूलियत के लिए पकड़ लिया कि विचार से तो कोई मुक्ति होती नहीं, विचार तो चलेंगे ही हमेशा। उन्होनें इस बात को पकड़ लिया कि इच्छाएँ तो हमेशा रहती ही हैं, उनसे आसक्त मत होना। तो अब विचार मिल गया इनको, विचार में मस्त रहो, उनको इच्छा मिल गई, वो अपनी इच्छा में व्यस्त रहेंगे।

अरे, कभी भी पूरी बात थोड़ी कही जा सकती है भाई। बात तो हमेशा जो कही जाएगी, वो आंशिक ही होगी ना।  उसको ज़रा ध्यान से सुनो, उसको सन्दर्भ में रखो। ये थोड़ी है कि उसके एक हिस्से को पकड़ लिया और सोचा कि इसी को दना-दन चला दें।

श्रोता: सर, ये भी तो है कि, विचार सिर्फ़ मेहमान होते हैं।

वक्ता: कई तरह के होते हैं मेहमान, ये अंतर करोगे कि नहीं करोगे? है तो मेहमान ही पर कई तरह के होते हैं। लुटेरे भी होते हैं, मेहमान बनके आते हैं और परम भी आता है मेहमान बनके। तो कुछ अंतर करोगे? इसी को विवेक कहते हैं, ‘डिस्क्रीशन’। कुछ रहेगा कि नहीं रहेगा? है तो मेहमान ही।

श्रोता: सर, लेकिन वही तो होता है कि जिस समय समझ में आ गया, वो चला गया उसी समय।

वक्ता: वो चला इसीलिए गया क्योंकी मन को अब उसकी आवश्यकता नहीं रही। एक बात ध्यान से समझो, मन वही करता है जिसके बारे में उसको शिक्षा दी गई है कि ये आवश्यक है। तुम्हें अगर शिक्षा दी गई है कि इस स्थिति में खतरा है तो तुम सोचोगे, सोचोगे कि जान कैसे बचाएँ, भागें कैसे। वहीं अगर तुम्हारी शिक्षा बदल दी जाए, मन का प्रशिक्षण बदल दी जाए कि ठीक-ठाक है कोई दिक्कत नहीं है, तो कोई विचार नहीं आएगा।

विचार क्या है? विचार तो मन का प्रशिक्षण है। मन को सुख चाहिये, ठीक है ना। मन को सुख चाहिये और सुख मन को सिर्फ़ और सिर्फ़ इस तरीके का चाहिये कि, ‘‘मैं बना रहूँ।’’ यही मन के लिए सुख है, ‘मेरा होना’। तुमने जाहे में मन को बता दिया कि सुख है, मन उधर को ही जाएगा। और अगर वो चीज नहीं मिल रही है, तो फिर वो विचार करेगा कि कैसे पा लूँ। विचार मन का हथियार है सुख को पाने का। विचार क्या है? विचार मन का उपकरण है, जिसके द्वारा वो सुख को पाने की कोशिश करता है और दुःख को टालने की। बात समझ रहे हो?

विचार क्या है? विचार, जो नहीं है उसको पाना है और जो खतरा आ रहा है, उसको टालना है। तो विचार मन का उपकरण है ये दोनों करने के लिए। लेकिन सुख क्या है और दुःख क्या है ये मन को किसने बताया? ये तुम्हीं ने बताया ना? मगर सुख और दुःख की थोड़ी व्युत्पन्न परिभाषा दे दो मन को, फिर उसको विचार की ज़रुरत ही नहीं पड़ेगी ना। तुमने सुख ही मन को ये बता रखा है, मान लो ये यहाँ बैठे हो, ये सत्र चल रहा है, तुमने मन को सुख की परिभाषा ही ये दे रखी है कि सुख तब है जब पकौड़ा आ जाए। तो अभी मैं कह रहा हूँ पर मन में विचार ये लगातार चलता रहेगा, क्या चलता रहेगा?

श्रोतागण: पकौड़ा आ जाए।

वक्ता: तुम परिभाषा बदल दो सुख की। तुम कहो, “पकौड़ा दो कौड़ी का, सड़ा हुआ तेल, थका हुआ, पता नहीं उसमें क्या डाल के लाता है, पकौड़े की कोई कीमत है। अरे! ये जो बात हो रही है, ये ज्यादा महत्वपूर्ण है”। तुम मन को समझा दो। अब मन विचार करेगा कि पकौड़ा कब आएगा? तो ऐसा नहीं है कि विचार कहीं से यों ही उठने लगता है। विचार उठेगा कि नहीं उठेगा और कब उठेगा, कैसा उठेगा ये भी तय तुम ही करते हो कि तुम मन को क्या शिक्षा दे रहे हो। तुम मन को सही शिक्षा दो, तो विचार बदल जाएगा।

श्रोता: सर, ये जो मन को शिक्षा देने की बात कही आपने ये तो खुद ही देनी पड़ेगी?

वक्ता: और कौन देगा?

श्रोता: मन खुद ही अपनेआप को देगा?

वक्ता:- बिलकुल! बिलकुल! और इसीलिए कहा जाता है ना कि तुम्हारा गुरु और कोई हो ही नहीं सकता है क्योंकि आखिर में तुम्हारी ही सहमती चाहिये मन को कुछ बोलने के लिए। बाहर से कोई बात तुमने सुन भी ली, तो भी अंतिम तो तुम ही हो, सबसे बड़े मालिक तो तुम ही हो। तुम ही को मन को कहना पड़ेगा कि, ‘हाँ भाई, ये बात जो थी ठीक है, अब ये तू मान ले।’ फिर मन मान लेगा, ठीक है मन ने मान लिया। मन तो मन है, मन की चेतना तो त्तुम हो ना, मन के मालिक तो तुम हो ना। मन अपनेआप में तो सिर्फ एक मशीन है, एक प्रयोग करने का यन्त्र है, इसकी ऊर्जा तो तुम हो ना। उसका बोध तो तुम हो ना।

श्रोता: तो फिर चेतना हमें गलत बात मानने को कैसे मना लेती है?

वक्ता: जब वो मन से ही ज्यादा मिल जाती है। जब चेतना, चेतना नहीं रहती है, जब वो मन से ही मिल जाती है, तो गन्दी हो जाती है। जब पुरुष नहीं रहता पुरुष, वो प्रकृति से बिलकुल… । तो फिर कुछ पता नहीं होता उसको कि अपनी बात कह रहा है या मन की बात कह रहा है। तो ये जो कहते हैं कि विचार बहुत उठता है, विचार बहुत उठता है; विचार इसीलिए उठता है क्योंकि तुमने विचार को उठने का प्रशिक्षण दे रखा है। तुम प्रशिक्षण बदल दो, विचार नहीं उठेगा। विचार को और थोड़ी कुछ किया जा सकता है कि दबा दिया, कि ये कर दिया, या कि नुस्खे खोज लिए कि विचार तो उठे, पर उससे आसक्त ना हों।

ये करोगे कैसे, तुम ये समझा दो? तुम यहाँ बैठे हुए हो और ऐसा तुम्हारा बीमार मन है कि मन में लगातार ख्याल ही उठ रहा है कि कब निकालूँ छूरा और बगल वाले को मार दूँ। तो ये मन कैसा है और ये विचार उठ काहे के लिए रहा है? तुम बताओ ना? सबसे सुखी तो वो है ना, जिसको विचार उठे ही नहीं।

जा रहे हो ट्रेन में और दो लोग अगल-बगल बैठे हैं सीटों पर, शताब्दी चली जा रही है। एक बैठा हुआ है और उसको दुनिया भर के विचार आ रहे हैं कि अभी-अभी मलेशिया का वो हवाईजहाज़ उड़ा था वो गायब हो गया, वैसे ही ये ट्रेन गायब हो जाए तो। विचार का क्या है क्यों नहीं आ सकता? बैठ कर के अखबार पढ़ रहे हो, उसमें यही लिखा हुआ है कि मलेशिया का हवाईजहाज़ अभी तक मिला नहीं। कह रहे हैं, “देखो ये शताब्दी जा रही है, वैसे ये भी गायब हो जाए फिर”? और सत्तर देशों की सेना फिर लगी हुई है और शताब्दी नहीं मिल रही। अभी घर वालों का क्या होगा? सोच रहे हैं और विचार पता नहीं कहाँ-कहाँ उड़ रहे हैं।

और दूसरी ओर आपके ही बगल में कोई बैठा है और वो शांत है उसको विचार आ ही नहीं रहा है। और ये तीसरा आदमी है जिसको आ रहा है, पर वो उसको दबा रहा है। तीनों में सुखी कौन है?

श्रोतागण: दूसरा …

वक्ता: जिसको आ ही नहीं रहा। अरे! हमें आता ही नहीं ऐसा विचार। तो, आसक्ति-अनासक्ति की बात नहीं है ना।  वो मनीष जी बैठे हैं, वो कह रहे हैं कि आ तो रहा है, पर हम आसक्त नहीं हैं। और आ रहा है, अभी और आ रहा है पर आसक्त नहीं हैं। पसीने छूट रहे विचार के आने से, आसक्त नहीं हैं। सबसे भला तो ये है कि ऐसा कोई विचार आए ही नहीं।

श्रोता: मन को ऐसे आचरण का कैसे बनाएँ?

वक्ता: मन को परिभाषाएँ आपने ही दी हैं, परिभाषाएँ बदल दीजिये। आपने तो मन को लगातार सिखा दिया है ना कि सुख कहाँ है। मन को दूसरी परिभाषा दीजिये, मन भागेगा ही नहीं। ये जितनी सब बातें है ना चित्त-वित्त, निरोध और ये सब, इन सब से आगे की बात कबीर कह गए हैं कि मन को यार बना लो अपना। वो तुम्हें तंग ही ना करे।  मन से लगातार संघर्षरत रहने में तुम्हें क्या मिल जाएगा कि मन भाग एक तरफ को रहा है, पर हम बड़े तपस्वी हैं उसको कहीं जाने नहीं देंगे। खींच रहे हैं, क्या कर रहे हैं।

इसके लिये है जिंदगी कि मन एक तरफ को भागे और तुम डंडा ले कर के उसको रगेद रहे हो। जिंदगी इसीलिए है क्या? जिंदगी ऐसी है कि मन से दोस्ती है। बड़ा प्यारा है, ’अपने-अपने चोर को सब कोई डारे मार’, सबने मन को चोर बना रखा है और वो उसको मारने के चक्कर में लगे रहते हैं। ‘मेरा चोर मुझको मिले सबकुछ डारु वार’, ‘’मैंने मन से यारी कर ली है, मैंने सब कुछ उस पर न्योछावर कर दिया, मन से मेरी कोई दुश्मनी ही नहीं है। वो इधर-उधर फ़ालतू भागता ही नहीं है, दोस्त है मेरा। मैं जहाँ रहता हूँ वो मेरे साथ रहता है।’’ यही तो दोस्ती होती है ना कि, ‘’मैं जहाँ हूँ मन वहीँ है, मन इधर-उधर नहीं भागता है।’’

बुरी से बुरी स्थिति में भी आप हैरान इसीलिए हो जाते हो क्योंकि मन में विचार उठने शुरू हो जाते हैं उलटे-पुलटे।  विचार ना उठें तो स्थिति कैसी भी रहे आपको फर्क क्या पड़ेगा। मन के मूल्य ठीक करिये। क्या महत्त्वपूर्ण है, क्या महत्त्वपूर्ण नहीं है ये आपने ही मन को सिखाया है। उसको बदल डालिये। बताईये मन को कि कुछ मूल्य नहीं है फ़ालतू की बातों का, ये करने का, वो करने का और थोड़ा सा सतर्क रहिये।

मैं एम.आई.टी में था, तो वहाँ पर विद्यार्थियों को मैंने एक अभ्यास दिया, वो आपलोग भी कर के चाहे तो देख लीजिये। मैंने कहा कि तुम्हारे कॉलेज के बगल में ही मॉल है, वहाँ जाकर खड़े हो जाना। वहाँ उस सब को देखना, जो तुम्हारे भीतर कोई मूल्य बैठाने की कोशिश की जा रही है। मैंने कहा कि देखना कि किस तरीके से एक बीमा के विज्ञापन में एक चिकना सा मर्द है, उसकी चिकनी सी बीवी है और दो खरगोश जैसे बच्चे हैं। ये तुम्हारे मन में एक मूल्य बैठाने की कोशिश की जा रही कि इसी का नाम सुख है। उसको ध्यान से देखना और फिर अपनेआप से ये कहना कि ये झूठ है।

पहले इस बात को समझो कि तुम्हारे मन को वो सिखाने की कोशिश की जा रही है कि यही महत्त्वपूर्ण चीज़ है।  जैसे ही मन को ये सीख दे दी गई कि यही महत्त्वपूर्ण है, विचार उठेगा, मन में विचार उठेगा कि इसको पाऊँ कैसे? मैंने कहा कि सड़क पर तुम जा रहे हो, और वहाँ लाल बत्ती की एक गाड़ी जा रही है, उसके पीछे आठ-दस गाड़ियों का और काफिला जा रहा है, ये तुम्हारे मन को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है कि ये चीज महत्त्वपूर्ण है, ये पाने लायक है। मैंने कहा, ”उसको ध्यान से देखना खड़े हो कर के और फिर ज़ोर से बोलना कि ये झूठ है” ।

फिल्म देख रहे हो, वहाँ पर तुमको ये दिखाया जा रहा है कि जब कोई बिलकुल आनंद मनाना चाहता है तो वो गोवा जाता है और बीच पर नंगा होके नाचता है। उस चीज़ को ध्यान से देखना और फिर अपनेआप से कहना कि ये झूठ है। नहीं तो हमेशा यही होता रहेगा कि रहोगे कार्यालय में और मन इस विचार में लगा रहेगा कि किस तरीके से जाऊँ और बीच पर नाचूँ। ये तुम्हारे भीतर मूल्य बैठाने की कोशिश की जा रही है। इसी से विचारों का उपद्रव पैदा होता है। विचार ऐसे ही नहीं कहीं से टपक पड़ते, विचारों के लिए पहले पूरी एक ज़मीन पहले तैयार की जाती है। मन को एक प्रकार की शिक्षा दी जाती है कि यही तो महत्वपूर्ण है। फिर जब वो तुम्हें मिलता नहीं तो विचार उठता है, विचार उठता है कि इसको पाऊँ कैसे?

तो जिन-जिन स्रोतों से मन को प्रशिक्षण मिलता है, ध्यान से देखो और कहो कि ये झूठ है। तुम्हें ये कहना पड़ेगा कि ये झूठ है। अभी तक हमने संस्कारों को आसानी से सोख लिया है, इसी कारण विचारों की भीड़ पैदा होती है।  ये तो हम जानते ही हैं ना कि विचार कंडीशनिंग की उपज है, तो उसका निदान भी इसी से होगा कि जो संस्कार ले लिए हैं उनको अब साफ़ करिये। अपनी चेतना के माध्यम से साफ़ करिये कि ये झूठ है, न।

ये एक सवाल है जिसको जीवन में जिसने साध लिया वो मालिक हो जाएगा। वो सवाल ये है कि ‘महत्वपूर्ण क्या है?’। क्या महत्वपूर्ण है? क्योंकि हमें नहीं पता होता कि क्या महत्वपूर्ण है इसीलिए हम सस्ती चीजों को महत्वपूर्ण मान लेते हैं। हमें पता ही नहीं है महत्वपूर्ण क्या है। बच्चा है, अभी उसे नहीं पता महत्वपूर्ण क्या है, तो उसने देखो किस चीज़ को महत्व दे रखा है, किस चीज़ को दे रखा है? वो सीटी मिल गई है, उसको तो उसके लिये वही महत्वपूर्ण है।

हमारे साथ भी ऐसा ही है, बच्चे का दिख रहा है, हमारा दिखता नहीं है। हमने जीवन में ये सवाल कभी ईमानदारी से पूछा ही नहीं है कि ‘महत्वपूर्ण क्या है’, क्या है जो पाने योग्य है, क्या है जो करने योग्य है? और क्योंकि हमने कभी पूछा नहीं है, हमारे भीतर खाली जगह है इसीलिए उस खाली जगह में कुछ भी कचरा भर दिया गया है।  हमने दुनिया भर के व्यापारियों को अनुमति दे दी है कि वो आएँ और हमारे मन में व्यापार करें। ये अनुमति दी हम ही ने है। समझ रहे हैं? रुकिये और पूछिए ये बात, महत्वपूर्ण क्या है? क्या ये वास्तव में महत्वपूर्ण है। और दो ही चार गिनी हुई चीजें हैं, जो समाज ने बता दी हैं कि महत्वपूर्ण हैं। उनके विषय में पूछिए कि क्या वो वास्तव में महत्वपूर्ण हैं?

दो ही चार चीजें हैं, दुनिया का कोई भी आदमी हो, घूम-फिर के भाग उन्हीं के पीछे रहा है। भागने की गति में अंतर हो सकता है, कौन कहाँ तक पहुँचा इसमें अंतर हो सकता है, पर लक्ष्य सभी का एक ही है–पद, प्रतिष्ठा, पैसा, कह सकते हो शक्ति, पावर।

श्रोता 2:- भागने का मन ही ना करे, जहाँ हैं वहीँ ……

वक्ता: मन ऐसा हो जाए तो बहुत बढ़िया। पर उसके लिये बड़ी धुलाई करनी पड़ेगी क्योंकि हमें जो संस्कार मिले हैं वो तो इन्हीं चीजों के पीछे भागने के लिए ही मिले हैं। और बहुत सौभाग्य वाला होता है कोई जिसको अचानक ये दिख जाए कि इस भागने में कुछ मिल नहीं रहा है। अन्यथा भागने की गतियों में अंतर होता है लेकिन भागते सब उसी के पीछे हैं। कोई दस हज़ार के पीछे भाग रहा है, उसके पास नहीं है कुछ ज़्यादा। कोई दस करोड़ के पीछे भाग रहा होगा।

श्रोता: उसके आगे क्या करें?

वक्ता: कुछ नहीं है ये, ये कहाँ पूछा जाता है कि इसके आगे क्या है? ‘बियॉन्डनेस’ की कोई बात कहाँ उठती है हममें। घेरे के बाहर क्या है? ये सवाल उठता कहाँ है। आप सड़क पर चलते हुए आदमियों को देखिये अभी इस वक्त भी, सड़कों पर जाम लगा हुआ होगा, शाम का समय है, और आप देखिये उनको और उनकी शक्लों को देखिये और मुझे बताइये कि क्या ये वो कह रहे हैं कि इसके आगे भी कुछ है। या उनका मन पूरे तरीके से उसी घेरे में, उसी सड़क पर आ कर के बैठ गया है कि ये ही सर्वाधिक महत्वपूर्ण है, कि यही तो है, जो महत्वपूर्ण है।

दुनिया में कोई भी दौड़ रहा हो, किसी की भी दौड़ कैसी भी हो, पर उसको आप करीब से देखिये, तो वो दौड़ बस इन्हीं दो-चार खानों में आ जाएगी।

 श्रोता: लेकिन सर, हम किस आधार पर कहेंगे कि क्या महत्वपूर्ण है?

वक्ता:- तो ठीक है, फिर ये भी पूछिये कि निर्णय लेने का उचित आधार क्या है? भाई ठीक है बिलकुल सही बात है, क्या महत्वपूर्ण है, किस विकल्प को चुनें उसके लिए पहले आधार अंतिम करने पड़ते हैं। तो वो भी पूछिये कि कौन सा आधार महत्त्वपूर्ण है? पूछना सवाल अभी भी वही है कि महत्वपूर्ण क्या है? किस कसौटी पर कसें वो भी पूछिये?

श्रोता: सर, हम जो कसौटी चुनेंगे उस कसौटी पर तो वही चीजें उतर रही हैं तो……

वक्ता: मैं इस बात पर पूरा-पूरा यकीन कर रहा हूँ कि जब हम ईमानदारी से सवाल पूछते हैं तो उत्तर प्रकट होता है। मैं ये मानने को तैयार नहीं हूँ कि हम पूरी कोशिश कर के भी जब विचार करेंगे, जब जानना चाहेंगे तब भी हम घेरे के भीतर ही रह जाएँगे। देखिये मैं अक्सर आपसे कहता हूँ, बात को समझिएगा, मैं आपसे इसीलिए कहता हूँ क्योंकि कुछ ऐसा है, जिसे मैं तोड़ना चाहता हूँ इसीलिए कहता हूँ। जब भी मैं आपसे कहता हूँ कि तुम जो कुछ भी सोचोगे, वो तुम्हारी ‘कंडीशनिंग’ से आ रहा होगा। ये बात मैंने आपसे भी कई बार कही है, विद्यार्थियों से तो लगातार कहता ही रहता हूँ।

लेकिन मैं अब आपसे एक दूसरी बात कह रहा हूँ। जब तुम ध्यानमग्न हो कर के देखते हो, तब तुम्हें जो मिलता है वो तुम्हारी कंडीशनिंग के भीतर से नहीं आ रहा होता है। ईमानदार कोशिश तुम्हें कुछ ऐसा दिखा देती है, जो तुम्हें पहले से ज्ञात नहीं है। तो अगर मेरे सामने कोई विद्यार्थी खड़ा होता है और कहता है कि हमनें सोच लिया और हमें यही पता चल रहा है और अगर मैं उसे बोलता हूँ कि तुम जो भी सोच रहे हो, वो तुम्हारे अतीत से आ रहा है तो मैं सिर्फ इस कारण बोल रहा हूँ क्योंकि मुझे दिख रहा है कि इसने ईमानदार कोशिश नहीं की है।

तो ये बिलकुल मत कहिये कि हम जो भी मापदंड चुनेंगे, वो तो हमारी कंडीशनिंग से ही आ रहा होगा। नहीं, जब आप ध्यान से देखते हैं तो अचानक वो प्रकट हो जाता है, जो अभी तक आपको दिखा ही नहीं था। इतना विवश नहीं है आदमी, इतना यांत्रिक नहीं है आदमी। बिलकुल मैं कहता हूँ कि मन यन्त्र है, लेकिन तभी जब आप ध्यान में नहीं होते हैं। तो अगर आप पढ़ें कि मैं किसी से कह रहा हूँ कि तुम और कर क्या सकते हो, मन एक यंत्र है, तो उसको गलत मत समझ लीजिए। उसका अर्थ बस इतना ही है कि मुझे दिखाई दे रहा है कि ध्यानमग्न नहीं है।  बस उस बात को मैं कह नहीं रहा हूँ। पर स्थिति यही है, इसी कारण इस बात पर ज़ोर दे कर के कह रहा हूँ कि तुम्हारा प्रत्येक विचार तो तुम्हारे मन के दायरे से ही आता है। ये बात सिर्फ तभी तथ्य है जब आप विचारों में उलझे हुए हों और ध्यान का सर्वथा अभाव हो। अन्यथा कुछ ऐसा भी उठेगा जो बिलकुल ताज़ा है।

तो ईमानदारी से जब आप देखेंगे तो ये नहीं है कि आपको वही सब महत्वपूर्ण लगेगा, जो हमारा अभी का प्रश्न है कि महत्वपूर्ण क्या है? तो ईमानदारी से जब आप देखेंगे, तो आपको वही सब महत्वपूर्ण नहीं दिखेगा जिसके लिए आपको संस्कारित कर दिया गया है। जब आप ईमानदारी से देखेंगे तो संभावना यही है कि आपको उस सब की व्यर्थता ही दिखाई दे, जिसके विषय में आपको संस्कारित किया गया है। बात ईमानदारी की है।

श्रोता: कभी-कभी आपको दिख भी जाता है, जब आप ध्यान में होते हो कि जो है, वो व्यर्थ है लेकिन हमें पता नहीं होता कि घेरे से बाहर क्या है और हम उस घेरे से इतना ज़्यादा आसक्त हैं कि दिखने के बावजूद, बस उस डर या आसक्ति की वजह से हम उस घेरे से बाहर नहीं न आ जाएँगे। शायद अभी उतनी इच्छा नहीं जागी है।

वक्ता: दो-तीन वजहें होती हैं, कोई घेरे से बाहर कूदता है या तो ध्यान इतना गहरा हो कि बिलकुल दिख जाए कि घेरे के अन्दर एकदम कूड़ा पड़ा हुआ है, इससे बाहर जाना ही है। या ऐसी गहरी विरक्ति जागे, घृणा सी जाग पड़े, कि घेरे के अन्दर जो है, इसमें नहीं रह सकता बाहर कुछ भी होगा, बाहर भले मौत खड़ी हो, मौत इस घेरे से बेहतर है; तो मैं घेरे से तो बाहर कूद रहा हूँ। जैसे जलते हुए घर से कोई कूद जाता है। देखा होगा आपने अगर किसी दस मंज़िली इमारत में आग लगी हुई है, तो आदमी दसवीं मंजिल से भी छलांग लगा देता है। कहता है कि मर जाऊँ भले ही, पर इस जलने से तो बेहतर होगी वो मौत।

तो दूसरी स्थिति वो होती है, जब आप घेरे से बाहर जाते हो। तीसरी स्थिति ये होती है कि आपको दिख रहा है कि कोई घेरे के बाहर खड़ा हुआ सा प्रतीत होता है, थोडा यकीन कर लो उस पर। ठीक है मन में श्रद्धा नहीं उठ रही है तो मन से यही पूछ लो कि मेरा नुकसान कर के उसको मिलेगा क्या? मन तर्क की भाषा समझता है तो तर्क ही कर लो मन से कि अच्छा ठीक है, वो घेरे के बाहर है और आमंत्रित कर रहा है कि तुम भी बाहर आओ, तो इसमें उसका क्या स्वार्थ हो सकता है, मुझसे क्या मिल जाना है उसको।

तो कोई भी रास्ता हो सकता है – एक, दो, तीन, चार, पाँच। आपके लिए जो सुविधाजनक हो, आप चल लीजिये उस पर। या तो गहरा ध्यान आ जाए, या गहरी उत्रिशना आ जाए, या थोड़ा सा यकीन कर लो।

श्रोता: तो सर्कल से बाहर निकलने का मतलब तो मन की दशा ही कहीं जा रही होगी? या कुछ और है, कुछ शारीरिक या….

वक्ता: होगा कुछ, क्या करना है उससे। इतना पता है कि घेरे का बाहर जो है, उसमें बड़ा मज़ा सा दिख रहा है, मौज है। घेरे के भीतर आग है, बाहर आग नहीं है इतना काफी नहीं है? बाहर और क्या है ये प्रश्न तो बड़ा विलासी है पूछना। ये तो वो पूछे जिसको घेरे के भीतर कुछ मिल रहा हो, जिसको ये दिखाई दे कि घेरे के भीतर तो बस आग ही आग है। क्या उसके पास ये सवाल कर पाने की विलासिता है कि घेरे के पार क्या है? अरे! कुछ भी होगा, इससे तो बेहतर ही होगा। क्यों पूछते हो कि बाहर क्या है?


सत्र देखें : आचार्य प्रशांत: मन के स्रोत से निकटता ही है मन की ताकत(Strength is nearness to the Source of mind)


आचार्य प्रशांत से जुड़ने के माध्यम:

  • अद्वैत बोध शिविर

हर महीने होने वाले इन यह शिविर हिमालय की गोद में, आचार्य जी के नेतृत्व में रह कर दुनिया भर के दुर्लभ शास्त्रों के अध्ययन का अनूठा अवसर हैं।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा:  +91 – 8376055661

  •   आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण (कोर्स)

आचार्य जी द्वारा हर माह चुनिंदा शास्त्रों पर प्रवचन एवं रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी में उनकी महत्ता जानने का अवसर।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com प या

 संपर्क करें: श्री अपार मेहरोत्रा : +91 9818591240

  •    जागृति माह

    जीवन के एक विशेष विषय पर और जीवन के आम दिनचर्या की समस्याओं का हल पाने का अनूठा अवसर। जो लोग व्यक्तिगत रूप से सत्र में मौजूद नहीं हो सकते, वो ऑनलाइन स्काइप या वेबिनार द्वारा बोध सत्र का            हिस्सा बन सकते हैं।

    आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

सम्पर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91 9818585917

  •  आचार्य जी से निजी साक्षात्कार

आचार्य जी से निजी बातचीत करने का बहुमूल्य अवसर।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

संपर्क करें:  सुश्री अनुष्का जैन: +91 9818585917


सम्पादकीय टिप्पणी :

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़न:  http://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट:  https://goo.gl/fS0zHf

        

 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s