प्रेम – एक अकारण घटना

हर शब्द के दो अर्थ होते हैं — “तुम किस तल पर हो बस ये देख लो” |

केवल जो संबंध संभव है वो प्यार का है |

अहमियत सिर्फ प्रेम के संबंध की होती है |

मन प्रेम से भागता रहे इसके लिए हमने रिश्ते गढ़ लिए हैं |

जहाँ कारण है वहाँ ‘प्रेम’ नही | सत्य के लिए एक नाम ये भी है, ‘अकारण’ 

एक ही संबंध होने दो और वो संबंध प्यार का हो |



पूर्ण लेख पढ़ें: रिश्ते प्रेम के सस्ते विकल्प तो नहीं

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s