ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं || आचार्य प्रशांत: मुझको बस इक झलक मेरे दिलदार की मिले

उनको ख़ुदा मिले हैं ख़ुदा की जिन्हें तलाश

मुझको बस इक झलक, मेरे दिलदार की मिले।

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं

मेरे काम की नहीं।।

आचार्य प्रशांत:- अमर यादव ने नेतृत्व किया है, कह रहे हैं, “उनको ख़ुदा मिले हैं, ख़ुदा की जिन्हें तलाश, मुझको तो इक झलक मेरे दिलदार की मिले।”

कह रहे हैं, “क्या दिलदार ख़ुदा से बढ़कर हैं?”

हाँ, बिलकुल है।

राम बुलावा भेजिया, दिया कबीरा रोये।

जो सुख साधु संग में, सो बैकुंठ न होय।।

~ कबीर

ख़ुदा थोड़े ही चाहिए तुम्हें, चैन चाहिए।

ख़ुदा चैन नहीं देता, जहाँ चैन मिल जाये वहाँ ख़ुदा है।

अगर ख़ुदा को पहले रखोगे तो तुम ख़ुदा को ढूँढोगे कैसे? क्योंकि, तुम तो बेचैन हो और बेचैन आदमी कुछ भी ठीक ठाक ख़ोज नहीं सकता। बेचैन आदमी को तो ये देखना है कि उसे उसकी जो एक माँग है, उसकी पूर्ति कहाँ मिलेगी और बेचैन आदमी की एक ही माँग है — चैन

जहाँ चैन मिल जाये वहाँ ख़ुदा जानें।

यही कारण है कि जिन्हें वास्तव में मिला है, उन्होंने कई बार बड़ी विस्मयकारी बातें कहीं हैं।

मैं क्यों कर जावां काबे नुबुल्लेहशाह हैं। कह रहे हैं, काबा नहीं जाना। मुझे तो तखतहज़ारे में ही मिल जाता है।

तखतहज़ारे में कौन? शाह इनायत हैं गुरु उनके। कह रहे हैं कि जाना ही नहीं है दूर। जहाँ चैन मिले, ख़ुदा तो वहाँ है ना। मुझे मेरे गुरु के सानिध्य में चैन मिल जाता है, मैं क्यों इधर-उधर जाऊँगा? कहाँ पूजा करूँगा? पूजा भगवान की होती है।

भगवान वो जो सुकून दे दे। जब सुकून मिल ही रहा हो भगवान कहीं और क्यों तलाशूँ?

बात खत्म।

“जो सुख साधू संग में, सो बैकुंठ न होय।

राम बुला रहे हैं और कबीर रो रहे हैं, अजीब बात है, कबीर जीवन भर राम के लिए तत्पर रहे, प्यासे रहे, फिर कहते हैं।

“राम बुलावा भेजिया, दिया कबीरा रोये।

नहीं जाना, क्यों नहीं जाना? इसलिए नहीं कि राम नहीं चाहिए, इसलिए कि राम मिल गए हैं, पर कहाँ? साधु-संग में। राम और कहाँ होते हैं? जीसस का वचन है, कहते हैं, “जहाँ पर कुछ लोग बैठकर के मेरा नाम ले रहे होंगे, जान लेना मैं वहीं पर हूँ और कहीं नहीं पाया जाता मैं। जहाँ एक सभा, मंडली बैठकर मेरा नाम ले रही हो, जहाँ मेरा नाम लिया जा रहा हो, मैं वही पर हूँ।” जब साथ बैठकर जीसस का नाम लेने से मिल ही गये तो फिर कौन कहेगा कि चर्च/गिरिजाघर जाना है? यहीं मिल रहे हैं भाई। बल्कि उठकर कहीं और जाएँगे तो, क्या पता छिन जाए? इसी कसौटी पर कसना। व्यावहारिक रहना, सिद्धान्तों में मत फस जाना।

सत्य की तलाश वास्तव में शांति की तलाश है।

सत्य और शांति को तुमने अलग-अलग किया तो सत्य सिद्धान्त मात्र बनकर रह जाएगा। सत्य, तुम्हें मिला या नहीं मिला, इसकी एक ही कसौटी है; शान्त हुए कि नहीं? चैन, सुकून आया कि नहीं? और चैन, सुकून तुमको जहाँ भी आ गया, जान लेना सत्य वहीं है। ना आगे बढ़ना, न पीछे जाना, न दाएँ, न बाएँ।

समझ रहे हो बात को?

शांति के अलावा तुमने सत्य की पहचान का अगर कोई भी और निर्धारक बनाया तो धोखा खाओगे। इसलिए तो लोग कई बार सत्य के सम्मुख होते हुए भी पहचान नहीं पाते, क्योंकि वो कई और तरीकों से सत्य को जाँचने की कोशिश करते हैं। वो कहते है फलानी चीज़ मीले तो शायद वो सत्य होगा। सत्य का मुख शायद ऐसा होता है, सत्य का माहौल शायद ऐसा होता है।

पचास अन्य पैमाने लगाते हैं, पचास अन्य तरीकों से परीक्षण करते हैं वो सारे तरीके झूठे हैं।

सत्य तुम्हारे सामने है, इसका एक ही प्रमाण होता है तुम ठहर जाते हो, साँसें ही थम जाती हैं, समय थम जाता है।

एक अपूर्व शांति तुम्हारे ऊपर उतर आती है और जहाँ तुम पर वो शान्ति उतर आए वहीं जान लेना सत्य है।

अब और मत तलाशना।

ना आगे बढ़ना, ना पीछे जाना, बिल्कुल ठिठक जाना, अवाक खड़े हो जाना, कहना यहीं है मिल गया है, ज़रा सा भी हिला तो चूक होगी।

कितना सरल तरीका है जाँचने का,

जहाँ तुम थम जाओ, वहीं वो है।



सत्र देखें : ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं || आचार्य प्रशांत: मुझको बस इक झलक मेरे दिलदार की मिले


निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं :-

१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
८. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
९. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
१०. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.comपर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s