नव वर्ष का आरम्भ, आचार्य प्रशांत जी के संग || प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन (2019)

ny

हर साल की तरह इस बार भी ,
नव वर्ष का स्वागत अद्वैत परिवार ने
बोध की दिशा में कदम बढ़ाते हुए रखा,
और इस महोत्सव का हिस्सा बनने के लिए
दूर-दूर से आये आचार्य जी के प्रेमी व शिष्यों ने भाग लिया,
जो भलीभांति जानते थे
कि नव वर्ष का आरम्भ उसके साथ होना चाहिए
जो प्राथमिक है, और एक आनंदमय व बोधपूर्ण जीवन के लिए
अति -आवश्यक है।


आचार्य जी के संग सत्संग

महोत्सव की शुरुआत आचार्य जी के स्वागत से हुई,
सभी श्रोताओं को अपने मन के प्रश्नों को
बीतते साल के साथ लय करने का
मंगलमय अवसर प्राप्त हुआ:

 

This slideshow requires JavaScript.

सत्र से कुछ महत्वपूर्ण उक्तियाँ:

“जो अपनी कमियों से ग्रस्त होता है
वही दूसरों की कमियाँ ढूँढने निकलता है।

पकड़ना अपने-आप को अगर तुम्हें निंदा-रस बहुत प्यारा है।”

…………..

“खुद से हारे-हारे,
दुनिया फ़तह भी कर आये तो क्या है!

और तुम तो खुद से भी हारे हो और दुनिया से भी।

खुद से भी हारे हो,
दुनिया से भी हारे हो,
बड़े बेचारे हो।”

…………..

“जब तक संदेह उठ रहे हैं,
तब तक बोध में स्थापित
नहीं हुए हो।”

…………..

“हमें सत्य नहीं,
शब्दों से ज़्यादा मतलब है।”

…………..

“जो भी करो,
एक ध्येय के साथ करो,
इसका नाम है ध्यान। “

…………..

पूरा सत्र देखें: 
नव वर्ष सत्संग, आचार्य प्रशांत जी के संग || अद्वैत बोधस्थल से लाइव (31 दिसंबर 2018)


प्रसाद ग्रहण

आचार्य जी के समक्ष
अपने जीवन के प्रश्नों को रखने के पश्यात,
सभी प्रतिभागियों ने एक साथ, प्रेमपूर्वक प्रसाद ग्रहण किया,
कुछ झलकियाँ:

 

This slideshow requires JavaScript.


स्टूडियो कबीर की भजन-प्रस्तुति

भोजन के बाद
सभी प्रतिभागीयों को स्टूडियो कबीर के साथ
रमने का अवसर प्राप्त हुआ,
अनुश्री मिश्राजी के नेतृत्व में
स्टूडियो कबीर के सभी सदस्यों ने
संत कबीर, संत पलटूदास, बाबा बुल्लेशाह व मीराबाई के
विभिन्न भजनों से समां बांधा।

SK-1

प्रस्तुति की एक झलक:

 

विडियो में गाया गया भजन:

डग मग छाड़ि दे मन बौरा

अब तो जरे – बरे बनी आवै,
लिन्हों हाथ सिंधौरा।

डग-मग, डग-मग….

होए निशंक, मगन होए नाचो,
लोभ-मोह, भ्रम छाड़ो।
शूरा कहा मरन ते डरपै,
सति न संचय भांड़ौ।।

डग-मग, डग-मग….

लोक लाज कुल की मर्यादा,
यहै गले की फाँसी।
आगे चलि कि पीछे लौटे,
हुईहै जग में हाँसी।।

डग-मग, डग-मग….

यह संसार सकल है मैला,
राम गहै ते सूचा।
कहैं  कबीर राम नहीं छाड़ो,
गिरत परत चढ़ि ऊँचा।।

डग-मग, डग-मग….

~ गुरु कबीर साहब

पूरा भजन सत्र देखें:
नव वर्ष पर स्टूडियो कबीर प्रस्तुति ||अद्वैत बोधस्थल, ग्रेटर नोएडा से लाइव (31 दिसंबर 2018)


दीप प्रज्जवलन समारोह

संतो के वचनों को समयातीत शायद इसलिए ही कहा जाता होगा
क्योंकि उनके संग समय का पता ही नहीं चलता!

रमते-रमते, भजते-भजते, घड़ी की दोनों सुईं बारह पर थी,
और नए साल की शुरुआत
आचार्य जी के संग दीप प्रज्जवलन समारोह के साथ हुई,
समारोह की एक झलक:

 

पूरा समारोह देखें:
दीप प्रज्जवलन समारोह, अद्वैत बोधस्थल से लाइव (31 दिसंबर 2018)


~ और इस तरह अद्वैत परिवार ने आचार्य जी के सान्निध्य में व ईश्वर के आशीर्वाद के साथ नव वर्ष का स्वागत किया ~

(आचार्य जी के नवीन लेखों के बारे में जानने के लिए व उनसे मिलने का दुर्लभ अवसर प्राप्त करने हेतु यहाँ क्लिक करें)


Slide2

आचार्य प्रशांत जी की पुस्तकें व अन्य बोध-सामग्री देखने के लिए:

http://studiozero.prashantadvait.com/

Books Hindi

 

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s