किसी को सभी मूर्ख बनाते हों तो? || आचार्य प्रशांत (2018)

किसी को सभी मूर्ख बनाते हों तो

प्रश्न: आचार्य जी, एक महिला ने आपसे कुछ दिनों पहले प्रश्न किया था कि मेरे घर के लोग मुझे परेशान करते हैं, क्या करूँ? आपने उन महिला को जवाब दिया था कि और भी लोग हैं, आपको ही परेशान करने क्यों आते हैं? हमारे जीवन में भी कई बार ऐसे पल आते हैं, जहाँ लोग परेशान करने आते हैं। क्या ये मौका हम ही उन्हें दे देते हैं, जिससे उनमें ये हिम्मत आ जाती है?

आचार्य प्रशांत जी: बात हिम्मत की भी नहीं है। बात मुनाफ़े की है। सड़क पर एक हॉकर घूम रहा है, खुदरा, छोटी चीज़ों का विक्रेता। और सड़क पर बहुत लोग आ-जा रहे हैं। वो किसको पकड़ता है? वो किसके पीछे-पीछे दौड़ता है? मान लीजिये उसके पास जो माल है, वो सस्ता है, नकली है, घटिया है। पर फिर भी वो तो बेचने की ही कोशिश कर रहा है। उसे तो अपना सीमित, व्यक्तिगत स्वार्थ ही दिख रहा है। पर अपनी उस नकली चीज़ को बेचने के लिए, वो किसके पास जाकर के ललचाता है? वो किसको झांसा देते हैं? क्या सबको? नहीं। वो भी परख रहा है कि यहाँ पर कौन है जो बुद्धू बन जायेगा।

तो अगर आप ये कहते हैं कि लोग आपको बार-बार आकर बुद्धू बना जाते हैं, तो आप साफ़-साफ़ समझ लीजिये कि आप कुछ ऐसा कर रहे हैं, आप कुछ ऐसा जी रहे हैं, जिससे पूरे ज़माने को खबर लग रही है कि आपको बुद्धू बनाया जा सकता है।

देखा है न, खिलौने बेचने वाला होगा, बिंदिया बेचने वाला होगा, चश्मे बेचने वाला होगा, ये सब अपना सामान बेचने के लिये सड़क पर घूमते रहते हैं, पर ये सबके पास नहीं जाते? ये भी ख़ूब जानते हैं कि किसको झांसा दे सकते हैं। उसी के पास जाते हैं। तो ऐसा नहीं है कि बाकियों से ये डर गये।

तो बात हिम्मत की नहीं है, कि वो उनसे डर गये, इसीलिये उनके निकट नहीं गये।

वो उनके निकट इसीलिये नहीं जायेंगे, क्योंकि वो उनको समझदार देखेंगे, होशियार देखेंगे।

वो उनके निकट इसीलिए नहीं जायेंगे, क्योंकि उनको पता है कि वहाँ उनका स्वार्थ सिद्ध नहीं होगा।

उनको पता है कि उनके पास जाकर वो बेवक़ूफ़ नहीं बना पायेंगे।

तो उनके पास जाकर वो व्यर्थ की बात करेंगे ही नहीं।

इसी तरीके से, अगर आपको बहुत सारे ऐसे सन्देश आते हों, फ़ोन कॉल आते हों, कि बहुत सारे लोग आपके द्वार पर दस्तक देते हों, जो आपको पता है कि यूँही हैं, सतही, निकृष्ट कोटि के, व्यर्थ का वार्तालाप, व्यर्थ का प्रपंच करने वाले, तो आपको अपनेआप से ये प्रश्न पूछना चाहिये, “उन्हें मुझमें ऐसा क्या लगता है कि वो मेरी ओर खिंचे चले आते हैं?” क्योंकि बुद्धों की ओर तो वो जायेंगे नहीं

और ऐसा नहीं है कि उन्हें कबीर से डर लगता है। वो कबीर की ओर इसलिये नहीं जायेंगे क्योंकि उन्हें पता है कि यहाँ मेरी दाल नहीं गलेगी। कबीर के पास गये तो पता है कि यहाँ दाल नहीं गलेगी। और आपकी ओर आ जाते हैं क्योंकि उन्हें पता है कि दाल भी गलेगी, और छौंक भी लगेगा।

एक कहानी है। एक आदमी की आँख में कुछ तकलीफ़ हुई। एक आदमी की आँख में कुछ तकलीफ़ हुई, तो वो जानवरों के चिकित्सक के पास चला गया। वो जो चिकित्सक था, उसने आँख में गधे की दवाई डाल दी। क्या किया? गधे की दवाई जो होती है, तगड़ी खुराक वाली, वो डाल दी। तो जो होना लाज़मी था, वही हुआ। आँख गई फूट। जो थोड़ा बहुत दिखाई देता था, वो भी दिखना बंद हो गया। ये भागे-भागे गये नगर के न्यायधीश के पास, और उससे कहा, “देखिये बड़ा अन्याय हुआ”। तो न्यायधीश ने फ़ैसला सुनाया। उसने कहा, “तुम्हें इस अदालत की ओर से कोई राहत नहीं दी जायेगी”। तो वो आदमी बोला, “क्यों? मेरे साथ अन्याय हुआ है। मेरा नुक़सान हुआ है”।

न्यायधीश ने जवाब दिया,”तुम्हें राहत इसलिये नहीं दी जायेगी, क्योंकि ये अदालत इंसानों के लिये है, पशुओं के लिये नहीं”। तुम गधे के चिकित्सक के पास गये, क्या गधे के चिकित्सक ने तुम्हें न्यौता भेजा था? गधे के चिकित्सक के पास जाकर तुमने पहले ही दिखा दिया कि इंसान तो तुम हो ही नहीं। तुम क्या हो? गधे। और तुम गधे के चिकित्सक के पास यदि गये, तो उसमें उस चिकित्सक की कोई गलती है ही नहीं। तुम गये थे। तुम्हारी ऐसी हालत है कि तुम वहाँ खिंचे चले गये।

तुम गधे के चिकित्सक के पास गये, तो उसने तुम्हें गधा ही समझा। क्योंकि उसके पास कौन आने चाहिये? गधे ही आने चाहिये। तो उसने तुम्हें गधा जानकर, तुम्हारी आँख में गधे की दवाई डाल दी। तो उसने इसमें क्या ग़लत किया? तो हम ये कहें कि ज़माने ने हमारे साथ बुरा किया, उससे पहले हमें ये भी तो देखना होगा कि हम कैसे हैं। क्योंकि ज़माना सबका तो बुरा नहीं कर रहा।

वो जो पशु चिकित्सक था, क्या वो सबकी आँख फोड़ रहा था? वो सबकी तो आँख नहीं फोड़ रहा न। सवाल यह है कि तुम ऐसे क्यों हो जो वहाँ जाकर फंसे? वो तुम्हारे घर में घुसकर तो तुम्हारी आँख नहीं फोड़ रहा था। तुम ऐसे क्यों हो जो वहाँ जाकर फंस गये?

तो न्याय की दृष्टि से कहानी को मत देखिये। कहानी का मर्म समझिये। और बड़ी मज़ेदार कहानी है।

संवाद देखें :  किसी को सभी मूर्ख बनाते हों तो? || आचार्य प्रशांत (2018)

आचार्य प्रशांत जी की पुस्तकें व अन्य बोध-सामग्री देखने के लिए:

http://studiozero.prashantadvait.com/

Books Hindi

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s