उद्गार मौन के – परिचय

IMG-0003

नमस्कार! सुसंयोग से आप आध्यात्मिक साहित्य के एक अनूठे कोष पर आ पहुंचे हैं जो मनुष्य द्वारा पढ़े गए उच्चतम शब्दों के समकक्ष है। यह साइट 1000 से अधिक उत्कृष्टतम कोटि के आध्यात्मिक लेखों का संग्रह है। समसामयिक, किन्तु समयातीत। दैनिक जीवन से सम्बंधित, पर संसार के पार का सार लिए हुए।

इसके चार प्रमुख भाग हैं:

यहाँ आपको आचार्य प्रशान्त के माध्यम से आये हुए शब्द मिलेंगे (हाल के पोस्ट पर जाएँ)। युवा मर्मदर्शी (जीवनी पढ़ें) , जिनके शब्दयोग सत्रों, शून्य-स्मरण विधियों एवं अनहद-क्रिया उत्सवों द्वारा चहुँदिश शान्ति, बोध एवं प्रेम विस्तीर्ण हो रहे हैं। (1000+ लेखों की पूर्ण सूची पर जाएँ)

अनूठे हैं अस्तित्व के खेल। आपने प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन की शिक्षा आइ.आइ.टी (भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली) एवं आइ.आइ.एम (भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद)  से प्राप्त की। तदोपरांत आप प्रबंधक के तौर पर कुछ वर्षों तक, एवं भारतीय सिविल सेवा में कुछ सप्ताह तक रहे। परन्तु सत्य के आह्वान के समक्ष समस्त लब्धप्रतिष्ठ आकर्षण फीके पड़ जाते हैं। वर्षों की गहन आध्यात्मिक साधना के बाद आप कालातीत को समर्पित हो लिए और ‘प्राज्ञ आध्यात्मिकता द्वारा एक नयी मानवता के सृजन’ हेतु अद्वैत लाइफ़-एजुकेशन एवं अद्वैत-प्रशांत संस्थाओं की स्थापना की।

आज अद्वैत आन्दोलन के रूप में लाखों जनों के जीवन को छू रहा है। लोगों से सीधे संपर्क के अलावा इन्टरनेट आधारित अन्य माध्यमों के द्वारा भी संपृक्त होकर अद्वैत सभी के लिए बोध, शान्ति एवं प्रेम का माध्यम बन रहा है।

आप अनुग्रहीत हों!